NCT बिल के बहाने लोकतंत्र की हो रही हत्या, केजरीवाल की लोकप्रियता से डरती है बीजेपी: सुशील गुप्ता

एनसीटी संशोधन बिल को लेकर आप और भाजपा नेताओं के बीच बयानबाजी जारी है. (File)

एनसीटी संशोधन बिल को लेकर आप और भाजपा नेताओं के बीच बयानबाजी जारी है. (File)

AAP के राज्यसभा सांसद सुशील गुप्ता ने NCT Amendment bill को लेकर भाजपा पर बड़ा हमला बोला है. उन्होंने कहा कि बीजेपी इस बिल के माध्यम से लोकतंत्र की हत्या कर रही है. उन्होंने कहा कि भाजपा 23 साल से दिल्ली की सत्ता पाने की कोशिश कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 7:05 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. AAP के राज्यसभा सांसद सुशील गुप्ता ने दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र सरकार (संशोधन) विधेयक, (GNCTD) 2021, बिल को लेकर भाजपा पर हमलावर रुख अपनाया है. उन्होंने कहा कि बीजेपी अरविंद केजरीवाल की लोकप्रियता से डर रही है. इसीलिए इस तरीके के बिल लेकर आ रही है. इस बिल के माध्यम से लोकतंत्र की हत्या की जा रही है. संघीय ढांचे को खत्म करने का प्रयास इस बिल के जरिए किया जा रहा है. एक साधारण से बिल के संशोधन से संविधान को बदलने की कोशिश की गई है, जो असंवैधानिक और गैरकानूनी बात है. संख्या के बल पर घमंड में आकर बीजेपी ने यह काम किया है. बीजेपी पिछले 23 साल से दिल्ली की सत्ता में काबिज होने की कोशिश कर रही है.

दिल्ली की जनता ने धर्म और जाति की राजनीति को फेल करके अरविंद केजरीवाल के विकास के मॉडल को तवज्जो दी है. दिल्ली का विकास मॉडल जिस तरीके से पूरे देश में फैल रहा है. अरविंद केजरीवाल की लोकप्रियता से घबराकर मोदी जी ने इस सवाल का जवाब संसद में उन्होंने खुद दे दिया. PM मोदी का विकल्प अरविंद केजरीवाल है. उनके दिल्ली मॉडल को रोकने के लिए यह बिल पास किया गया है. आदमी जिस से डरता है, उसका रास्ता रोकता है. दिल्ली में किस तरीके से विकास हुआ, उस विकास को पसंद कर अब देश के अन्य राज्य भी अरविंद केजरीवाल की तरफ बढ़ रहे हैं.

Youtube Video


आप नेता सुशील गुप्ता ने कहा कि बीजेपी कह रही है कि इस बिल से स्पष्टीकरण आएगा, लेकिन मैं पूछना चाहता हूं कि क्या स्पष्टीकरण आएगा. संविधान में लिखा था कि मुख्यमंत्री का मतलब दिल्ली सरकार. कल इन्होंने संशोधन किया और सरकार माने उपराज्यपाल हो गया. जिस दिल्ली की जनता ने विधायकों को चुना और सरकार बनी. उस जनता की पावर को जीरो कर दिया. यह दिल्ली की जनता के साथ धोखा है. चुनी हुई सरकार को आप नकार रहे हैं. दिल्ली सरकार की हर फाइल उपराज्यपाल के पास जाएगी और जब चाहे वह उस में अड़ंगा लगा देंगे. ताकि दिल्ली सरकार दिल्ली का विकास ना कर पाए.
दिल्ली सरकार का मतलब मुख्यमंत्री होता है 

सुशील गुप्ता ने कहा कि पहले भी हमें सुप्रीम कोर्ट जाना पड़ा था और सुप्रीम कोर्ट ने व्याख्या की. दिल्ली सरकार का मतलब मुख्यमंत्री. लेकिन बीजेपी इस बिल के जरिए बैक डोर से दिल्ली की सत्ता में आने की कोशिश कर रही है. केंद्र सरकार चाहे लाख कोशिश कर ले, लेकिन दिल्ली की जनता का काम अरविंद केजरीवाल नहीं रुकने देंगे. हम दिल्ली के विकास के लिए पहले भी काम करते रहे हैं और करते रहेंगे. इसके लिए हमें सुप्रीम कोर्ट जाना पड़े, चाहे आंदोलन करना पड़े. रास्ता क्या निकालेंगे. यह पार्टी तय करेगी, लेकिन दिल्ली की जनता का काम नहीं रुकने देंगे. बीजेपी चाहे कितनी नफरत फैलाए लेकिन आम आदमी पार्टी इस नफरत का जवाब प्यार से देगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज