• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • दिल्ली की धरोहरः 54 गुंबदों वाली बेगमपुर मस्जिद को चाहिए ASI की मदद, छत गिरी तो दुखी हुए इतिहासकार

दिल्ली की धरोहरः 54 गुंबदों वाली बेगमपुर मस्जिद को चाहिए ASI की मदद, छत गिरी तो दुखी हुए इतिहासकार

ऐतिहासिक बेगमपुर मस्जिद की बदहाली पर इतिहासकार विलियम डेलरिम्पल ने लिखा कि ASI की उपेक्षा के कारण ही इस धरोहर स्थल का ये हाल है. (Twitter)

ऐतिहासिक बेगमपुर मस्जिद की बदहाली पर इतिहासकार विलियम डेलरिम्पल ने लिखा कि ASI की उपेक्षा के कारण ही इस धरोहर स्थल का ये हाल है. (Twitter)

Delhi Heritage News: राजधानी दिल्ली के मालवीय नगर में स्थित ऐतिहासिक बेगमपुर मस्जिद की बदहाली पर इतिहासकारों ने जताई चिंता. खान-ए-जहां जूना शाह की बनाई इस मस्जिद के उचित संरक्षण की मांग. 54 गुंबदों वाली इस हेरिटेज इमारत के बेहतर संरक्षण के दावे बेमानी.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली (Delhi) के अलग-अलग इलाकों में पसरे ऐतिहासिक स्थलों (Historical Places) की खूब ब्रांडिंग (Branding) होती है. पर्यटन के नक्शे पर इन्हें लाने की गाहे-बगाहे कवायद भी चलती रहती है. लेकिन बीते दिनों इतिहासक विलियम डेलरिम्पल (William Dalrymple) ने सोशल मीडिया (Twitter) पर मालवीय नगर में स्थित बेगमपुर मस्जिद की एक तस्वीर शेयर की. इसमें उन्होंने लिखा कि बारिश के कारण इस ऐतिहासिक इमारत की छत गिर गई है, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की उपेक्षा के कारण ही इस धरोहर स्थल का ये हाल है.

    विलियम डेलरिम्पल के इस ट्वीट पर ASI ने प्रतिक्रिया दी. सफाई भी आई कि इस साइट के संरक्षण का काम किया जा रहा है. संभव है वहां चल रहे काम की वजह से कुछ पत्थर गिरे हों.

    Delhi Heritage, Begumpur Mosque, Archeological Survey of India, Pawn of Delhi, Mughal era, Delhi Hindi News, Delhi Tourism दिल्ली पर्यटन, ऐतिहासिक धरोहर, मुगलकाल की इमारत, दिल्ली हिन्दी न्यूज  

    बेगमपुर की मस्जिद का हाल लेखक इतिहासकार विलियम डेलरिम्पल ने अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर कर दुख जताया है.

    बहरहाल, इतिहासकार के सवाल और उस पर ASI के दावे के बीच ऐतिहासिक बेगमपुर मस्जिद की बदहाली साफ दिख जाती है. अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक 54 गुंबदों वाली इस मस्जिद के परिसर और आसपास के इलाके में पेड़-पौधे उग आए हैं. इमारत पर उग आए पौधे और मस्जिद परिसर में उगी घास, इस बात की तस्दीक करते हैं कि यह धरोहर दिनों-दिन बदहाल होता जा रहा है. संभवतः इसी कारण इतिहासकार ने काफी कड़े लफ्जों में सोशल मीडिया के जरिये अपनी पीड़ा बयां की.

    लेखक और इतिहासकार विलियम डेलरिम्पल ने मस्जिद की तस्वीर ट्वीट करते हुए कहा, ‘एएसआई की उपेक्षा के कारण बेगमपुर मस्जिद की छत बारिश में गिर गई. बेहतर प्रबंधन के जरिये यह विशाल मध्यकालीन मस्जिद अब भी राजस्व अर्जित करने वाला एक प्रमुख पर्यटन स्थल हो सकती है, बावजूद इसके इसे ढहने और बर्बाद होने दिया जा रहा है.’ लेखक के इस ट्वीट के बाद ASI के अधिकारी हरकत में आए. अखबार के मुताबिक एएसआई के अधिकारी ने कहा, ‘2019 में मस्जिद का एक छोटा हिस्सा गिर गया था. उस समय विभाग ने एक खंभा लगाकर इमारत की मरम्मत की थी. कुछ दिन पहले ढांचे के अवशेष पास के नाले में गिर गए थे, जिसकी सफाई भी कराई गई थी.’

    इतिहासकार की तस्वीर संबंधी दावे के बाद ASI की दिल्ली सर्कल की एक टीम ने बीते मंगलवार को साइट का दौरा किया और बताया कि इस सीजन में ऐसी कोई घटना नहीं हुई है. हालांकि अधिकारी ने कहा कि टीमें पिछले कुछ समय से साइट पर काम कर रही हैं, नालों की सफाई और संरक्षण कार्य किया जा रहा है. लापता गुंबद के नीचे जमीन पर कुछ पत्थर बिखरे पड़े हैं. मंगलवार दोपहर मजदूरों ने गुंबद के नीचे नाले पर काम किया. उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि हाल ही में नाले के पास चल रहे काम की वजह से पत्थर गिरे हैं.

    रिपोर्ट के मुताबिक, पुरातत्व सर्वेक्षण भले ही इस मस्जिद के संरक्षण की बात करता हो, लेकिन यह जगह अब भी पर्यटकों के लिए जानी-पहचानी नहीं है. इस मस्जिद का आकर्षण इसकी चिनाई, बड़े प्रांगण और तोरण मीनार हैं. अगर एएसआई इसका उचित तरीके से देख-रेख करे तो यह भी कुतुबमीनार, लालकिला और दिल्ली के अन्य ऐतिहासिक धरोहरों की तरह टूरिस्ट स्पॉट के रूप में जाना जा सकता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज