Online Fraud करने को इस महिला से किराए पर अकाउंट लेते थे इंटरनेशनल गैंग
Agra News in Hindi

Online Fraud करने को इस महिला से किराए पर अकाउंट लेते थे इंटरनेशनल गैंग
Demo Pic.

साइबर पुलिस (Cyber Police) ने एक ऐसी महिला को गिरफ्तार किया है जो ऑनलाइन फ्रॉड करने वालों को किराए पर बैंक अकाउंट (Bank Account) दिलाती थी. महिला के कई इंटरनेशनल गैंग्स (International Gangs) से संपर्क करने की बात भी सामने आई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 18, 2020, 12:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में साइबर क्राइम (Cyber Crime) के केस बढ़ते ही जा रहे हैं. इसमें एक बड़ी संख्या ऑनलाइन फ्रॉड (Online Fraud) की है. बिना कॉर्ड और ओटीपी (OTP) नंबर के बैंक खाते से रुपए निकल जाते हैं. न पुलिस और न ही बैंक रुपयों की रिकवरी कर पाते हैं. लेकिन हाल ही में यूपी की साइबर पुलिस (UP Cyber Police) ने एक ऐसी महिला को गिरफ्तार किया है जो ऑनलाइन फ्रॉड करने वालों को किराए पर बैंक अकाउंट (Bank Account) दिलाती थी. महिला के कई इंटरनेशनल गैंग्स (International Gangs) के साथ संपर्क होने का भी पता चला है. आरोपी महिला गाजियाबाद की रहने वाली है.

आईजी ज़ोन आगरा की साइबर पुलिस ने एक इंटरनेशनल गैंग का खुलासा किया है. यह गैंग ऑनलाइन फ्रॉड कर लोगों के बैंक खाते से पैसे निकाल लेता था. उस पैसे को भारत में ही मौजूद दूसरे बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर लेता था. इंस्पेक्टर शैलेश कुमार सिंह ने बताया कि इंटरनेशनल गैंग को बैंक अकाउंट दिलाने का काम गाज़ियाबाद की महिला तरुन यादव करती थी. पुलिस को कई बड़े इंटरनेशनल गैंग्स के साथ महिला के जुड़े होने की जानकारी मिली है.

ये भी पढ़ें- UP में लापरवाह पुलिसकर्मियों को सजा देने का इस अफसर ने निकाला यह अनोखा तरीका



काम की खबरः बिना कार्ड और OTP के हैकर ऐसे निकाल रहे हैं आपके अकाउंट से पैसे
फ्रॉड की कुल रकम का 15 फीसदी लेती है तरुन

पुलिस को पूछताछ में तरुन यादव ने बताया कि एक फ्रॉड केस करने में गैंग को जितने भी बैंक अकाउंट की जरूरत पड़ती थी, वो उपलब्ध कराती थी. इसके बदले में उसे फ्रॉड की गई कुल रकम का 15 फीसदी मिलता था. अगर किसी अकाउंट होल्डर को सीधे गैंग से मिलवाती थी तो यह रकम 7 और 8 फीसद में बंट जाती थी.

Bank account, online fraud, indian women, international gang, cyber gang, UP Police, cyber Police, Nigeria, gurugram, IVF, बैंक खाता, ऑनलाइन धोखाधड़ी, भारतीय महिलाएं, अंतर्राष्ट्रीय गिरोह, साइबर गिरोह, यूपी पुलिस, साइबर पुलिस, नाइजीरिया, गुरुग्राम, आईवीएफ
Demo Pic.


खुलासा होने पर बन गई महिला से पुरुष

इंस्पेक्टर शैलेश कुमार सिंह के मुताबिक तरुन यादव एक महिला है. साइबर क्रिमिनल को बैंक अकाउंट किराए पर देने का काम वो एक लंबे वक्त से कर रही है. इस दौरान उसकी पहचान का खुलासा पुलिस के रिकॉर्ड में हो गया. पुलिस से बचने के लिए तरुन ने कई ऑपरेशन करा लिए. महिला से पुरुष बन गई. इतना ही नहीं चांदनी नाम की एक लड़की से शादी भी कर ली. आईवीएफ तकनीक से पत्नी को एक बेटा भी हो गया.

नाईजीरिया का है पकड़ा गया गैंग

साइबर पुलिस ने जिस गैंग को पकड़ा है उसकी लीडर जॉन स्टेन्ले नाइजीरिया का है. लीडर नाइजीरिया में ही रहता है. उसके आदमी दिल्ली और गड़गांव में रहकर गैंग को चलाते हैं. गैंग के सिर्फ एक आदमी संडे की बात लीडर से होती है. पुलिस ने बताया इस गैंग की जगह जो पहले गैंग था वो 50 करोड़ रुपये से ज़्यादा की रकम का फ्रॉड कर अब भारत से जा चुका है. उसकी जगह अब स्टेन्ले गैंग को चला रहा है. हर नया आने वाला गैंग लीडर तरुन को अपने साथ जोड़ लेता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज