दिल्ली : बीजेपी सांसद गौतम गंभीर कल से जरूरतमंदों के बीच बांटेंगे ऑक्सीजन कंसंट्रेटर

कोरोना से लड़ाई में गौतम गंभीर लगातार लोगों की मदद कर रहे हैं.

कोरोना से लड़ाई में गौतम गंभीर लगातार लोगों की मदद कर रहे हैं.

गौतम गंभीर ने बताया कि जरूरतमंदों के बीच बांटने के लिए 200 कंसंट्रेटर मंगवाए गए हैं. पहले हमने जिस तरह से मुफ्त ऑक्सीजन दी, उसी तरह दिल्ली, ओड़िशा और पश्चिम बंगाल में हम मुफ्त कंसंट्रेटर बांटेंगे.

  • Share this:
नई दिल्ली. बीजेपी सांसद (BJP MP) और पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने कोरोना संक्रमण के इस दौर में ऑक्सीजन (oxygen) के साथ-साथ जीवनरक्षक दवाओं (life-saving drugs) की कमी को देखते हुए कुछ राज्यों में लोगों की मदद करने की तैयारी की है. उन्होंने बताया कि जरूरतमंदों के बीच बांटने के लिए 200 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर (Oxygen Concentrator) मंगवाए गए हैं. उन्होंने कहा कि पहले हमने जिस तरह से मुफ्त ऑक्सीजन दी, उसी तरह दिल्ली, ओड़िशा और पश्चिम बंगाल में हम मुफ्त कंसंट्रेटर बांटेंगे.

200 कंसंट्रेटर मंगवाए

सांसद गौतम गंभीर ने कहा कि ये वक्त इंसानियत दिखाने का है. हमने 200 कंसंट्रेटर मंगवाए हैं. इन्हें कल से हम बांटना शुरू कर रहे हैं. जिनको कंसंट्रेटर की बहुत जरूरत है, हम चाहते हैं कि ये उनको मिल सके. इसे बांटने के दौरान हम तो गाइडलाइन का पालन करेंगे ही, आप भी गवर्मेंट की गाइडलाइन फॉलो करें.

EWS के लोग कार्ड लाएं
कंसंट्रेटर लेने के लिए आर्थिक पिछड़ा वर्ग (EWS) के जो लोग हैं उन्हें अपना कार्ड लेकर आना होगा. हम नहीं चाहते कि इन चीजों की कालाबाजारी हो या कोई इसे अपने खर में ही रखता रहे. जिनको जरूरत है वही लोग लें. हम ऐसा जरा भी नहीं चाहते कि जिन्हें जरूरत नहीं है वे इसे लें और फिर हमें किसी के घर पुलिस भेजनी पड़े.

दिल्ली की अव्यवस्था पर गौतम का घेरा

उन्होंने दिल्ली की व्यवस्था को देखते हुए राज्य सरकार पर तीखा हमला बोला. उन्होंने कहा कि आपने मोहल्ला क्लीनिक की इतनी तारीफ कर दी कि जनता को ऐसा लगने लगा कि वही क्लीनिक है. लेकिन अब इस बिगड़े हुए हालात में अब कहां हैं वे. कौन सा ऐसा मुख्यमंत्री है जो जनता के पैसे से महाराष्ट्र से लेकर दिल्ली तक विज्ञापन चला रहा है. उन्होंने दुख जताते हुए कहा कि इनके नोडल ऑफिसर फोन नहीं उठाते हैं. अपनी विवशता पर अफसोस करते हुए गौतम गंभीर ने कहा कि हमको शर्म आने लगती है कि हम ज्यादा मदद नहीं कर पाते. ऐसे बुरे वक्त में मुख्यमंत्री बाहर आकर जवाब दें कि दिल्ली की ढाई करोड़ जनता के लिए ये चीजें पर्याप्त हैं? गौतम गंभीर ने कहा कि मुख्यमंत्री और एमपी को कोई दिक्कत नहीं है. उन्होंने व्यंग्य करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री को अपने परिवार के किसी सदस्य के लिए बेड चाहिए तो किसी भी हॉस्पिटल में मिल जाएगा, लेकिन जनता का क्या, वह तो बिना इलाज के मरती रहती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज