लाइव टीवी

चुनावी बॉन्ड से 2018-19 में BJP को 1,450 और कांग्रेस को 383 करोड़ रुपए मिले: रिपोर्ट

भाषा
Updated: January 15, 2020, 9:21 PM IST
चुनावी बॉन्ड से 2018-19 में BJP को 1,450 और कांग्रेस को 383 करोड़ रुपए मिले: रिपोर्ट
बॉन्ड को भारतीय स्टेट बैंक की चुनिंदा शाखाओं से खरीदा जा सकता है और किसी भी राजनीतिक दल को चंदे में दिया जा सकता है.

चुनावी बॉन्ड के माध्यम से भाजपा को 1,450.89 करोड़ रुपये मिले जबकि कांग्रेस को 383.26 करोड़ रुपये और तृणमूल को 97.28 करोड़ रुपये मिले.

  • Share this:
नई दिल्ली.  चुनाव सुधार के लिए काम करने वाली संस्था एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) के अनुसार 2018-19 में भाजपा को चंदे में 2,410 करोड़ रुपये मिले जिसमें 1,450 करोड़ रुपये चुनावी बॉन्ड के जरिए आए. कांग्रेस को चंदे में 918.03 करोड़ रुपये मिले जिनमें 383.26 इस बॉन्ड के जरिए आए. इस बॉन्ड को भारतीय स्टेट बैंक की चुनिंदा शाखाओं से खरीदा जा सकता है और किसी भी राजनीतिक दल को चंदे में दिया जा सकता है. बुधवार को जारी एडीआर के एक विश्लेषण के अनुसार, वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान, छह राष्ट्रीय दलों में से केवल भाजपा, कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस ने ही चुनावी बॉन्ड के माध्यम से कुल 1,931.43 करोड़ रुपये की आय होने की घोषणा की है.

इसमें कहा गया है कि चुनावी बॉन्ड के माध्यम से भाजपा को 1,450.89 करोड़ रुपये मिले जबकि कांग्रेस को 383.26 करोड़ रुपये और तृणमूल को 97.28 करोड़ रुपये मिले. तृणमूल ने वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान कुल 192.65 करोड़ रुपये मिलने की घोषणा की जबकि माकपा ने 100.96 करोड़ रुपये और बसपा ने 69.79 करोड़ रुपये की आय की घोषणा की.

भाजपा की आय 2017-18 में 1,027.34 करोड़ रुपये थी जो बढ़कर 2,410.08 करोड़ रुपये हो गई वहीं कांग्रेस की आय 199.15 करोड़ से बढ़कर 918.03 करोड़ रुपये हो गई. रिपोर्ट में कहा गया है कि भाजपा और कांग्रेस ने चुनाव या प्रचार पर क्रमशः 792.39 करोड़ रुपये और 308.96 करोड़ रुपये खर्च किए.

ये भी पढ़ें:-

Nirbhaya Case: निर्भया के दोषी विनय के छलके आंसू, पिता से मिलकर बोला- एक बार गले तो लगा लो

फांसी का दिन पास आने के साथ ही निर्भया के दोषियों की बढ़ रही है चिंता, तिहाड़ रखे हुए है कड़ी नज़र

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 9:21 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर