आदेश गुप्ता के निशाने पर CM अरविंद केजरीवाल, कहा- फीस के लिए गिड़गिड़ा रहे सरकारी वकील

दिल्ली सरकार  पर बीजेपी का आरोप. (File)
दिल्ली सरकार पर बीजेपी का आरोप. (File)

बीजेपी (BJP) अध्यक्ष आदेश गुप्ता का कहना है कि केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) के शासनकाल में हालत यह हो गई है कि कर्मचारियों को अपने वेतन के लिए कोर्ट की शरण लेनी पड़ रही है. 

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 24, 2020, 5:39 PM IST
  • Share this:
दिल्ली. दिल्ली की केजरीवाल सरकार पर बीजेपी (BJP) ने कर्मचारियों पर शोषण करने का आरोप लगाया है. बीजेपी का कहना है कि अब सरकारी वकीलों को उनकी फीस नहीं दे रही है. इस पर दिल्ली भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने केजरीवाल सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) के कार्यकाल में कर्मचारियों को अपने वेतन के लिए बार-बार गिड़गिड़ाना पड़ रहा है. पहले गेस्ट टीचर, फिर यूनिवर्सिटी टीचर और अब सरकारी वकीलों को फीस नहीं मिल पा रही है. सरकारी वकीलों के बिल पिछले कई सालों से लंबित चले आ रहे हैं. इससे केजरीवाल सरकार की मंशा पर भी सवाल खड़े होते हैं.

भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता का कहना है कि लॉकडाउन में एक तरफ तो केजरीवाल सरकार लोगों से अपने कर्मचारियों का वेतन ना काटने की अपील कर रही थी, तो वहीं केजरीवाल सरकार खुद अपने कर्मचारियों को वेतन नहीं दे रही है. कोरोनाकाल में जब हर कोई आर्थिक तंगी से जूझ रहा था केजरीवाल सरकार ने गेस्ट टीचर, यूनिवर्सिटी टीचर और सरकारी वकीलों को पाई-पाई के लिए मोहताज कर दिया है. उनके लिए अपना घर चलाना मुश्किल हो रहा है. उनका कहना है कि केजरीवाल सरकार के पास विज्ञापन देने के लिए तो रुपए हैं, लेकिन अपने कर्मचारियों को वेतन देने के लिए पैसा नहीं है. कोरोनाकाल में भी विधायकों के भत्तों में एक बार भी कटौती नहीं की गई, लेकिन कर्मचारियों को वेतन के लिए महीनों इंतजार कराया जा रहा है.

ये भी पढ़ें: CM अरविंद केजरीवाल का दावा, दिल्ली ने क्रॉस किया COVID-19 की दूसरी वेव का पीक



बीजेपी का बड़ा आरोप
भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता का कहना है कि केजरीवाल सरकार के शासनकाल में हालत यह हो गई है कि कर्मचारियों को अपने वेतन के लिए कोर्ट की शरण लेनी पड़ रही है. दिल्ली सरकार को भी कोर्ट में हर बार अपनी फजीहत कराने की आदत हो गई है. उन्होंने कहा कि जब केजरीवाल सरकार ही अपने कर्मचारियों के साथ ऐसा कर रही है तो निजी संस्थान में काम करने वाले कामगरों के हक के लिए क्या कदम उठा पाएगी? केजरीवाल सरकार को अपनी कार्यशौली सुधारने की जरूरत है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज