निर्भया केस: तिहाड़ जेल में इसलिए बन रही हैं गुनहगारों के लिए चार नई सेल

निर्भया केस में फांसी के लिए तिहाड़ जेल से यूपी के डीजी जेल के पास पत्र भेजा गया है.

निर्भया गैंगरेप (Nirbhaya Gangrape) के गुनहगारों के लिए तिहाड़ जेल (Tihar Jail) में चार नई सेल का निर्माण कराया जा रहा है. यह सेल हर लिहाज से सुरक्षित होंगी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. बेशक निर्भया गैंगरेप (Nirbhaya Gangrape) केस के दोषियों की क्यूरेटिव पिटिशन (Curative petition) पर सुनवाई होना बाकी है. लेकिन डेथ वारंट (Death Warrnat) साइन होने के बाद से तिहाड़ जेल (Tihar Jail) प्रशासन फांसी की तैयारियों में लग गया है. जल्लाद (Jallad) और फांसी (Hanging) देने वाली रस्सी का इंतजाम भी कर लिया गया है. इसी के साथ किसी अनहोनी के चलते तिहाड़ जेल में चार नई सेल का निर्मााण कराया जा रहा है. यह सेल हर लिहाज से सुरक्षित होंगी. इसके पीछे एक तर्क यह भी दिया जा रहा है कि दूसरी सामान्य सेल से निर्भया के दोषी कहीं भाग न जाएं.

    बैरक नंबर तीन में बन रहे हैं चार नए सेल
    सूत्रों की मानें तो छुट्टी के दिन भी फांसी से जुड़े काम को पूरा कराया जा रहा है. वरिष्ठ अफसर भी पल-पल हर काम की जानकारी ले रहे हैं. दिन में दो से तीन बार बैरक नंबर तीन का निरीक्षण करते हैं. गौरतलब रहे कि बैरक नंबर तीन में ही चार नए सेल बनवाए जा रहे हैं. बैरक नंबर तीन में टूटा हुआ फर्श सही कराया जा रहा है. जरूरत पड़ने पर और सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं.

    चारों दोषियों पर मनोवैज्ञानिक रख रहा है नज़र
    जानकारों का कहना है कि नए सेल में कहीं भी इस तरह की कोई चीज नहीं लगाई जा रही है, जिसका इस्तेमाल हुक के तौर पर फंदा लगाने में हो सके. सूत्रों का यह भी कहना है कि विनय शर्मा जेल नंबर-4 में और अन्य तीन जेल नंबर-2 में बंद हैं. मरने से पहले इनकी बिहेवियर स्टडी भी कराई जा रही है. इसके लिए एक मनोवैज्ञानिक हर दिन इनसे बातें करते हैं. बताया जाता है कि फिलहाल इनके व्यवहार में किसी भी तरह का कोई बदलाव नजर नहीं आ रहा है. हाल ही में मुकेश की मां उससे मुलाकात करने आई थीं. हालांकि, जेल प्रशासन का कहना है कि यह अंतिम मुलाकात नहीं थी. परिवार से अंतिम मुलाकात होनी अभी बाकी है.



    इसलिए बनवाई गई हैं चार नई सेल
    जेल में बंद निर्भया गैंगरेप के दोषी कहीं किसी भी तरह से भाग ना जाएं, इसके लिए नए सेल तैयार कराए जा रहे हैं. यहां पर इन तमाम बातों का ध्यान रखा जाएगा कि कहीं ये सुरंग ना खोद लें, समय से पहले खुद जान ना दे दें या फिर इन पर कोई अन्य कैदी या जेल स्टाफ हमला ना कर दे. इसीलिए लिए जेल नंबर तीन में चार नए सेल तैयार हो रहे हैं. नए सेल फांसी के तख्ते के एकदम करीब उसी हाई सिक्योरिटी वॉर्ड में हैं, जहां कभी संसद हमले के दोषी अफजल को रखा गया था. इस सप्ताह इन्हें जेल नंबर-3 में शिफ्ट कर दिया जाएगा. हालांकि इन पर हर वक्त निगरानी होने के चलते जेल में सुरंग खोदने वाली आशंकाएं लगभग ना के बराबर हैं.

    ये भी पढ़ें:-

    दिल्ली हाईकोर्ट ने शाहीन बाग प्रदर्शन से पुलिस बेरीकेट हटाने की याचिका खारिज की
    6 बड़े मुस्लिम संगठनों ने की बैठक, JNU हमले पर कही यह बड़ी बात...

     

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.