अपना शहर चुनें

States

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने अफसरों को कहा 'थैंक्यू', जानें वजह

पीएम ने कहा -
पीएम ने कहा -" समर्पित टीम के बगैर सफलता संभव नहीं"

पीएम ने कहा बिना समर्पित टीम के परिणाम मिलना मुश्किल, अधिकारियों की टीम ने अपेक्षा से बेहतर परिणाम दिया.

  • Share this:
केंद्र में पुरानी सरकार भंग हो चुकी है और नई सरकार बनने की प्रक्रिया शुरू हो गयी है. ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने कार्यालय के अधिकारियों से मुलाक़ात की और उन्हें संबोधित किया और अधिकारियों की जमकर तारीफ की.

नौकरशाही को अंकुश में रखने के लिए मशहूर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आप लोगों ने मेरी अपेक्षाओं से ज्यादा परिणाम दिए. आपके भरोसे से मुझे काम करने की प्रेरणा मिली. मुझे बीते 5 सालों में बहुत कुछ सीखने का मौका मिला.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोई भी परिणाम तब तक नहीं मिलता, जब तक कोई समर्पित टीम नहीं मिलती है. सपने कितने ही सुहाने क्यों न हों, तब तक परे नहीं होते जब तक साथियों की सोच काम को लेकर एक जैसी नहीं होती है.



प्रधानमंत्री ने कहा, देश के सभी कामों का क्रेडिट तो पीएम को मिलता है. टीवी-अखबार में पीएम दिखता है, तारीफ भी पीएम को मिलती है, लेकिन जब तक कोई समर्पित टीम नहीं होती है, तब तक सपने कितने ही सुहाने और संकल्प कितने ही दृढ़ क्यों न हों, इरादे कितने ही नेक क्यों न हों,परिणाम मिलना मुश्किल होता है. परिणाम तब मिलता है, जब पीएम की सोच और साथियों की सोच एक साथ मिलती हो. पीएम जो भी विचार रखें, वह तो 10-15 मिनट में ही रखे जाते हैं, लेकिन उस एक लाइन को पकड़कर नीति का रूप देना एक लंबी प्रक्रिया होती है. यह सब टीम के बिना संभव नहीं होता है.
नरेंद्र मोदी ने कहा, 'पांच साल तक जिस इरादे से 2014 में चले थे 2019 तक हमने अपने मार्ग में जरा भी भटकाव नहीं आने दिया. हम समर्पण बढ़ाते गए. लोगों की अपेक्षाओं के कारण काम का दबाव बढ़ता गया. लोगों के विश्वास के कारण जब दबाव बढ़ता है तो वह ऊर्जा में बदल जाता है. हम लोगों ने अनुभव किया कि जो देश की अपेक्षाओं का दबाव में हमारे लिए बोझ नहीं बना, बल्कि हमारी ऊर्जा बन गया.'

प्रधानमंत्री ने अधिकारियों से पूर्ववर्ती सरकार का भी जिक्र किया और कहा की आप लोगों ने भी महसूस किया होगा कि पूर्व के कार्यकाल की अपेक्षा आपको भी परिवर्तन महसूस हुआ होगा. प्रधानमंत्री ने अधिकारियों की तारीफ करते हुए कहा कि आओ लोगों ने अपेक्षा से ज्यादा दिया परिणाम दिया है. समय की कल्पना से पहले दिया है. सुचारू ढंग से किया और सुचिता के साथ दिया है.

पीएम ने इस बैठक में बड़ी बात कही की हम नहीं चाहते कि प्रधानमंत्री कार्यालय इफेक्टिव हो, हम चाहते हैं कि पीएमओ एफिशंट हो. उसके काम करने की क्षमता के परिणाम की मात्रा बहुत अधिक होती है.
अधिकारियों के कार्यो की तारीफ करते हुए पीएम ने कहा आपमें से कई लोग हैं, जिन्होंने बहुत प्रधानमंत्री और मंत्री देखे हैं, लेकिन मैं पहला प्रधानमंत्री हूं, जिसने आपको देखा है. आपने मुझे कभी अकेलापन महसूस नहीं होने दिया, काम का बोझ मुझ पर नहीं आने दिया. आपके विचारों ने मुझे ताकत दी है.

ये भी पढ़ें: मां का आशीर्वाद लेने कल गुजरात जाएंगे मोदी, फिर सोमवार को काशी जाकर देंगे जनता को धन्यवाद
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज