बड़ी खबर: दिल्लीवालों को 24 घंटे बिजली और पानी देने की तैयारी में केजरीवाल सरकार

 मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल का बड़ा फैसला. (File)
मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल का बड़ा फैसला. (File)

सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) का कहना है कि दूसरे देश के राज्यों में 24 घंटे पानी (Water) मिलता है. उसी तरह दिल्ली में भी पानी की सप्लाई करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 26, 2020, 7:47 PM IST
  • Share this:
दिल्ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि अब दिल्ली वालों को 24 घंटे बिजली के साथ 24 घंटे पानी की सुविधा भी मिलेगी. उन्होंने कहा कि दूसरे देश के राज्यों में 24 घंटे पानी मिलता है. उसी तरह दिल्ली में भी पानी की सप्लाई करेंगे. दिल्ली में रोज 930 मिलियन गैलन पानी प्रतिदिन उत्पादन होता है. 2 करोड़ की जनसंख्या है. दिल्ली (Delhi) में हर आदमी के लिए रोजाना 176 लीटर पानी उत्पादित होता है. इसमें स्विमिंग पूल, खेती जैसे सभी का पानी आता है. हमें पानी की उपलब्धता बढ़ानी है.

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि इसके लिए यूपी, हिमाचल, उत्तराखंड की सरकारों से बात कर रहे हैं. दिल्ली में जितना पानी है, 930 एमडीजी पानी है. ये पानी कहां जाता है. ये चोरी हो जाता है. इसमें काफी पानी लीक हो जाता है. इसकी कोई अकाउंटबिलिटी नहींं है. इसका मैनेजमेंट ठीक करना है. सीएम ने कहा कि वाटर ट्रीटमंट प्लांट से 100 एमडीजी पानी बाहर निकला, तो उसकी एक बूंद की जवाबदेही होनी चाहिए. दिल्ली में पानी का मैनेजमेंट ठीक नहीं है. यह कंसलटेंट हायर कर रहे है. यह पानी की उपलब्धता और यूज करने का तरीका बताएगी.





हम बाबा आदम जमाने में जी रहे हैं: केजरीवाल
अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हम बाबा आदम के जमाने में जी रहे हैं. एक इलाके से पानी कम करके, दूसरे इलाके में पानी भेजना है, तो वाल्व की तीन चूडियां घुमाकर आता है. अब रिमोट कंट्रोल रूम से पानी भेजना होगा. जल बोर्ड में भी कई जगहों पर ऐसा हो रहा है. यह कंसलटेंट इस तकनीक के बारे में बताएगा. अब इस दिशा में काम करना शुरू कर दिया है. विपक्ष के साथी कह रहे हैं कि निजीकरण कर रहे हैं. यह गलत है. हम खुद प्राइवेटाइजेशन के खिलाफ हैं.

स्कूलों के लिहाज से अहम जानकारी

इधर, दिल्ली सरकार के स्कूलों में क्लास छठीं से नौवीं और 11वीं की कक्षाओं में प्रवेश की ऑनलाइन प्रक्रिया का दूसरे चरण शुरू हो गया है. जो अभिभावक ऑनलाइन प्रवेश  के पहले चरण में अपने बच्चों का पंजीकरण नहीं करा पाए थे, उनके लिए यह प्रक्रिया शुक्रवार से प्रारंभ हुई. ध्यान में रखने वाली बात ये है कि दूसरे चरण का यह पंजीकरण तीन अक्टूबर तक चलेगा. पहले चरण में छठीं से बारहवीं कक्षा में प्रवेश के लिए कुल 64,995 आवेदन प्राप्त हुए. इनमें 64,450 छात्रों को स्कूल आवंटित किया जा चुका हैं. प्रथम चरण के आवेदकों के दस्तावेजों के सत्यापन की प्रक्रिया जारी है. पहले चरण की प्रवेश प्रक्रिया 30 सितंबर तक पूरी होगी.

ये भी पढ़ें: MP By Election 2020: क्या किसानों का साथ तय करेगा हार-जीत का फैसला?

दूसरे चरण के आवेदन तीन अक्टूबर तक लिए जाएंगे. कक्षा नवीं और ग्यारहवीं में प्रवेश की प्रक्रिया 15 अक्टूबर तक पूरी होगी. कक्षा छठीं से आठवीं कक्षा की प्रक्रिया 26 अक्टूबर तक चलेगी. ऑनलाइन प्रवेश पंजीकरण फॉर्म जमा करने का लिंक दिल्ली सरकार की वेबसाइट www.edudel.nic.in के होम पेज पर उपलब्ध है. जिन आवेदकों ने पहले चरण में आवेदन किया है और जिन्हें स्कूल आवंटित किए हैं या जो पहले से सरकारी वित्तपोषित स्कूल में पढ़ रहे हैं, उन्हें आवेदन करने की पात्रता नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज