Assembly Banner 2021

Delhi Violence: हिंसा के दौरान लगातार घनघनाती रही PCR की घंटी, एक दिन में 7500 कॉल

परेशान पीड़ित बार बार पीसीआर को कॉल कर इस तरह की घटनाओं की जानकारी दे रहे थे. (फाइल फोटो)

परेशान पीड़ित बार बार पीसीआर को कॉल कर इस तरह की घटनाओं की जानकारी दे रहे थे. (फाइल फोटो)

'आपके साथ हमेशा' रहने का वादा करने वाली दिल्ली पुलिस की उत्तरी पूर्वी इलाके (North East Delhi) में हुई हिंसा के दौरान लोगों को काफी याद आई. इस दौरान लोगों ने लगातार कॉल कर दिल्ली पुलिस को सूचना दी और आने को कहा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 28, 2020, 9:48 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राजधानी के उत्तर-पूर्वी इलाके में हुई हिंसा के दौरान दिल्ली पुलिस के 'एक्शन' में न रहने को लेकर सवाल उठ रहे हैं. बताया गया कि हिंसा प्रभावित इलाकों से लोग लगातार कॉल कर पुलिस को सूचना देते रहे और मौके पर आने की गुहार लगाते रहे, लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हुई. आगजनी और हिंसा से डरे लोगों ने बार-बार पीसीआर (PCR) को कॉल कर घटनाओं की जानकारी दी थी. दिल्ली पुलिस के अनुसार 24 और 25 फरवरी को पीसीआर को सबसे ज्यादा कॉल हुई.

दिल्ली पुलिस पीसीआर युनिट के डीसीपी शरद सिन्हा के मुताबिक, हिंसा वाले दो मुख्य दिन 24 और 25 तारीख को बहुत ज्यादा PCR कॉल नार्थ ईस्ट जिले से की गई थी. उन्होंने बताया कि 23 तारीख को करीब 700 PCR कॉल नार्थ ईस्ट जिले से की गई. जबकि 24 फरवरी को करीब 3500 कॉल पीसीआर के पास नार्थ ईस्ट जिले से हुई.

एक दिन में 7500 कॉल
हिंसा की घटनाओं के बीच 25 फरवरी को सबसे ज्यादा कॉल किए जाने की बात सामने आई है. दिल्ली पुलिस के आधिकारिक बयान के अनुसार करीब 7500 PCR कॉल 25 तारीख को हुई. जबकि 26 तारीख को 1500 से ज्यादा बार PCR में कॉल कर लोगों ने हिंसा और आगजनी की घटना और अपनी समस्याओं से दिल्ली पुलिस को अवगत कराया.
फ्लैग मार्च और विश्वास बहाली का प्रयास है जारी


इस बीच जानकारी मिल रही है कि दिल्ली के हिंसा प्रभावित उत्तर पूर्व जिले के खजुरी खास और दयालपुर इलाकों में सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है. इसके अलावा दिल्ली पुलिस हिंसा प्रभावित इलाकों में लगातार फ्लैग मार्च कर रही है. इसके अलावा आम लोगों के बीच विश्वास बहाली के प्रयास लगातार जारी हैं.

दिल्ली पुलिस ने की अपील
दिल्ली पुलिस ने हिंसा की इस घटना के बाद अपील जारी की है. इसमें दिल्ली पुलिस ने कहा है कि 23 फरवरी के बाद से नॉर्थ ईस्ट डिस्ट्रिक्ट, दिल्ली में झड़प की घटनाएं हुई हैं. इन घटनाओं के गवाह, विशेष रूप से मीडिया के लोगों को इन घटनाओं के बारे में कोई जानकारी है या उन्होंने अपने मोबाइल फोन या कैमरे पर कोई गतिविधि कैप्चर की है. वो अपने बयान, फुटेज और तस्वीर दिल्ली पुलिस के साथ साझा करने के आगे आएं. इसके लिए 7 दिनों का समय दिया गया है.

(इनपुट: आनंद तिवारी)

ये भी पढ़ें:

दिल्ली हिंसा में मौत का आंकड़ा बढ़ा, मृतकों की संख्या 38 हुई

CAA पर बोले जेपी नड्डा- गांधी और नेहरू ने जो कहा, PM मोदी ने वो वादा पूरा किया
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज