लाइव टीवी

COVID-19 संकट पर बोले पूर्व केंद्रीय मंत्री- धार्मिक संस्थानों के पास अकूत धन, जनता के लिए करें दान
Patna News in Hindi

News18Hindi
Updated: March 27, 2020, 2:41 PM IST
COVID-19 संकट पर बोले पूर्व केंद्रीय मंत्री- धार्मिक संस्थानों के पास अकूत धन, जनता के लिए करें दान
बीजेपी के पूर्व सांसद हुकुमदेव नारायण यादव ने कहा है कि देश की धार्मिक स्थलों की संपत्ति दान में दे देनी चाहिए.

पूर्व केंद्रीय मंत्री हुकुमदेव नारायण यादव (Hukmdev Narayan Yadav) ने कहा है कि इस समय राष्ट्र भयंकर संकट में है. राष्ट्र के नागरिक बचेंगे तभी सभी कुछ बचेगा. धार्मिक संस्थाएं कोरोना संकट (Coronavirus) से निपटने के लिए पैसा दान करें,

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 27, 2020, 2:41 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के पूर्व सांसद हुकुमदेव नारायण यादव (Hukmdev Narayan Yadav)  ने देशव्यापी कोरोना वायरस (COVID-19) संकट पर बड़ा बयान दिया है. पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा है कि देश के धार्मिक संस्थानों के पास जो संपत्ति है, वह लोगों को दान कर दें. यादव ने कहा, 'दुनिया का कोई भी देश इस समय कोरोना वायरस को लेकर किसी दूसरे देश की मदद नहीं कर पा रहा है. ऐसे हालात में भारत के नागरिकों को आत्मचिंतन करना चाहिए. सांसद, विधायक, सरकारी कर्मचारी और अधिकारी, व्यापारी, उद्योगपति सभी पेंशनभोगी त्याग नहीं कर सकते हैं. इसलिए देश के धार्मिक और सामाजिक संस्थाओं के पास जो अकूत संपत्ति है, उसको आम जनता के लिए दान देना चाहिए.'

मंदिर-मस्जिद की संपत्ति किस काम की!

बीजेपी के बुजुर्ग नेताओं में शामिल यादव ने कहा कि ‘धार्मिक स्थानों के खजाने में भारत सरकार के सालाना बजट से भी ज्यादा पैसा है. इन धार्मिक स्थानों में जमा दौलत किस काम की है. इस समय राष्ट्र भयंकर संकट में है. राष्ट्र के नागरिक बचेंगे, तभी सभी कुछ बचेगा. ईश्वर की इच्छा और प्रेरणा से राष्ट्र के नागरिकों ने ही धार्मिक संस्थानों में दान देकर धन को संचित कोष में जमा किया था.'



temple property in india, coronavirus, Lockdown, hukmdev narayan yadav, hukumdev narayan yadav, madhuwani, temple property in india, delhi-ncr, pm narendra modi, whatsapp, कोरोनावायरस, लॉकडाउन, हुकुमदेव नारायण यादव, बीजेपी के पूर्व सांसद, मधुबनी, बिहार, भारत में धार्मिक स्थलों की संपत्ति कितनी है. मंदिरों की प्रोपर्टी दार कर देनी चाहिए, कोविड-19, covid-19
यादव ने कहा कि ‘धार्मिक स्थानों के खजाने में भारत सरकार के सालाना बजट से भी ज्यादा पैसा है.




देशभक्तों से की अपील

कोरोना वायरस के संकट को देखते हुए हुकुमदेव नारायण यादव ने राष्ट्र प्रेमी नागरिकों से अनुरोध किया है कि इस संकट का मुकाबला संयम, अनुशासन और आध्यात्मिक शक्ति के द्वारा ही किया जा सकता है. नवरात्र में प्रधानमंत्री केवल नींबू और पानी पर ही रह कर अपना काम करते हैं. दुनिया के संपन्न और समृद्ध तथा विकसित राष्ट्र कोरोना से युद्ध में हार गए हैं. क्या भारत अपने त्याग, संयम, अनुशासन और आध्यात्मिक तेज से इसको जीतने में सफल नहीं हो सकता है? हम अपनी संतानों और भावी पीढ़ियों के लिए त्याग नहीं कर सकते हैं? राष्ट्रधर्म क्या कह रहा है? स्वयं लोग घोषणा करें और प्रधानमंत्री राहत कोष में स्वेच्छा से दान करें.

यादव ने कहा है कि प्रथम किस्त में वे अपना एक माह का पूर्व सांसद वाली पेंशन देने की घोषणा करते हैं. भारत अपने आध्यात्मिक तेज के बल पर प्रधानमंत्री के नेतृत्व में इस दैहिक, दैविक और भौतिक ताप को सहन कर विश्वगुरु बनेगा.

रेलवे कर्मियों ने  भी किया 70 करोड़ रुपए देने का ऐलान

उधर, दलित एक्टिविस्ट ओपी धामा ने भी ऐसी ही मांग की है. उन्होंने कहा कि ऑल इंडिया एससी, एसटी रेलवे एंप्लाई एसोसिएशन ने पीएम रिलीफ फंड में 70 करोड़ रुपए देने का ऐलान किया है. जिससे जो भी संभव हो रहा है, उतना पैसा कोरोना से जंग के लिए दे रहा है. लेकिन मंदिर, मस्जिद चलाने वाली संस्थाएं अभी तक आगे नहीं आई हैं, जबकि उनके पास अकूत धन-संपदा है. आखिर ये पैसा संकट की घड़ी में नहीं तो फिर किस दिन काम आएगा. उन्होंने कहा कि संकट की इस घड़ी में सभी धार्मिक संस्थाएं अपने कोष से प्रधानमंत्री रिलीफ फंड में पैसा दें, ताकि कोरोना को हराया जा सके और गरीबों की मदद की जा सके.

ये भी पढ़ें:

ऑनलाइन कंपनियों को डिलीवरी देने के आदेश को दिल्ली पुलिस ने लिया वापस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 27, 2020, 2:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading