होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /

दिल्ली में 1 महीने के लिए खुले में कूड़ा जलाने पर बैन, गोपाल राय ने पराली पर केंद्र को फिर लिखी चिट्ठी

दिल्ली में 1 महीने के लिए खुले में कूड़ा जलाने पर बैन, गोपाल राय ने पराली पर केंद्र को फिर लिखी चिट्ठी

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने पराली के मुद्दे पर आपात बैठक बुलाने के लिए केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव को पत्र लिखा है.

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने पराली के मुद्दे पर आपात बैठक बुलाने के लिए केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव को पत्र लिखा है.

Delhi Air Pollution: दिल्ली में वायु प्रदूषण दिवाली के बाद से कम होने की उम्मीद थी, लेकिन प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ता ही जा रहा है. आलम यह है कि गुरुवार को दिल्ली में एक एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) का लेवल 400 के आंकड़े को पार कर गया. आज यानि गुरुवार से दिल्ली सरकार ने 1 महीने के लिए खुले में कूड़ा जलाने पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया है, जिसके लिए 550 टीमें भी लगाई हैं, इसी अभियान की शुरुआत के लिए दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय पूर्वी दिल्ली के गाज़ीपुर स्थित लैंड फील्ड साइट पर पहुंचे और निगम को इस साइट पर आग ना लगे इसके लिए एक्शन प्लान बनाने के आदेश भी दिये.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय (Gopal Rai)  ने केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव (Bhupendra Yadav) को पत्र लिखकर पराली जलाने (Stubble Burning) के मुद्दे पर चर्चा करने के लिए दिल्ली के सभी पड़ोसी राज्यों के पर्यावरण मंत्रियों के साथ एक आपात बैठक (Emergency Meeting) बुलाने का अनुरोध किया है. केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव को गोपाल राय का यह दूसरा पत्र है.

पराली पर इमरजेंसी मीटिंग बुलाने को लेकर दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने केंद्र से फिर गुहार लगाई है. इसके साथ ही दिल्ली में खुले में कूड़ा जलाने पर आज यानि 11 नवंबर से 1 महीने तक पूरी तरफ़ से प्रतिबंध लगा दिया गया है.

दिल्ली में प्रदूषण दिवाली के बाद से कम होने की उम्मीद थी, लेकिन वायु प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ता ही जा रहा है. गुरुवार को दिल्ली में एक हवा गुणवत्ता सूचकांक (AQI) लेवल 400 के आंकड़े को पार कर गया. आज यानि गुरुवार से दिल्ली सरकार ने 1 महीने के किये खुले में कूड़ा जलाने को पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया है. इसके लिए 550 टीमें भी बनाई गई हैं, जो इसकी निगरानी करेंगी. इसी अभियान की शुरुआत के लिए दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय पूर्वी दिल्ली के गाज़ीपुर स्थित लैंड फील्ड साइट पर पहुंचे और निगम को इस साइट पर आग ना लगे, इसके लिए एक्शन प्लान बनाने के आदेश भी दिये.

पराली दिल्ली वाले नहीं जलाते, लेकिन भुगतना उन्हें पड़ता है: गोपाल राय

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि सबको समझ आ रहा है. सभी आकलन से पता लग रहा है कि दिल्ली के अंदर का जो प्रदूषण है, वह तो है ही पर पराली की घटनाएं जिस जगह से तेजी से बढ़ रही हैं, उसका असर पड़ रहा है. आज धूप नहीं निकली और हवा नहीं चल रही. इसलिए पराली का धुआं जो है चारों तरफ फैला हुआ है. आज पराली ऐसा फ़ैक्टर बना हुआ है जो दिल्ली वाले नहीं जलाते और भुगतना दिल्ली को पड़ रहा है.

राजधानी में खुले में कूड़ा जलाने पर रोक 

गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली के अंदर पार्क हो या खुले में जो कूड़ा जलता है यहां कूड़े का पहाड़ में आग लग जाती है हर साल वह नियंत्रित रहे ताकि ज्यादा धुंआ ना पहले हम अपने हिस्से का प्रयास कर रहे हैं. चाहे वह वाहनों से निकलने का धुआं हो डस्ट का हो या फिर आग लगने की घटनाएं हो, इसके लिए हमने निगम को एक्शन प्लान बनाने को भी कहा है ताकि ऐसी आग लगे नहीं और आग लगती है तो उसे रोका जा सके हमने इसके लिए 550 टीमें बनाई हैं जो खुले में कूड़ा जलने की घटनाओं पर निगरानी रखेगी.

केंद्र सरकार को पराली पर आपात बैठक बुलाने के लिए पत्र लिखा है

हमने इसलिए पर्यावरण मंत्री को चिट्ठी लिखी थी, ताकि केंद्र एक मीटिंग बुलाए पराली की घटना को रोकने के लिए दूसरे राज्यों से मीटिंग हो, लेकिन अभी तक कोई जवाब नहीं आया. आज फिर हम उसी को लेकर चिट्ठी लिखने जा रहे हैं. जरूरत मीटिंग बुलाने की है, जिसकी पहल केंद्र सरकार को करनी चाहिए. इमरजेंसी कदम तो जब एक्सपर्ट्स कहेंगे तब सरकार सोचेगी लेकिन हमारा अभी फोकस पराली के प्रदूषण को कम करना है जिसके लिए हम केंद्र से गुहार लगा रहे हैं. अभी प्रदूषण बाहर से है ऑड ईवन जो है वो अन्दर के पॉल्यूशन को रोकता है.

Tags: Air pollution delhi, Delhi air pollution

अगली ख़बर