लाइव टीवी

हिंसा से पहले दिल्ली पुलिस ने JNU को लिखी थी चार चिट्ठी, दी थी ये सलाह
Delhi-Ncr News in Hindi

भाषा
Updated: January 22, 2020, 8:31 AM IST
हिंसा से पहले दिल्ली पुलिस ने JNU को लिखी थी चार चिट्ठी, दी थी ये सलाह
जेएनयू प्रशासन की ओर से छात्रों से मिलने कोई नहीं आया.. (फाइल फोटो)

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में 5 जनवरी को हिंसा से पहले दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने विश्वविद्यालय प्रशासन (University Administration) को कम से कम चार बार पत्र लिखा था. इस दौरान प्रशासन को जेएनयू छात्र संघ (JNUSU) के साथ संवाद करने की पहल करने को कहा गया था.

  • Share this:
नई दिल्ली. जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में 5 जनवरी को हिंसा से पहले दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने विश्वविद्यालय प्रशासन को कम से कम चार बार पत्र लिखा था. इस दौरान प्रशासन को जेएनयू छात्र संघ (JNUSU) के साथ संवाद करने की पहल करने को कहा गया था. एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार (21 जनवरी) को बताया कि ये पत्र पिछले साल नवंबर और दिसंबर के बीच लिखे गए थे. वसंत कुंज (उत्तर) थाने के प्रभारी ने 26 नवंबर को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के रजिस्ट्रार को पत्र लिखकर कहा था कि छात्रावास शुल्क वृद्धि के खिलाफ 18 नवंबर को प्रदर्शन मार्च के दौरान पुलिस द्वारा दो बार छात्रों को रोका गया. इस दौरान कानून व्यवस्था का मसला पैदा हो गया.

जेएनयू प्रशासन ने नहीं की मुलाकात
9 नवंबर को छात्रों के एक और प्रदर्शन का हवाला देते हुए पत्र में कहा गया कि जेएनयू प्रशासन की ओर से छात्रों से मिलने कोई नहीं आया. वैसे जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के कुलपति एम जगदीश कुमार ने कैंपस में शांति होने की बात कही थी. वीसी ने बताया था कि जेएनयू में 8500 छात्रों में से 82 फीसदी छात्रों ने छात्रावास का बकाया चुका दिया है. शेष छात्रों की ओर से भी रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी करने की उम्मीद है, क्योंकि रजिस्ट्रेशन अभी भी विलंब शुल्क के साथ जारी है.

छात्रों और शिक्षकों पर किया गया था हमला

बता दें कि दिल्ली के जेएनयू कैंपस में 5 जनवरी की रात लाठियों से लैस कुछ नकाबपोश लोगों ने छात्रों तथा शिक्षकों पर हमला कर दिया था और कैंपस की संपत्ति को काफी नुकसान पहुंचाया था, इसके बाद प्रशासन ने पुलिस को बुलाया. इस हमले में जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष सहित लगभग 28 लोग घायल हुए हैं. इस घटना के बाद पूरे देश में काफी हंगामा हुआ था. जेएनयू घटना के विरोध में पूरे देश में धरना प्रदर्शन हुआ था.

ये भी पढ़ें: 

LG से मिले शाहीनबाग प्रदर्शनकारी, एंबुलेंस-स्कूल बसों को रास्ता देने को तैयारशाहीन बाग की महिलाओं ने BJP नेता अमित मालवीय को भेजा 1 करोड़ का नोटिस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 8:19 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर