होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /शराब घोटाले को लेकर अन्ना हजारे का केजरीवाल पर तीखा हमला, कहा- आप सत्ता के नशे में डूब गए हैं

शराब घोटाले को लेकर अन्ना हजारे का केजरीवाल पर तीखा हमला, कहा- आप सत्ता के नशे में डूब गए हैं

दिल्ली में लोकपाल आंदोलन के दौरान अन्ना हजारे और सीएम अरविंद केजरीवाल. (File Photo)

दिल्ली में लोकपाल आंदोलन के दौरान अन्ना हजारे और सीएम अरविंद केजरीवाल. (File Photo)

अन्ना हजारे ने दिल्ली के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर कहा- आप भी अन्य राजनीतिक दलों की तरह रुपये से मिलने वाली सत्ता और सत ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

अन्ना हजारे ने अपने पत्र में सीएम केजरीवाल को लिखा कि आपकी कथनी और करनी में काफी अंतर दिखता है.
आपने एक विनाशकारी शराब नीति बनाई जो महिलाओं सहित कई लोगों के जीवन को बर्बाद कर देगी.

नई दिल्ली. कभी लोकपाल बिल के लिए देशभर को अपने आंदोलन से हिला कर रख देने वाले अन्ना हजारे और अरविंद केजरीवाल के रास्ते अब कुछ अलग नजर आते हैं. लेकिन अन्ना हजारे आज भी अपने रास्ते पर चल रहे हैं और अब एक चिट्ठी के जरिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को फटकार लगाई है और उन पर सत्ता के नशे में डूबने का आरोप लगाया है. अन्ना हजारे ने ये पत्र 30 अगस्त को लिखा है और अब इसकी एक्सक्लूसिव कॉपी न्यूज 18 के पास मौजूद है.

अन्ना हजारे ने अपने पत्र में सीएम केजरीवाल को फटकारते हुए लिखा कि आप भी अन्य पार्टियों की तरह रुपये से मिलने वाली सत्ता और सत्ता से मिलने वाले रुपये के दुष्चक्र में फंसते दिख रहे हैं. ये एक बड़े आंदोलन से पैदा हुई राजनीतिक पार्टी को शोभा नहीं देता है. उन्होंने कहा कि आप नई शराब नीति लाए हैं, जिससे शराब की खपत बढ़ेगी और हर गली में ठेके खुलेंगे. ये जनता के हित में नहीं था, इससे भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलेगा. अन्ना ने कहा कि शराब जिस तरह से नशा देती है, वैसे ही सत्ता का नशा भी होता है और आप इसमें डूबे हुए दिखते हैं. अन्ना ने लिखा कि वे दिल्ली में शराब घोटालों के बारे में आ रहे समाचार और रिपोर्टों से आहत हुए हैं.

केजरीवाल की किताब के अंश लेकर किया हमला
अन्ना हजारे ने अपने पत्र में मुख्यमंत्री केजरीवाल की ओर से राजनीति में आने से पहले लिखी गई किताब स्वराज के अंशों का भी उल्लेख किया. इस किताब में केजरीवाल ने शराब से होने वाली बीमारियों के बारे में लिखा है. साथ ही शराब के चलते परिवारों के खत्म होने और गंभीर समस्याओं के जन्म लेने के बारे में भी जिक्र किया गया है. इस किताब में बताया गया है कि शराब की दुकान खोलने का लाइसेंस तब तक नहीं दिया जाना चाहिए जब तक कि ग्राम सभा से इसकी मंजूरी न मिले. वहीं मंजूरी के दौरान ग्राम सभा की बैठक में 90 प्रतिशत महिलाओं का होना जरूर हो जो इस लाइसेंस को मंजूरी दें. वहीं ग्राम सभा की बैठक में महिलाएं साधारण बहुमत से भी अपने इलाके में शराब की दुकान बंद करना सुनिश्चित कर सकती हैं.

इन अंशों को साझा करते हुए अन्ना ने लिखा, ‘ऐसा लगता है कि राजनीति में आने के बाद आप अपना दर्शन भूल गए हैं और इसलिए आपने दिल्ली के लिए ऐसी शराब नीति बनाई है. आपके शुरुआती दिनों में, आप और मनीष सिसोदिया दोनों ने महाराष्ट्र में मेरे गांव रालेगणसिद्धि का दौरा किया था, जहां हमने पिछले 35 सालों से शराब और तंबाकू की दुकानें बंद कर दी हैं. आपने इस मामले में मेरी तारीफ की थी.’

Anna Hazare writes a letter to arvind Kejriwal demanding not to give liquor license hrrm - BREAKING: अन्ना हजारे ने केजरीवाल को लिखी चिट्ठी, शराब के लाईसेंस न देने की मांग

अन्ना हजारे ने अरविंद केजरीवाल को लिखी चिट्ठी

आपकी कथनी और करनी में बड़ा अंतर
हजारे ने आगे लिखा कि दिल्ली में नई शराब नीति से पता चलता है कि केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने ऐतिहासिक भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के आदर्शों को नुकसान पहुंचाया है और अब देश के अन्य राजनीतिक दलों की तर्ज पर काम कर रहे हैं जो दुखद है. हजारे ने कहा कि केजरीवाल सीएम बनने के बाद लोकपाल और लोकायुक्त कानून के मुद्दे को भूल गए हैं, जिस पर उन्होंने भ्रष्टाचार विरोधी कार्यकर्ता के रूप में पहले बड़े भाषण दिए थे. अन्ना ने कहा कि आपने विधानसभा में मजबूत लोकायुक्त कानून बनाने का कोई प्रयास नहीं किया, लेकिन एक विनाशकारी शराब नीति बनाई जो महिलाओं सहित कई लोगों के जीवन को तबाह कर देगी. इसी के साथ अन्ना हजारे ने केजरीवाल पर कटाक्ष किया कि इन सभी बातों से पता चलता है कि आपकी कथनी और करनी में बड़ा अंतर है.

Tags: Anna Hazare, Chief Minister Arvind Kejriwal, Manish sisodia

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें