होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /

दुष्कर्म के आरोपी को ‌अग्रिम जमानत, दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा- आरोपी भी शादीशुदा और पीड़िता भी तो फिर झांसा देकर रेप कैसे

दुष्कर्म के आरोपी को ‌अग्रिम जमानत, दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा- आरोपी भी शादीशुदा और पीड़िता भी तो फिर झांसा देकर रेप कैसे

दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि आरोपी और पीड़िता संबंध में थे और एक ही कार्यस्‍थल पर काम कर रहे थे, ऐसे में मामला दबाव का प्रतीत नहीं होता. (प्रतीकात्मक फोटो)

दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि आरोपी और पीड़िता संबंध में थे और एक ही कार्यस्‍थल पर काम कर रहे थे, ऐसे में मामला दबाव का प्रतीत नहीं होता. (प्रतीकात्मक फोटो)

आरोपी की अग्रिम जमानत की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि आरोपी पहले से शादीशुदा था ऐसे में वो शादी करने में सक्षम नहीं था और पीड़िता भी शादीशुदा थी. इस स्थिति में पीड़िता को शारीरिक संबंध बनाने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. दिल्ली हाईकोर्ट ने शादी का झांसा देकर एक महिला से कथित बलात्कार के मामले में 35 वर्षीय विवाहित युवक को अग्रिम जमानत दे दी. अदालत ने कहा कि आरोपी पीड़ित से शादी करने में सक्षम नहीं था और पीड़िता खुद भी शादीशुदा थी. कोर्ट ने कहा कि ऐसे में आरोपी महिला को शारीरिक संबंध बनाने के लिए मजबूर नहीं कर सकता था. आरोपी याचिकाकर्ता की अग्रिम जमानत का विरोध करने वाले अभियोजन पक्ष ने अदालत से कहा कि उसने शादी का झूठा वादा करके बार-बार बलात्कार किया, जबकि उससे शादी करने का उसका कोई इरादा नहीं था।

वहीं याचिकाकर्ता ने दलील दी कि ‌चूंकि दोनों पक्ष विवाहित थे, इसलिए उसके लिए शादी के झूठे वादे करके यौन संबंध बनाने का कोई अवसर नहीं था. न्यायमूर्ति पूनम ए बंबा ने आठ अगस्त के अपने आदेश में कहा कि याचिकाकर्ता के तर्क में बल है कि याचिकाकर्ता एक विवाहित पुरुष होने के कारण अभियोक्ता (जो खुद विवाहित थी) से शादी करने के लिए सक्षम नहीं था और शादी के झूठे वादे पर उसे शारीरिक संबंध बनाने के लिए प्रेरित नहीं कर सकता था.

दोनों रिश्ते में थे
यह देखते हुए कि दोनों पक्ष वर्ष 2019 से एक रिश्ते में थे और एक ही कार्यक्षेत्र साझा करते थे, अदालत ने कहा कि गिरफ्तारी की स्थिति में, याचिकाकर्ता को 25,000 रुपये के निजी मुचलके और इतनी ही राशि की जमानत के साथ रिहा किया जाएगा. अदालत ने याचिकाकर्ता को जांच में शामिल होने और अभियोक्ता से संपर्क नहीं करने के लिए कहा. कोर्ट ने युवक को आदेश दिया कि जब भी उन्हें जांच में शामिल होने के लिए बुलाया जाएगा वे शामिल होंगे. साथ ही वे किसी भी तरह से पीड़ित महिला से संपर्क करने की कोशिश नहीं करेंगे.

Tags: DELHI HIGH COURT, Delhi news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर