राहुल मर्डर केस: लड़की ने Delhi Police पर लगाया यह बड़ा आरोप, मांगने पर भी नहीं की मदद

लड़की से दोस्ती और बात करना राहुल के लिए जान का दुश्मन बन गया.
लड़की से दोस्ती और बात करना राहुल के लिए जान का दुश्मन बन गया.

आप (AAP) पार्टी प्रवक्ता सौरभ ने एक और आरोप लगाते हुए कहा है, बीजेपी (BJP) दिल्ली के अध्यक्ष आदेश गुप्ता परिवार को भड़का रहे हैं. मैं पूछना चाहता हूं कि पुलिस चौकियां किसलिए बनाई जाती हैं? क्राइम रोकने के लिए? दलाली, हफ्ता वसूली के लिए?

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 12, 2020, 12:13 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली के आदर्श नगर में हुए राहुल मर्डर केस में एक बड़ा खुलासा हुआ है. यह खुलासा आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायक सौरभ भारद्वाज ने किया है. सौरभ के अनुसार राहुल की हत्या (Rahul Murder Case) के वक्त लड़की वहां मौजूद थी. जिस वक्त राहुल को पीटा जा रहा था तो लड़की ने दिल्ली पुलिस (Delhi Police) से भी मदद मांगी थी.

लेकिन पास ही में चौकी पर मौजूद पुलिस मदद के लिए  नहीं आई. गौरतलब रहे कि दूसरे समुदाय की लड़की से दोस्ती और मोबाइल फोन (Mobile Phone) पर बात करने के चलते राहुल की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी.

ये भी पढ़ें- केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला- सजेंगे दुर्गा पूजा के पंडाल, मंच पर उतरेंगे 'भगवान राम'



पुलिस ने तोड़ दिया लड़की के मोबाइल का सिमकार्ड!
एक प्रेस कांफ्रेंस में आरोप लगाते हुए आप विधायक और पार्टी प्रवक्ता सौरभ ने कहा है, लड़की कल तक पत्रकारों से बात कर रही थी. अब दिल्ली पुलिस ने पहुंचकर उसके मोबाइल का सिमकार्ड ही तोड़ दिया है. अगर पुलिस को कुछ करना ही था तो उस दिन राहुल की मदद करती. अगर उस दिन पुलिस ने लड़की द्वारा मदद मांगने पर मदद की होती तो आज राहुल जिंदा होता. लड़की हाथ जोड़ती रही, लेकिन पुलिस का दिल नहीं पसीजा. फिर जब घटनास्थल पर 8-10 लोग थे तो पुलिस ने सिर्फ 5 लोगों को ही नामजद क्यों किया.

बीजेपी नेता बताएं पुलिस चौकी किस लिए होती है

आप पार्टी प्रवक्ता सौरभ ने एक और आरोप लगाते हुए कहा है, जब राहुल के घर वाले यह कह रहे हैं कि इस मामले को धार्मिक रंग न दिया जाए तो इसके बावजूद बीजेपी दिल्ली के अध्यक्ष आदेश गुप्ता परिवार को भड़का रहे हैं. मैं पूछना चाहता हूं कि पुलिस चौकियां किसलिए बनाई जाती हैं? क्राइम रोकने के लिए? दलाली, हफ्ता वसूली के लिए? ये सवाल हैं भाजपा से जिनके अधीन पुलिस आती है. आज अगर उन पुलिस वालों के खिलाफ कार्यवाही नहीं की गई तो हम भी आंदोलन करेंगे भाजपा के खिलाफ.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज