बिहार चुनाव 2020: गठबंधन छोड़ने का जवाब सिर्फ चिराग पासवान के पास, होगी सीधी टक्कर: अमित शाह

गृहमंत्री अमित शाह ने चिराग पासवान को लेकर बड़ा बयान दिया है.
गृहमंत्री अमित शाह ने चिराग पासवान को लेकर बड़ा बयान दिया है.

#AmitShahToNews18: न्यूज 18 नेटवर्क के एडिटर इन चीफ राहुल जोशी को दिए एक एक्सक्लूसिव में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने कहा कि रामविलास पासवान हमारे साथ थे, लेकिन चिराग ने हमारा साथ छोड़ा दिया. इस फैसले का जवाब सिर्फ चिराग ही दे सकते हैं. जनता सब समझती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 17, 2020, 11:25 PM IST
  • Share this:
दिल्ली. बिहार के कद्दवार नेताओं में से एक रामविलास पासवान के निधन पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने गहरा शोक व्यक्त किया. न्यूज 18 नेटवर्क के एडिटर इन चीफ राहुल जोशी को दिए एक एक्सक्लूसिव इंटरव्यू (EXCLUSIVE Interview) में अमित शाह ने कहा कि सामाजिक न्याय के लिए रामविलास पासवान ने कई बड़े काम किए हैं. खासकर दलितों के लिए उन्होंने काफी काम किया है. अमित शाह ने कहा, 'रामविलास पासवान हमारे साथ थे, लेकिन उनके बेटे हमारे साथ नहीं है. गठबंधन छोड़ने का जवान तो सिर्फ चिराग पासवान ही दे सकते हैं''. गृहमंत्री ने कहा कि चिराग पासवान (Chirag Paswan) की अगुवाई वाली एलजेपी ने अकेले जाने का फैसला किया है. हालांकि चुनाव साथ लड़ने के लिए उन्‍हें उचित संख्या में सीटों की पेशकश की गई और बातचीत के कई प्रयास भी किए गए.

अमित शाह ने कहा कि जहां तक बीजेपी-जेडीयू-एलजेपी के गठबंधन का सवाल है, बीजेपी और जेडीयू दोनों की ओर से एलजेपी को उचित संख्या में बार-बार सीटों की पेशकश की गई. इस बाबत कई बार बातचीत भी हुई. मैंने व्यक्तिगत रूप से कई बार चिराग से बात की." उन्होंने कहा कि इस बार हमारे पास गठबंधन के नए सदस्य हैं, इसलिए प्रति पार्टी सीटों की संख्या नीचे जाने के लिए बाध्य थी. जेडीयू और भाजपा ने भी कुछ सीटें छोड़ दीं. लेकिन यह एलजेपी के साथ नहीं हो सका". क्‍या इन चुनावों के बाद लोजपा एनडीए में वापस आ सकती है, इस सवाल पर शाह ने कहा कि "बिहार के लोग समझते हैं कि गठबंधन क्यों और किसके कारण टूटा था. हम चुनाव के बाद देखेंगे कि क्या एलजेपी एनडीए में शामिल होती है. हम अभी विरोधी हैं और उसी के अनुसार चुनाव लड़ेंगे."

बीजेपी ने कही थी ये बात



मालूम हो कि भाजपा ने बिहार में सत्तारूढ़ राजग से नाता तोड़कर अलग चुनाव लड़ने वाली लोक जनशक्ति पार्टी के खिलाफ आक्रामक मुद्रा अपना लिया है. बीजेपी ने शुक्रवार को निशाना साधते हुए उसे न सिर्फ ‘‘वोट कटवा’’ करार दिया बल्कि यह भी स्पष्ट किया कि राज्य विधानसभा चुनाव में भगवा पार्टी की कोई ‘‘बी, सी या डी टीम’’ नहीं है. भाजपा नेताओं ने दावा किया कि लोजपा अपना अस्तित्व बचाने के लिए ‘‘झूठ और भ्रम’’ की राजनीति कर रही है जो सफल नहीं होगी और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की दो तिहाई बहुमत से जीत होगी.
ये भी पढ़ें:  Bihar Assembly Election: अमित शाह का दावा- नीतीश कुमार ही बनेंगे बिहार के अगले मुख्यमंत्री!

उल्लेखनीय है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान द्वारा गठित लोजपा की कमान अब उनके सांसद पुत्र चिराग पासवान के हाथों में हैं. उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अगुवाई वाले जनता दल (यूनाइटेड) से सैद्धांतिक मतभेदों का हवाला देते हुए बिहार में अलग चुनाव लड़ने की घोषणा की है. पासवान केंद्र की राजग सरकार में मंत्री थे और उनकी पार्टी इसका हिस्सा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज