क्या दिल्ली में भी होने वाले हैं महाराष्ट्र जैसे हालात? केजरीवाल के इस बयान के जरा मायने समझिए

मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली में कोरोना की स्थिति काबू में है और सरकार का लॉकडाउन लगाने का फिलहाल कोई विचार नहीं है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली में कोरोना की स्थिति काबू में है और सरकार का लॉकडाउन लगाने का फिलहाल कोई विचार नहीं है.

Covid Situation in Delhi: अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने कहा, 'दिल्ली में कोरोना (Covid-19) की स्थिति काबू में है और दिल्ली सरकार (Delhi Governmnt) का लॉकडाउन (Lockdown) लगाने का फिलहाल कोई विचार नहीं है. हम स्थिति पर नजर बनाए हुए है और भविष्य में जरूरत पड़ती है तो जनता से बात कर ही कोई निर्णय लिया जाएगा.'

  • Share this:
नई दिल्ली. पिछले सात दिनों से दिल्ली में कोरोना (Covid-19) की बेलगाम रफ्तार ने दिल्ली सरकार (Delhi Government) की सुस्ती को जागृत कर दिया है. गुरुवार को दिल्ली सरकार का पूरा अमला कोरोना को लेकर गंभीर रहा. कोरोना के बढ़ते केस के मद्देनजर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने एक हाईलेवल मीटिंग की. इस मीटिंग में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) और स्वास्थ्य विभाग के कई वरिष्ठ अधिकारियों ने शिरकत की. केजरीवाल ने इस बैठक में दिल्ली में हेल्थ मैनेजमेंट सिस्टम की अगले सात दिनों की पूरी योजना तैयार की. मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली में कोरोना की स्थिति काबू में है और सरकार का लॉकडाउन लगाने का फिलहाल कोई विचार नहीं है. इसके साथ ही केजरीवाल ने ये भी कहा कि हम स्थिति पर नजर बनाए हुए है और भविष्य में जरूरत पड़ती है तो जनता से बात कर ही कोई निर्णय लिया जाएगा. केजरीवाल ने ये भी कहा कि दिल्ली कोरोना की चौथी लहर का सामना कर रही है, लेकिन यह पिछली लहर से कम गंभीर है. ऐसे में सवाल यह उठता है कि अगर दिल्ली में कोरोना की यही रफ्तार रही तो केजरीवाल सरकार के पास क्या विकल्प बचेगा? क्या केजरीवाल सरकार अगले सात दिनों में दिल्लीवालों से लॉकडाउन या आशिंक लॉकडाउन को लेकर राय मांग सकती है?

केजरीवाल सरकार कोरोना को लेकर क्यों है गंभीर

गुरुवार को दिल्ली में कोरोना के 3583 नए केस सामने आए हैं. पिछले सात दिनों में सिर्फ एक दिन छोड़ दें तो अमूमन दिन हर कोरोना के नए मामले में तेजी ही आई है. दिल्ली सरकार के तमाम दावों के बावजूद कोरोना की रफ्तार दिल्ली में बेलगाम होती जा रही है. बीते 24 घंटे में दिल्ली में 14 लोगों की मौत दर्ज की गई है. नए मामलों के साथ अब दिल्ली में कुल कोरोना मामलों की संख्या बढ़कर 6,68,814 हो गई है.

lockdown in delhi, public opinion, delhi govt, arvind kejrial, coronavirus update in delhi, COVID-19, Delhi news, Delhi coronavirus update, corona case in Delhi today, दिल्ली कोरोना अपडेट, दिल्ली न्यूज, दिल्ली में आज कोरोना केस, अरविंद केजरीवाल, क्या दिल्ली में लॉकडाउन लगेगा, क्यों लॉकडाउन लगने के चांस ज्यादा हैं दिल्ली में, दिल्ली की जनता से क्या पूछा जाएगा, केजरीवाल सरकार, सत्येंद्र जैन, स्वास्थ्य विभाग
लॉकडाइन पर सीएम अरविंद केजरीवाल का बड़ा बयान.

दिल्ली में कोरोना की कौन सी लहर?

हालांकि, दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा है कि दिल्ली ने कोरोना के सबसे ज्यादा मुश्किल स्थिति का सामना किया है.  देश के लिए यह दूसरी लहर हो सकती है, लेकिन दिल्ली के लिए यह चौथी लहर है. हम सभी दिल्ली के लोग कोरोना के चौथी लहर का सामना कर रहे हैं. इस पिक में देखने को मिला है कि दिन-प्रतिदिन बड़ी तेजी से केस बढ़ते जा रहे हैं जो चिंता का विषय है, लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है.

चौथी लहर में कितनी मौतें हो रही हैं?



केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार स्थिति पर पूरी नजर रखी हुई है और जो भी उचित कदम उठाने की जरूरत है वह सभी कदम हम लोग उठा रहे हैं. डेटा के अनुसार नए केस बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं, लेकिन इस बार जो कोरोना चौथी लहर आई है यह पिछली लहर से कम गंभीर है. इसका मतलब यह है कि इस चौथी लहर में मौतें कम हो रही हैं और पिछली लहर के मुकाबले इस बार कम लोग अस्पताल में, आईसीयू में भर्ती हैं.

lockdown in delhi, public opinion, delhi govt, arvind kejrial, coronavirus update in delhi, COVID-19, Delhi news, Delhi coronavirus update, corona case in Delhi today, दिल्ली कोरोना अपडेट, दिल्ली न्यूज, दिल्ली में आज कोरोना केस, अरविंद केजरीवाल, क्या दिल्ली में लॉकडाउन लगेगा, क्यों लॉकडाउन लगने के चांस ज्यादा हैं दिल्ली में, दिल्ली की जनता से क्या पूछा जाएगा, केजरीवाल सरकार, सत्येंद्र जैन, स्वास्थ्य विभाग
रविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में अभी जो स्थिति है, उसमें सरकार का लॉकडाउन लगाने का कोई विचार नहीं है. (सांकेतिक तस्वीर)


पिछले साल से तुलना कर केजरीवाल ने क्या कहा

केजरीवाल ने कहा कि अक्टूबर के महीने में जब लगभग इतने ही तीन-चार हजार केस प्रतिदिन आ रहे थे, उस वक्त आईसीयू में लगभग 1700 मरीज थे और आज करीब 800 मरीज अस्पताल में हैं, जो पहले के मुकाबले 50 प्रतिशत कम है. उन दिनों ने जब प्रतिदिन 3-4 हजार केस आते थे तब 40 से करीब प्रतिदिन मौत हो रही थी और आज प्रतिदिन करीब 10 से 12 मौत हो रही है. अभी जो लहर आई है, वह पिछले के मुकाबले कम गंभीर है. कम लोगों को अस्पताल जाना पड़ रहा है और लोगों का होम आइसोलेशन में अच्छे से इलाज हो रहा है.

ये भी पढ़ें Covid-19 के मद्देनजर तिहाड़ सहित दिल्ली के सभी जेलों में कैदियों से मिलना-जुलना अब बंद

अगले सात दिनों में क्या होगा दिल्ली ?

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में अभी जो स्थिति है, उसमें सरकार का लॉकडाउन लगाने का कोई विचार नहीं है. हम स्थिति पर नजर रखे हुए हैं. भविष्य में अगर कभी जरूरत पड़ेगी तो दिल्ली की जनता से बातचीत करने के बाद ऐसा कोई निर्णय लिया जाएगा. लेकिन, अभी फिलहाल कोई लॉकडाउन करने का सरकार का कोई विचार नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज