दीवाली पर पटाखे बैन करने के बारे में यह बोले पर्यावरण मंत्री गोपाल राय

मंत्री गोपाल राय ने एयर एक्ट के हिसाब से पटाखों को बैन करने की बात कही है.
मंत्री गोपाल राय ने एयर एक्ट के हिसाब से पटाखों को बैन करने की बात कही है.

इस मौके पर मंत्री गोपाल राय (Gopal Rai) यह भी बताया कि ग्रीन क्रेकर्स खरीदते वक्त हम उसकी पहचान किस तरह से कर सकते हैं. बाज़ारों में ग्रीन क्रेकर्स (Green Crackers) बिक रहे हैं या नहीं यह जानने के लिए गोपाल राय सदर बाज़ार पहुंचे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 3, 2020, 3:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली (Delhi) में कोरोना (Corona) के साथ ही प्रदूषण के बढ़ते आंकड़े भी खासे डराने वाले हैं. क्या बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए दिल्ली में दीवाली के मौके पर पटाखे बैन (Crackers Ban) किए जा सकते हैं? इस सवाल पर दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय (Gopal Rai) का कहना है कि इस मामले में  एयर पॉल्यूशन एक्ट के हिसाब से कार्यवाही की जायेगी. पटाखा बैन के मामले पर उन्होंने यह बात दिल्ली के सदर बाज़ार (Sadar Bazar) में लगे पटाखा बाज़ार में छापेमारी के दौरान कही.

 दिल्ली सरकार चला रही है anti crackers campaign

दिल्ली में बढ़ते वायु प्रदूषण को कम करने के लिये दिल्ली सरकार ने आज से एक नये अभियान की शुरुआत की है. दिल्ली सरकार ने इसे anti crackers campaign नाम दिया है. इस अभियान के ज़रिये सरकार की कोशिश है कि इस साल सिर्फ़ ग्रीन पटाखे ही जलाये जाएं, जिससे कि पटाखों से होने वाले प्रदूषण में कमी लायी जा सके.



यह भी पढ़ें- बड़ी खबर! दिल्‍ली के तीनों बस अड्डों से सेवा शुरू, यात्रा से पहले जान लें जरूरी बातें
सदर बाज़ार की दुकानों में की छापेमारी

दीवाली के मौके पर बाज़ारों में भी सिर्फ़ ग्रीन पटाखों की ही बिक्री हो यह सुनिश्चित करने के लिये मंत्री गोपाल राय अधिकारियों के साथ आज सदर बाज़ार पंहुचे. सदर बाज़ार की कुछ दुकानों में उन्होंने छापेमारी की. इस छापेमारी के दौरान उन्हें दुकानों में ग्रीन पटाखे नज़र आये. गोपाल राय ने बताया कि इस अभियान के ज़रिये हम ये सुनिश्चित करेंगे कि दिल्ली में सिर्फ़ ग्रीन पटाखों की ही बिक्री हो और लोग ग्रीन पटाखे ही जलाएं.

इसके साथ ही गोपाल राय ने बताया कि ग्रीन पटाखों की पहचान के लिये हर पटाखे के ऊपर एक खास तरह का स्टीकर लगा हुआ होता है. इस स्टीकर को देखकर पता किया जा सकता है कि जो पटाखा आप ख़रीद रहे है वो ग्रीन है या नहीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज