Home /News /delhi-ncr /

केजरीवाल सरकार सख्त, अब Corona मरीजों को इलाज के लिए मना नहीं कर सकेंगे निजी अस्पताल

केजरीवाल सरकार सख्त, अब Corona मरीजों को इलाज के लिए मना नहीं कर सकेंगे निजी अस्पताल

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) ने शनिवार को ऐलान किया कि अब दिल्ली के निजी अस्पतालों में दिल्ली सरकार के प्रतिनिधि बैठेंगे.

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) ने शनिवार को ऐलान किया कि अब दिल्ली के निजी अस्पतालों में दिल्ली सरकार के प्रतिनिधि बैठेंगे.

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) ने शनिवार को ऐलान किया कि अब दिल्ली के निजी अस्पतालों में दिल्ली सरकार के प्रतिनिधि बैठेंगे.

    नई दिल्ली. दिल्ली के प्राइवेट अस्पताल (Private Hospitals) अब कोरोना (Coronavirus) के मरीजों का इलाज करने से इनकार नहीं कर सकते. अब सभी प्राइवेट अस्पतालों में बेड की ब्लैक मार्केटिंग पर नजर रखने के लिए सरकार के प्रतिनिधि रिसेप्शन पर बैठेंगे और मरीजों को बेड दिलाना सुनिश्चित करेंगे. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) ने शनिवार को एक बार फिर से मीडिया के सामने आ कर बड़ा ऐलान किया. केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में निजी अस्पतालों की कोरोना पर ‘ब्लैक मार्केटिंग’ नहीं चलने देंगे.

    कोरोना मरीज अब निजी अस्पताल में भी इलाज करा सकते हैं
    बता दें कि दिल्ली सरकार ने शनिवार को जो आदेश जारी किया है, उस आदेश में दिल्ली में मौजूद सभी सरकारी, गैरसरकारी और आर्मी अस्पतालों का भी जिक्र किया गया है. केजरीवाल ने कहा, 'कुछ प्राइवेट अस्पताल पहले बेड होने से इन्कार करते हैं और फिर मोटी रकम लेकर बेड की ब्लैक मार्केटिंग कर रहे हैं. यह बंद नहीं हुआ तो अब कार्रवाई भी होगी. कुछ निजी अस्पताल कोरोना के लिए बेड़ रिजर्व करने से इंकार कर रहे, वह काफी पावरफुल हैं, अन्य पार्टियों में पकड़ है, लेकिन मैं चेतावनी देता हूं कि उन्हें भी कोरोना के लिए बेड़ रिजर्व करना होगा.'



    केजरीवाल ने साफ किया कि सभी प्राइवेट अस्पताल बहुत अच्छे हैं और उनका स्वास्थ्य क्षेत्र में काफी योगदान है, लेकिन चंद लोग मनमानी कर रहे हैं. वे बहुत ताकतवर हैं और उनकी दूसरी पार्टी के अंदर पहुंच हैं. वे धमकी दे रहे हैं कि कोरोना मरीजों का इलाज नहीं करेंगे. उन्हें हर हाल में कोरोना मरीजों का इलाज करना ही पड़ेगा और यदि नहीं मानते हैं, तो सरकार उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करने से भी पीछे नहीं हटेगी.

    एप लॉन्च करने के बाद स्थिति काफी सुधरी है
    केजरीवाल ने कहा है कि पहले सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में करीब 2800 मरीज थे, लेकिन ‘दिल्ली कोरोना’ एप लांच होने के बाद प्राइवेट अस्पतालों में 1100 मरीज भर्ती हुए हैं. केजरीवाल ने डिजिटल प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि कुछ दिन पहले एक व्यक्ति मेरे पास आया और उसने बताया कि वह एक प्राइवेट अस्पताल में गया. उसने उस प्राइवेट अस्पताल में पूछा कि उसे कोरोना है, उसे कोरोना का बेड चाहिए. पहले अस्पताल ने मना कर दिया, लेकिन जब वह बहुत गिड़गिड़ाया, तब उन्होंने कहा कि 2 लाख रुपये लगेंगे.

    अभी कुछ दिन पहले एक टेलीविजन पर लाइव प्रोग्राम के दौरान एंकर ने एक अस्पताल को कॉल किया. उसने अस्पताल से पूछा कि हमारे परिवार में कोरोना का एक मरीज है, हमें बेड चाहिए. पहले अस्पताल ने मना कर दिया. जब वह गिड़गिड़ाया, तो अस्पताल ने उस लाइव प्रोग्राम के अंदर कहा कि 8 लाख रुपये दे दो, बेड का इंतजाम हो जाएगा.

    ये भी पढ़ें: 

    दिल्ली में अब नहीं होगा किसी भी बाहरी व्यक्ति का इलाज! जानें कारण...

    Tags: Arvind kejriwal, Corona cure hospital, Coronavirus Cases In India, Covid-19 Update, Covid19, Delhi news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर