Delhi में एक हफ्ते तक इसलिए बिगड़ा रहेगा Air pollution, मौसम विभाग ने दी यह चेतावनी

वहीं, मंगलवार की तरह बुधवार को भी दिल्ली में वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में बनी हुई है. आज राष्ट्रीय राजधानी में आनंद विहार के पास एयर क्वालिटी इंडेक्स बहुत खराब श्रेणी में दर्ज किया गया.
वहीं, मंगलवार की तरह बुधवार को भी दिल्ली में वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में बनी हुई है. आज राष्ट्रीय राजधानी में आनंद विहार के पास एयर क्वालिटी इंडेक्स बहुत खराब श्रेणी में दर्ज किया गया.

आज राष्ट्रीय राजधानी में आनंद विहार (Anand vihar) के पास एयर क्वालिटी इंडेक्स (Air quality index) बहुत खराब श्रेणी में दर्ज किया गया. जानकारी के मुताबिक, आनंद विहार में आज AQI 275 दर्ज किया गया. वहीं, प्रदूषण बढ़ने की वजह से विजिबिलिटी भी कम हो गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2020, 12:37 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आने वाले एक हफ्ते तक दिल्ली में वायु प्रदूषण (Air pollution in Delhi) से राहत मिलने के कोई आसार नहीं दिख रहे हैं. मौजूदा वातावरण में भी कोई खास फर्क नहीं आने वाला है. इसके चलते वायु प्रदूषण से अगल हफ्ते तक कोई राहत मिलती हुई नज़र नहीं आ रही है. मौसम विभाग (Meteorological Department) ने दी यह चेतावनी देते हुए कहा है कि वर्तमान में बना वायु प्रदूषण अगले कुछ दिन तक ऐसे ही सताएगा. बारिश (Rain) न होने और हवा के रुख में भी कोई बदलाव होता नहीं दिख रहा है. अभी दिल्ली में न्यूनतम तापमान 21 डिग्री और अधिकतम तापमान (Temperature) 34 डिग्री चल रहा है जो अगले 5 दिन तक लगभग यही रहेगा. मतलब हम कह सकते हैं कि दिल्ली (Delhi) में हालात अभी सुधरने वाले नहीं है.

दिल्ली में यहां खराब हो रही है हवा

मंगलवार की तरह बुधवार को भी दिल्ली में वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में बनी हुई है. आज राष्ट्रीय राजधानी में आनंद विहार के पास एयर क्वालिटी इंडेक्स बहुत खराब श्रेणी में दर्ज किया गया. जानकारी के मुताबिक, आनंद विहार में आज AQI 275 दर्ज किया गया. वहीं, प्रदूषण बढ़ने की वजह से विजिबिलिटी भी कम हो गई है. आज सुबह आनंद विहार सहित कई इलाकों में धुंध छाई रही.



ये भी पढे़ं-दूसरे मजहब की लड़की से बात करने पर राहुल की हत्या मामले में दिल्ली पुलिस ने शुभम भारद्वाज को पकड़ा
हवा में मौजूद धूल को नियंत्रित करने के प्रमुख दिशा-निर्देश

1-निर्माण/ध्वस्तीकरण के समय उसकी ऊंचाई से तीन गुना (अधिकतम 10 मीटर) ऊपर तक टीन का कवर लगाना होगा.

2- निर्माण एवं ध्वस्त स्थल पर ग्रीन नेट/तिरपाल लगाना होगा.

3- निर्माण/ध्वस्त स्थल पर पानी के छिड़काव की उचित व्यवस्था एवं धूल को दबाने के लिए पानी का लगातार छिड़काव. 20 हजार वर्गमीटर से ऊपर वाली जगह के लिए एंटी स्मॉग गन लगाना जरूरी है.

4- निर्माण/ध्वस्त स्थल पर अपशिष्ट पदार्थ पूरी तरह से ढके होने चाहिए.

5- कोई भी गाड़ी, जो निर्माण स्थल या ध्वस्तीकरण स्थल पर आ जा रही है, वह पूरी तरह से धुली होनी चाहिए और उस पर स्थित सामग्री ढकी होनी चाहिए.

दिल्ली में यहां सबसे ज़्यादा खराब होती है हवा

  1. मुंडका

  2. बवाना

  3. नरेला

  4. रोहिणी

  5. वजीर पुर

  6. जहांगीरपुरी

  7. पंजाबी बाग

  8. अशोक विहार

  9. द्वारका

  10. आनंद विहार

  11. विवेक विहार

  12. ओखला

  13. आर.के.पुरम

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज