BJP का केजरीवाल सरकार पर हमला, कहा-एक माह में नहीं लगाया एक भी ऑक्सीजन प्लांट, केंद्र ने लगाये नौ

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 1 महीने के भीतर 44 ऑक्सीजन प्लांट  लगाने की घोषणा की थी.  लेकिन यह सभी दावे खोखले साबित होते दिख रहे हैं.(File Photo)

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 1 महीने के भीतर 44 ऑक्सीजन प्लांट लगाने की घोषणा की थी. लेकिन यह सभी दावे खोखले साबित होते दिख रहे हैं.(File Photo)

दिल्ली में स्थापित 9 ऑक्सीजन संयंत्रों में से दो डीआरडीओ (DRDO) द्वारा स्थापित किए गए हैं. चार ऑक्सीजन संयंत्र केंद्र सरकार द्वारा स्थापित किए गए हैं और 3 ऑक्सीजन संयंत्र केंद्र सरकार की भागीदारी के माध्यम से विदेशों की सरकार द्वारा स्थापित किए गए हैं. दिल्ली सरकार एक माह में भी प्लांट स्थापित नहीं कर सकी है.

  • Share this:

नई दिल्ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने 27 अप्रैल को 1 महीने के भीतर 44 ऑक्सीजन प्लांट (Oxygen Plant) लगाने की घोषणा की थी. इनमें से 36 ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना दिल्ली सरकार ‍‍(Delhi Government) की ओर से करने की घोषणा की गई थी. लेकिन यह सभी दावे खोखले साबित होते दिख रहे हैं.

दिल्ली भाजपा (Delhi BJP) के पूर्व अध्यक्ष और विधायक विजेंद्र गुप्ता (Vijender Gupta) ने आरोप लगाया है कि पिछले 1 महीने से दिल्ली में 44 में से केवल 9 ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किए गए हैं. इनमें से एक भी प्लांट केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) की ओर से स्थापित नहीं किया गया है.

गुप्ता ने कहा कि दिल्ली में स्थापित 9 ऑक्सीजन संयंत्रों (Oxygen Plants) में से दो डीआरडीओ (DRDO) द्वारा स्थापित किए गए हैं. चार ऑक्सीजन संयंत्र केंद्र सरकार (Central Government) द्वारा स्थापित किए गए हैं और तीन ऑक्सीजन संयंत्र केंद्र सरकार की भागीदारी के माध्यम से विदेशों की सरकार द्वारा स्थापित किए गए हैं.

गुप्ता ने कहा कि यहां तक कि उत्तरी और दक्षिणी दिल्ली नगर निगम (MCD) भी अपने अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगा रहे हैं. उन्होंने बताया कि कॉर्पोरेट सेक्टर (सीएसआर) द्वारा जून मास तक उत्तरी और दक्षिणी दिल्ली नगर निगमों के पांच अस्पतालों में पांच पीएसए आधारित ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाएंगे.
गुप्ता ने कहा कि पिछले दिनों दिल्ली में ऑक्सीजन की भारी कमी के कारण मौतें हुईं. दिल्ली में जब कोरोना संक्रमण के मामले चरम सीमा पर थे, तब दिल्ली पूरी तरह से केंद्र सरकार व दूसरे राज्यों से ऑक्सीजन सप्लाई पर निर्भर थी. यहां तक की दिल्ली सरकार के पास ऑक्सीजन की सप्लाई और अस्पतालों को समय पर आपूर्ति करने के लिए पर्याप्त टैंकर भी उपलब्ध नहीं थे. दिल्ली सरकार दिल्ली में ऑक्सीजन की क्षमता को बढ़ाने में विफल रही है.

उन्होंने कहा कि पिछले 5 सालों में दिल्ली सरकार ने स्वास्थ्य सेवा में बुनियादी सुविधाओं को सुदृढ़ करने के लिए 37,588 करोड़ रुपये बजट में आवंटित किए थे. लेकिन छह सालों में केजरीवाल सरकार ने दिल्ली की स्वास्थ्य व्यवस्था को दुरुस्त करने की बजाए उसे कुचल दिया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज