BJP सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने केंद्र सरकार के इस फैसले पर जताया एतराज
Delhi-Ncr News in Hindi

BJP सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने केंद्र सरकार के इस फैसले पर जताया एतराज
यूरोपीय संघ के एक प्रतिनिधिमंडल को जम्मू-कश्मीर का दौरा करने की इजाजत देने पर बीजेपी के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यन स्वामी ने एतराज जताया है

भारत सरकार द्वारा यूरोपीय संघ (European Union) के एक प्रतिनिधिमंडल (Delegation) को जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) का दौरा करने की इजाजत देने पर बीजेपी (BJP) के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी (Subramanian Swamy) ने एतराज जताया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 28, 2019, 6:03 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. भारत सरकार द्वारा यूरोपीय संघ (European Union) के एक प्रतिनिधिमंडल (Delegation) को जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) का दौरा करने की इजाजत देने पर बीजेपी (BJP) के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी (Subramanian Swamy) ने एतराज जताया है. सुब्रमण्यम स्वामी ने एक ट्वीट कर कहा है कि यह भारत की राष्ट्रीय नीति के खिलाफ है. मैं सरकार से इस यात्रा को रद्द करने का आग्रह करता हूं. बता दें कि 30 सांसदों का यह प्रतिनिधिनमंडल मंगलवार (29 अक्टूबर) को जम्मू-कश्मीर का दौरा करेगा.

बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने अपने ट्वीट में लिखा, 'मुझे आश्चर्य हुआ कि विदेश मंत्रालय (Ministry of External Affairs, MEA) ने जम्मू-कश्मीर क्षेत्र का दौरा करने के लिए यूरोपीय संघ के सांसदों की यात्रा की व्यवस्था की है. इन लोगों की यह निजी यात्रा है. ये यूरोपियन संघ का आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल नहीं है. यह हमारी राष्ट्रीय नीति के खिलाफ है. मैं सरकार से इस यात्रा को रद्द करने का आग्रह करता हूं.'





वहीं बीजेपी प्रवक्ता नरेंद्र कोहली ने यूरोपीय डेलिगेशन के प्रस्तावित कश्मीर दौरे पर कहा, ''जम्मू-कश्मीर हमेशा आज भी और आने वाले दिनों में भी भारत का अंग रहेगा. आर्टिकल 370 अस्थायी था. पाकिस्तान ने 370 हटने के बाद हमेशा से यही कोशिश की थी वह प्रोपेगेंडा फैलाए, लेकिन भारत सरकार ने अपनी कूटनीतिक रणनीति के चलते इस प्रयास को असफल किया. मुझे लगता है कि इसी के मद्देनजर यह डेलिगेशन आया होगा और अगर सरकार को कुछ लगेगा तो वह उचित समय पर अपनी प्रतिक्रिया देगी. कश्मीर में पूर्ण रूप से चीजें पारदर्शिता से चल रही हैं, जो भी वहां पर अभी अशांति का माहौल है वह पाकिस्तान की ओर से प्रायोजित हो रहा है. कश्मीर सामान्य जिंदगी की ओर बढ़ रहा है. जहां सिक्योरिटी की जरूरत है वहां पर सुरक्षा बलों को तैनात किया जाता है.

स्थानीय निवासियों से भी मिलेगा डेलीगेशन
बता दें कि यूरोपीय संघ (European Union) की 30 सदस्यीय टीम कश्मीर का दौरा करने के लिए भारत आई हुई है. इस टीम की ये अनौपचारिक यात्रा है और उन्होंने खुद कार्यक्रम बनाया है. यूरोपियन यूनियन का प्रतिनिधिमंडल डल झील में शिकारा मालिकों से मिलने के साथ ही वहां के स्थानीय निवासियों से भी मिलेगा.

EU के सदस्यों ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और एनएसए अजीत डोभाल (NSA Ajit Doval) से भी मुलाकात की है. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूरोपियन संघ की टीम को संबोधित भी किया. पीएम ने कहा, 'आतंकवादियों का समर्थन या ऐसी गतिविधियों और संगठनों का समर्थन करने वाले या राज्य की नीति के रूप में आतंकवाद का उपयोग करने वालों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की जानी चाहिए. आतंकवाद के लिए जीरो टॉलरेन्स की नीति होनी चाहिए.'

EU के सदस्यों ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और एनएसए अजीत डोभाल से भी मुलाकात की है.
EU के सदस्यों ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और एनएसए अजीत डोभाल से भी मुलाकात की है.


पीएम ने उम्मीद जताई कि यूरोपीय संघ के सदस्यों का जम्मू-कश्मीर सहित भारत का ये दौरा उपयोगी साबित होगा. साथ ही पीएम ने कहा कि क्षेत्र के विकास और शासन की प्राथमिकताओं का एक स्पष्ट दृष्टिकोण देने के अलावा इस दौरे से प्रतिनिधिमंडल को क्षेत्र की सांस्कृतिक और धार्मिक विविधता की बेहतर समझ मिलेगी.

वहीं इस दौरे पर प्रतिक्रिया देते हुए महबूबा मुफ्ती के ट्विटर अकाउंट पर लिखा गया है, 'कश्मीर और दुनिया के बीच का लोहे का पर्दा उठेगा.' इसके साथ ही लिखा गया कि 'जम्मू-कश्मीर को अशांति में धकेलने' के लिए भारत सरकार को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए. उम्मीद है कि उन्हें डॉक्टर्स, लोकल मीडिया और सिविल सोसायटी के लोगों से मिलने का मौका मिलेगा.

ये भी पढ़ें: दिल्ली में DTC और कलस्टर बसों पर कल से तैनात होंगे 13 हजार मार्शल, महिलाओं को मिलेगी फ्री राइड
First published: October 28, 2019, 5:11 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading