Fraud: बिना मकान के जालसाज़ों ने कागजों पर ऐसे लिया करोड़ों रुपये का लोन

बिना मकान और फर्जी कागजों के आधार पर करोड़ों रुपये का लोन लिया गया है.
बिना मकान और फर्जी कागजों के आधार पर करोड़ों रुपये का लोन लिया गया है.

जब तक फाइनेंस करने वाली कंपनी को इनके बारे में पता चला, यह फरार हो गए. अब दो साल के बाद पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार किया है. फाइनेंस कंपनी ने इनके खिलाफ एफआईआर (FIR) दर्ज कराई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 15, 2020, 8:18 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की आर्थिक अपराध शाखा ने जालसाजी (Fraud) के आरोप में 3 लोगों को नोएडा (Noida) से गिरफ्तार किया है. जालसाजों पर आरोप है कि उन्होंने प्रॉपर्टी के दस्तावेज दिखाकर करोड़ों रुपये का लोन (Loan) लिया है. यह लोन भी एक नहीं दो बार में लिया गया है. बावजूद इसके यह जल्द ही पकड़ में नहीं आए. लेकिन जब तक फाइनेंस करने वाली कंपनी को इनके बारे में पता चला, यह फरार हो गए. अब दो साल के बाद पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार किया है. फाइनेंस कंपनी ने इनके खिलाफ एफआईआर (FIR) दर्ज कराई है.

ऐसे लिया बिना मकान के प्रॉपर्टी पर लोन

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक आरोपियों ने चोलामंडलम फाइनेंस कंपनी से पहले 55 लाख रुपये का लोन लिया था. उसके बाद फिर से दो करोड़, 56 लाख का लोन ले लिया. और मजे की बात यह है कि यह दोनों ही लोन एक ही प्रॉपर्टी के कागज पर लिए गए. लेकिन उससे भी ज़्यादा हैरान करने वाली बात यह है कि जिस प्रॉपर्टी पर यह लोन लिया गया वो थी ही नहीं.



ये भी पढे़ं-Delhi में एक हफ्ते तक इसलिए बिगड़ा रहेगा Air pollution, मौसम विभाग ने दी यह चेतावनी
अगला झटका चोलामंडलम फाइनेंस कंपनी को तब लगा जब यह पता चला कि वो कागज भी फर्जी हैं. इस फर्जीवाड़े को अंजाम देने का आरोप रोहित भूटान और सुभाष भूटान पर लगा है. इनके साथ एक महिला को भी गिरफ्तार किया गया है.

 एयर इंडिया में नौकरी के नाम पर ऐसे लगाया 60 लाख का चूना

दक्षिण पश्चिम जिले की साइबर सेल ने एयर इंडिया के नाम पर चल रहे फर्जी जॉब रैकेट का भंडाफोड़ किया है. इस रैकेट के एक महिला समेत 3 लोगों को गिरफ्तार किया है. यह लोग फर्जी कॉल सेंटर के जरिए अब तक 100 से ज्यादा लोगों को अपनी जालसाजी का शिकार बना चुके हैं. ये गैंग नौकरी पाने वालों को WWW.SHINE.COM के जरिए फंसाते थे.

इन आरोपियों ने लाखों रुपए की धोखाधड़ी को अंजाम दिया है. फर्जी आधार कार्ड पर 12 बैंक खातों की पहचान भी हुई है. मोबाइल फोन, चेकबुक और डेबिड कार्ड भी बरामद किए गए हैं. ये कॉल सेंटर नोएडा से चलाया जा रहा था. इस गैंग में महिला खुद एचआर बनकर लोगों को पैसा खातों में डलवाने के लिए बोलती थी. जब्त खातों में से लगभग 60 लाख की रकम क्रेडिट की गई है जबकि 47 हज़ार फ्रीज कर दिए गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज