Home /News /delhi-ncr /

Ayodhya Verdict: बाबरी मस्जिद पर शिया वक्फ बोर्ड का ये था दावा, आज सुप्रीम कोर्ट ने कर दिया खारिज

Ayodhya Verdict: बाबरी मस्जिद पर शिया वक्फ बोर्ड का ये था दावा, आज सुप्रीम कोर्ट ने कर दिया खारिज

शिया वक्फ बोर्ड (shia waqf board) की ओर से चेयरमैन सैयद वसीम रिजवी (Waseem Rizvi) ने कहा था कि साक्ष्यों के अधार पर बाबरी मस्जिद (babri masjid) शिया वक्फ बोर्ड के अधीन है. यह बात अलग है कि पिछले 71 बरस में शिया वक्फ बोर्ड की तरफ से इस पर दावा नहीं किया गया.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. बाबरी मस्जिद (babri masjid) मामले में शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड  (shia Central waqf board) ने भी अपना दावा किया था. इस दावे के साथ ही शिया वक्फ बोर्ड अयोध्या विवाद (ayodhya dispute) में नया पक्ष बनकर सामने आया था. इस संबंध में बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में याचिका भी दाखिल की थी. लेकिन आज (09 नवंबर) अयोध्या विवाद पर बड़े फैसले से पहले सुप्रीम कोर्ट ने शिया वक्फ बोर्ड के दावे को खारिज करते हुए उसकी याचिका (Pitition) खारिज कर दी है.

    ये था शिया वक्फ बोर्ड का दावा
    शिया वक्फ बोर्ड की ओर से दावा करते हुए बोर्ड के चेयरमैन सैयद वसीम रिजवी ने कहा था कि साक्ष्यों के आधार पर बाबरी मस्जिद शिया वक्फ के अधीन है. यह बात अलग है कि पिछले 71 बरस में शिया वक्फ बोर्ड की तरफ से इस पर दावा नहीं किया गया. उन्होंने कहा था कि मस्जिद मीर बाकी (बाबरी मस्जिद) शिया वक्फ के तहत आती है.

    शिया वक्फ बोर्ड ने लगाए थे ये आरोप
    शिया वक्फ बोर्ड की ओर से बोर्ड चेयरमैन सैयद वसीम रिजवी ने आरोप लगाते हुए कहा था कि मस्जिद मीर बाकी (बाबरी मस्जिद) शिया वक्फ के तहत आती है. बोर्ड का आरोप था कि वर्ष 1946 में मस्जिद के प्रकरण में शिया वक्फ बोर्ड की भूमिका संदिग्ध रही है. बोर्ड के चेयरमैन ने आरोप लगाया कि इस मामले में कुछ खेल हुआ है. यही वजह है कि आज तक अलग-अलग कोर्ट में चल रहे इससे संबंधित मुकदमों में शिया वक्फ बोर्ड की तरफ से अपना पक्ष नहीं रखा गया.

    मीर बाकी के शिया होने का किया था दावा
    वसीम रिजवी ने उस वक्त दावा करते हुए कहा था कि मीर बाकी शिया थे. उनके परिवार वाले ही इसके मुतवल्ली बनते रहे, जिससे यह बात साफ होती है कि बाबरी मस्जिद शिया वक्फ बोर्ड की थी. यही नहीं मस्जिद से जुड़े दस्तावेज भी ये ही गवाही देते हैं. रिजवी का आरोप था कि तत्कालीन जिम्मेदारों ने सुन्नी वक्फ बोर्ड से मुकदमा हार कर बाबरी मस्जिद को शिया से सुन्नी वक्फ बोर्ड में दर्ज करवा दिया.

    ये भी पढ़ें.

    उम्र 19 साल और मुकदमे 175, जी हां, ये है पुणे पुलिस के लिए सिरदर्द बना करोड़पति चोर
    Delhi Air Pollution: ऑड-इवन में इस एक गलती के लिए चुकाने पड़े 61 लाख रुपये
    सिर्फ अयोध्या केस ही नहीं, सुप्रीम कोर्ट को चार दिन में सुनाने हैं ये सात अहम फैसले

    Tags: Babri Masjid Demolition Case, Ram Mandir Dispute, Shia waqf board, Supreme court of india

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर