अपना शहर चुनें

States

दिल्‍ली में लग सकता है कर्फ्यू, केजरीवाल सरकार ने हाईकोर्ट में सौंपी रिपोर्ट

हाईकोर्ट में दिल्ली सरकार ने दी जानकारी.
हाईकोर्ट में दिल्ली सरकार ने दी जानकारी.

दिल्ली में कोरोना टेस्टिंग बढ़ाने की मांग करने वाली याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार को स्‍टेटस रिपोर्ट में उचित जानकारी नही देने पर फटकार लगाई. हाईकोर्ट ने कहा, ‘हम बेड की कुल संख्या नहीं पढ़ सकते हैं, महत्वपूर्ण जानकारी को मिटा दिया गया है, छपाई स्पष्ट नहीं है, हम इसे पढ़ नहीं सकते.’

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 26, 2020, 9:08 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना महामारी के चलते राजधानी दिल्‍ली में काफी खराब हालात हैं. ऐसे में दिल्‍ली में कर्फ्यू लगाए जाने की अटकलें भी लगाई जा रही हैं. रोजाना बढ़ते कोरोना के मामलों के साथ ही मौतों की संख्‍या में हो रहे इजाफे के बाद दिल्‍ली हाईकोर्ट में कर्फ्यू लगाने की मांग करते हुए याचिका दायर की गई. जिस पर हाईकोर्ट ने केजरीवाल सरकार से जवाब मांगा.

दिल्‍ली हाईकोर्ट को दिए जवाब में केजरीवाल सरकार ने बताया कि राजधानी में रात में या सप्‍ताह के अंत में कर्फ्यू लगाने को लेकर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है लेकिन इस पर कोविड-19 से पैदा हो रहे हालातों को देखने के बाद फैसला लिया जा सकता है.

इसके साथ ही दिल्ली में कोरोना टेस्टिंग बढ़ाने की मांग करने वाली याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार को स्‍टेटस रिपोर्ट में उचित जानकारी नही देने पर फटकार लगाई. हाईकोर्ट ने कहा, ‘हम बेड की कुल संख्या नहीं पढ़ सकते हैं, महत्वपूर्ण जानकारी को मिटा दिया गया है, छपाई स्पष्ट नहीं है, हम इसे पढ़ नहीं सकते.’




हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार से पूछा कि दिल्ली के कोविड हेल्थकेयर सेंटर में ऐसे समय में बैड क्यों खाली हैं, हेल्थकेयर सेंटर की जानकारी के विज्ञापन के लिए क्या किया गया है. इस पर दिल्ली सरकार ने कहा कि सभी जानकारियां दिल्ली फाइट कोरोना वेबसाइट पर उपलब्ध हैं. हालांकि इस पर भी हाईकोर्ट ने केजरीवाल सरकार को फटकार लगाई.

इसके साथ ही दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि शादियों का सीजन जारी है. वहां नियम न टूटे, ये सुनिश्चित करने के लिए आप क्या कर रहे हैं. नियमों के उल्लंघन की जानकारी आपको कैसे मिलती है. आकस्मिक निरीक्षण के लिए आपका क्या प्रोटोकॉल है. इसके साथ ही कोविड 19 के नियमो का जो लोग उल्लंघन कर रहे हैं और उन पर जुर्माना लगाया जा रहा है. उन पैसों का क्या हो रहा है? हाई कोर्ट ने ये भी कहा कि कई लोगो की जान जाने के बाद कोर्ट की फटकार के बाद आप ने आरटीपीसीआर टेस्ट बढ़ाया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज