Home /News /delhi-ncr /

बाटला हाउस एनकाउंटर: मौलाना तौकीर रजा खां पर करनैल सिंह का पलटवार, कहा- वोट बैंक की राजनीति न करें

बाटला हाउस एनकाउंटर: मौलाना तौकीर रजा खां पर करनैल सिंह का पलटवार, कहा- वोट बैंक की राजनीति न करें

करनैल सिंह ने कहा कि हमारे देश मे एक नेशनल पॉलिसी होनी चाहिए

करनैल सिंह ने कहा कि हमारे देश मे एक नेशनल पॉलिसी होनी चाहिए

Batla House Encounter: करनैल सिंह ने कहा कि ऐसे बयान मोहन चंद शर्मा के परिवार के लिए भी दुखद हैं. उन्होंने कहा कि फायरिंग के दौरान अगर आतंकी मारा जाता है तो इसमे पुलिस का क्या दोष है. वो देश की हिफाजत के लिए आतंकी का सामना करता है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. ‘बाटला हाउस एनकाउंटर’ किताब में कई राज खोलने वाले ईडी के पूर्व डायरेक्टर और इस एनकाउंटर के समय दिल्‍ली पुलिस के ज्‍वांइट कमिश्नर रहे करनैल सिंह (Karnail Singh) एक इंटरव्यू के दौरान रो पड़े. करनैल सिंह ने कहा कि मोहन चंद शर्मा पर मौलाना तौकीर रजा खां ने जिस तरह का बयान दिया है ये बहुत दुखद है. हमारे देश में कुछ सेक्शन ऐसा नेताओं का है जो वोट बैंक की राजनीति (Vote Bank Politics) खेलते हैं. 2008 विधानसभा चुनाव के वक्त भी ऐसा बयान दिया गया था. बाटला हाउस को लेकर ऐसा बयान उस समय दिया गया था जब पांच राज्यों में चुनाव होना था.

करनैल सिंह ने कहा कि हमारे देश मे एक नेशनल पॉलिसी होनी चाहिए. बाटला हाउस की जांच क्राइम ब्रांच ने की थी. कोर्ट ने आतंकियों को सजा दी है. हमने मोहन चंद शर्मा अपना एक सबसे बेस्ट ऑफिसर खोया है. ये देश के लिए अच्छा नहीं है. ये उन फाइटर के लिए अच्छा नहीं है जो देश के लिए अपनी जान की बाजी लगा देते हैं. मोहन चंद शर्मा का पोस्टमार्टम हुआ था. आतंकी की गोली मैच हुई है. वही गोली मोहन चंद शर्मा को लगी थी.

एनएचआरसी NHRC, हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट तक ने इनकाउंटर को सही माना. उसके बाबजूद वोट बैंक के लिये ऐसा बयान दिया जाता है. ये पाकिस्तान ISI का ऑपरेशन था. इस सब के पीछे बटला हाउस में आतंकी को भेजना सब जानते हैं. एक के बाद एक उस वक्त आतंकी ब्लास्ट कर रहे थे. देश मे यूपी, दिल्ली और गुजरात में तब हमने ये लीड पर काम करना शुरू किया. वो मोहन चंद शर्मा ही थे जिन्होंने आतिफ को जीरो डाउन किया जो बटला हाउस में छुपा था.

करनैल सिंह ने कहा कि इस एनकाउंटर में मोहन चंद शर्मा जान हथेली पर लेकर अपने देश के लिए लड़ रहा था. वो दिन मुझे याद है उस दिन तत्कालीन ग्रह मंत्री पुलिस हेडक्वार्टर में एक कार्यक्रम में आए थे. उसी वक्त मेरी टीम बटला हाउस जा रही थी. मैंने सीपी से अपने डीएसपी के साथ मौके पर जाने की परमिशन ली. मोहन चंद शर्मा का फोन आया था कि आतंकी छुपे हैं. मैंने शर्म को बेस्ट ऑफ लक कहा था.

फिर कुछ देर बाद एसीपी संजीव यादव का रोते हुए फोन आया कि मोहन को गोली लग गई. मैंने और फोर्स भेजी और मौके पर खुद रवाना हुआ. हमने फिर फायरिंग की और आतंकी मार गिराए. कुछ आतंकी पकड़े भी. मुझे अस्पताल का मंजर याद है जब संजय दत्त ने बताया कि अब मोहन चंद शर्मा नहीं बचेंगे, उनकी हालत बहुत खराब है. मैं जब मोहन चंद शर्मा के कमरे में गया जब तक शर्मा नहीं रहे. मोहन चंद शर्मा की फैमिली के लिए भी दुखद है ऐसे बयान आते है जब फायरिंग के दौरान अगर आतंकी मारा जाता है तो उसमें पुलिस का क्या दोष है वो देश की हिफाजत के लिए आतंकी का सामना करता है.

Tags: 2008 Batla House encounter, Delhi news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर