लाइव टीवी

केजरीवाल के सभी मंत्री जीते, जानें दूसरे विधानसभा चुनावों से कैसे अलग है ये रिकॉर्ड
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: February 11, 2020, 6:45 PM IST
केजरीवाल के सभी मंत्री जीते, जानें दूसरे विधानसभा चुनावों से कैसे अलग है ये रिकॉर्ड
केजरीवाल के सभी मंत्रियों ने चुनावों में जीत हासिल की है. फोटो; पीटीआई

दिल्ली के वोटर्स ने एक बार फिर से आप की झोली में बंपर सीटें डाल दी हैं. यही कारण है कि अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) के सभी मंत्री चुनाव जीत गए हैं. कई राज्यों में हाल में हुए विधानसभा चुनावों (Assembly elections) पर नजर डालें तो देखेंगे कि भले पार्टी की सत्ता में वापसी हो गई हो, लेकिन उसके बड़े बड़े मंत्रियों को हार का सामना करना पड़ा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 11, 2020, 6:45 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली विधानसभा चुनावों (Delhi assembly election 2020) में एक बार फिर से आम आदमी पार्टी की जीत हुई है. लगातार तीसरी बार आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) दिल्ली में सरकार बनाने जा रही है. दिल्ली के वोटर्स ने एक बार फिर से आप की झोली में बंपर सीटें डाल दी हैं. यही कारण है कि अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) के सभी मंत्री चुनाव जीत गए हैं. कई राज्यों में हाल में हुए विधानसभा चुनावों (Assembly elections) पर नजर डालें तो देखेंगे कि भले पार्टी की सत्ता में वापसी हो गई हो, लेकिन उसके बड़े बड़े मंत्रियों को हार का सामना करना पड़ा है. लेकिन दिल्ली विधानसभा (Delhi Election) का चुनाव इस मामले में अपवाद है. यहां पर सभी मंत्री चुनाव जीत गए हैं.

आम आदमी पार्टी के सबसे ताकतवर मंत्रियों में शुमार मनीष सिसोदिया, गोपाल राय पटपड़गंज और बाबरपुर से चुनाव जीत गए हैं. ग्रेटर कैलाश से सौरभ भारद्वाज भी अपना चुनाव जीत चुके हैं. स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन शकूर बस्ती से अपना चुनाव जीत गए हैं. खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री इमरान हुसैन भी चुनाव जीत गए हैं. कैबिनेट मंत्री राजेंद्र पाल गौतम सीमापुरी से अपना चुनाव जीत गए हैं. कड़े मुकाबले की सीट मानी जा रही नजफगढ़ में भी आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार और ट्रांसपोर्ट मंत्री कैलाश गहलोत भी जीत गए हैं.

त्रिनगर सीट पर कानून मंत्री जितेंद्र सिंह तोमर की जगह उनकी पत्नी मैदान में उतरी थीं, वह भी चुनाव जीत गई हैं. जितेंद्र सिंह तोमर फर्जी मार्कशीट मामले में दोषी पाए गए.

मनीष सिसोदिया की सांस फूली

आम आदमी पार्टी को भले चुनाव में बड़ी जीत मिली हो, लेकिन उसके सबसे ताकतवर मंत्री और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का चुनाव फंस गया था. वह काफी देर तक अपनी सीट पर बीजेपी उम्मीदवार से पीछे चल रहे थे. सिसोदिया आखिरी चरण में आकर जीते, उनकी जीत का अंतर भी काफी कम रहा. उन्होंने बीजेपी के रविंद्र नेगी के खिलाफ सिर्फ 3000 वोट से जीत हासिल की.

बाकी के राज्यों में बड़ी संख्या में हारे मंत्री
इससे पहले हुए महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड के विधानसभा चुनावों में बड़ी संख्या में मंत्री हारे थे. हरियाणा में भले बीजेपी की सत्ता में वापसी हो गई, लेकिन सरकार में दूसरे नंबर की हैसियत रखने वाले नेता और वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु चुनाव हार गए थे. झारखंड में तो सरकार के मंत्री के साथ साथ खुद मुख्यमंत्री रघुवरदास भी अपना चुनाव नहीं बचा पाए थे. इसी तरह महाराष्ट्र में बीजेपी दूसरी बार सबसे बड़ी पार्टी बनी, लेकिन उसके भी कई मंत्री चुनाव हार गए. राज्य में मंत्री रहीं पंकजा मुंड भी अपना चुनाव नहीं बचा पाईं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 11, 2020, 3:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर