लाइव टीवी

Exclusive: आसमान में जाम हो गए थे बंगाल की खाड़ी में गिरे AN-32 एयरक्राफ्ट के कंट्रोल सिस्टम!

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: January 3, 2020, 11:59 AM IST
Exclusive: आसमान में जाम हो गए थे बंगाल की खाड़ी में गिरे AN-32 एयरक्राफ्ट के कंट्रोल सिस्टम!
AN 32 Air craft (File Photo)

एक आरटीआई (RTI) से खुलासा हुआ है कि उड़ान के दौरान एयर क्राफ्ट के कंट्रोल जाम हो गए थे. एयर फोर्स ने ऐसी संभावना जताई है. उसका कहना है कि आईसिंग (Icing) के कारण ऐसा हुआ होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 3, 2020, 11:59 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. इंडियन एयर फोर्स (Indian Air Force) का कमर्शियल एयर क्राफ्ट (Air Craft) एएन-32 (AN-32) 22 जुलाई 2016 में ताम्बरम (चैन्नई) से अंडमान निकोबार की उड़ान पर था. बंगाल की खाड़ी के ऊपर से एयर क्राफ्ट अपनी मंज़िल की ओर जा रहा था. लेकिन कुछ ही देर बाद एयर क्राफ्ट आसमान से गायब हो गया. एयर ट्रैफिक कंटोल (ATC) से भी उसका संपर्क टूट गया. एक महीने से ज्यादा की तलाश के बाद भी न तो एयर क्राफ्ट का मलबा मिला और न ही उसमे सवार 29 लोगों के शव. हाल ही में एक आरटीआई (RTI) से खुलासा हुआ है कि उड़ान के दौरान एयर क्राफ्ट के कंट्रोल जाम हो गए थे. एयर फोर्स ने ऐसी संभावना जताई है. उसका कहना है कि आईसिंग (Icing) के कारण ऐसा हुआ होगा. जानकारों का कहना है कि ज्यादा ऊंचाई पर एयर क्राफ्ट की बाहरी और अंदरुनी जगहों पर आईसिंग होने लगती है.

आईसिंग से बचने के लिए ये काम करता है पायलट

एयर वाइस मार्शल रिटायर्ड कपिल कॉक ने न्यूज18 हिन्दी को बताया, करीब 20 हजार फीट से अधिक की ऊंचाई पर जब एयर क्राफ्ट जाता है तो उसे आईसिंग की परेशानी का सामना करना पड़ता है. आईसिंग एयर क्राफ्ट के विंग और कंट्रोल पैनल पर असर डालती है. हालांकि आईसिंग से बचने के लिए हीटर का इस्तेमाल किया जाता है. विंग के पास भी हीटर लगे होते हैं. अगर आईसिंग ज्यादा हो जाए और हीटर काम न करे तो एयर क्राफ्ट की ऊंचाई को कम करने की कोशिश की जाती है. लेकिन इंडियन एयर फोर्स ने जो बताया है वो एक संभावना है. हो सकता है एयर क्राफ्ट के साथ कुछ और हुआ हो.

विमानों ने 1204 घंटे उड़ान भरकर चलाया तलाशी अभियान

आरटीआई में खुलासा करते हुए इंडियन एयर फोर्स ने बताया कि एयर क्राफ्ट एएन-32 के गायब होने के बाद तलाशी अभियान चलाया गया था. एयर क्राफ्ट से 269 उड़ान भरी गईं थी. एयर क्राफ्ट ने 1204 घंटे तक अभियान चलाया. 2.18 लाख नॉटिकल माइल क्षेत्र में तलाशी अभियान चला. लेकिन इस दौरान न तो लापता एयर क्राफ्ट का मलबा मिला और न ही एयर क्राफ्ट में मौजूद 29 लोगों के शव.

फ्लाइंग अफसर पंकज के पिता पूछ रहे यह सवाल 

एयर क्राफ्ट में मौजूद रोहतक (हरियाणा) निवासी फ्लाइंग अफसर पंकज नांदेल के पिता कृष्ण नांदेल खुद भी एयर फोर्स से रिटायर्ड हैं. एयर फोर्स से रिटायर्ड होने के चलते प्‍लेन एक्‍सीडेंट की सामान्‍य और तकनीकी जानकारी के बारे में उनकी खुद की मालूमात भी अच्‍छी है. उनका कहना है कि अगर एयर क्राफ्ट पानी में गिरा तो उसका हजारों लीटर तेल कहां गया. तेल तो पानी के ऊपर आ जाना चाहिए था. विमान में मौजूद लाइफ जैकेट या और दूसरी हल्की चीजें पानी के ऊपर क्यों नहीं आईं.ये भी पढ़ें- निर्भया कांड के दोषियों को फांसी देने से पहले बोला पवन जल्लाद- अब जीना मुश्किल हो गया

चार महिलाओं समेत कौन हैं वो 35 लोग जिन्हें होनी है फांसी, राष्ट्रपति भी लगा चुके हैं मुहर

घरों की छत पर जुटती है आसमान में होने वाली अनोखी रेस को देखने के लिए हजारों की भीड़

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 3, 2020, 9:25 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर