LG के फैसले पर सियासत तेज, CM केजरीवाल बोले- शायद भगवान की मर्जी है कि हम पूरे देश के लोगों की सेवा करें
Delhi-Ncr News in Hindi

LG के फैसले पर सियासत तेज, CM केजरीवाल बोले- शायद भगवान की मर्जी है कि हम पूरे देश के लोगों की सेवा करें
कोरोना महामारी को लेकर दिल्ली की सियासत एक बार फिर से गर्मा गई है.

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने ट्वीट कर कहा है, 'LG साहिब के आदेश ने दिल्ली के लोगों के लिए बहुत बड़ी समस्या और चुनौती पैदा कर दी है. देशभर से आने वाले लोगों के लिए कोरोना महामारी के दौरान इलाज का इंतजाम करना बड़ी चुनौती है.'

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली में काफी महीनों बाद एक बार फिर से कोरोना महामारी (Corona Epidemic)  को लेकर राजनीतिक सियासत गर्मा गई है. सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) और एलजी अनिल बैजल (LG Anil Baijal) एक बार फिर से आमने-सामने हो गए हैं. 24 घंटे पहले दिल्ली सरकार के द्वारा लिए गए एक फैसले को एलजी ने बदल दिया है. रविवार को केजरीवाल ने फैसला लिया था कि दिल्ली सरकार के अधीन सभी सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली वालों का ही इलाज होगा, लेकिन सोमवार को अनिल बैजल ने इस फैसले को पलट दिया है. केंद्र शासित प्रदेश होने के नाते एलजी के पास अधिकार है कि वह दिल्ली सरकार के फैसले को बदल सकती है. अब इस फैसले पर अरविंद केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया की प्रतिक्रिया सामने आई है.

केजरीवाल और सिसोदिया ने एलजी के फैसले पर दी प्रतिक्रिया
अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा है, 'LG साहिब के आदेश ने दिल्ली के लोगों के लिए बहुत बड़ी समस्या और चुनौती पैदा कर दी है. देशभर से आने वाले लोगों के लिए कोरोना महामारी के दौरान इलाज का इंतज़ाम करना बड़ी चुनौती है. शायद भगवान की मर्ज़ी है कि हम पूरे देश के लोगों की सेवा करें. हम सबके इलाज का इंतज़ाम करने की कोशिश करेंगे.' अरविंद केजरीवाल के इस ट्वीट में लाचरगी और बेचारगी नजर आ रही है.





हालांकि, दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया केजरीवाल से ज्यादा आक्रामक नजर आए. सिसोदिया ने ट्वीट में कहा, 'बीजेपी की राज्य सरकारें PPE किट घोटालों और वेंटिलेटर घोटालों में व्यस्त हैं. दिल्ली सरकार सोच समझकर, ईमानदारी से इस डिज़ास्टर को मैनेज करने की कोशिश कर रही है. यह बीजेपी से देखा नहीं जा रहा इसलिए LG पर दबाव डालकर घटिया राजनीति की है.'

दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है
आपको बता दें कि दिल्ली में बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच रविवार को दिल्ली कैबिनेट ने फैसला लिया था कि दिल्ली सरकार के सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में केवल दिल्ली के निवासियों का इलाज होगा. जबकि केंद्र सरकार के अस्पतालों में सभी इलाज करा सकते हैं. सीएम अरविंद केजरीवाल ने रविवार को कहा था कि कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण और स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी सुविधाओं पर सलाह देने के लिए उनकी सरकार ने एक कमेटी गठित की थी. उन्‍होंने बताया कि कमेटी ने जून के अंत तक 15,000 बेड उपलब्‍ध कराने की सिफारिश की है. इसके अलावा वर्मा कमेटी ने दिल्‍ली के अस्‍पतालों के बेड को दिल्‍ली के निवासियों के लिए सुरक्षित करने की भी सिफारिश की है.

केजरीवाल ने साफ किया था कि कोरोना संकट तक दिल्‍ली के सभी सरकारी और निजी अस्‍पतालों के बेड भी दिल्‍ली वालों के लिए सुरक्षित रहेंगे. हालांकि उन्‍होंने यह भी कहा कि कुछ स्पेशल निजी अस्पताल में लोग देशभर से आकर सर्जरी करवाते हैं वो सभी के लिए खुले रहेंगे.

दिल्ली में एलजी और आप सरकार के तकरार पर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अनिल चौधरी ने तंज कसा है. चौधरी ने कहा है कि दोनों के बीच निरंतर तालमेल है तो अब इसे बदलने का निर्णय कैसे लिया गया? क्या आप और बीजेपी सरकारें एक दूसरे की नाकामियां छिपाने में लगे हैं. दोनों ही लोगों की जान बचाने में नाकामयाब रही हैं.

ये भी पढ़ें: 

LG अनिल बैजल ने पलटा केजरीवाल सरकार का फैसला, कहा- कोई भी करा सकता है दिल्ली में इलाज
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading