• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • नई आफत: कोविड के बाद फंगस का डबल अटैक, एक ही मरीज में मिली ब्‍लैक और व्‍हाइट फंगस

नई आफत: कोविड के बाद फंगस का डबल अटैक, एक ही मरीज में मिली ब्‍लैक और व्‍हाइट फंगस

कोविड के बाद अब डबल फंगस अटैक का खतरा, एक ही मरीज में मिले ब्‍लैक और व्‍हाइट फंगस. photo-news18 English

कोविड के बाद अब डबल फंगस अटैक का खतरा, एक ही मरीज में मिले ब्‍लैक और व्‍हाइट फंगस. photo-news18 English

Black and White fungus attack: मैक्‍स हेल्‍थकेयर वैशाली में यूपी से आए एक मरीज में ब्‍लैक फंगस यानि म्‍यूकरमाइकोसिस और व्‍हाइट फंगस दोनों मिली हैं. फिलहाल मरीज की सर्जरी की गई है. हालांकि फंगस के डबल अटैक को लेकर स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञ चिंतित हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

नई दिल्‍ली. भारत में कोरोना से उबरने के बाद भी लोगों को राहत नहीं मिल पा रही है. पोस्‍ट कोविड प्रभाव (Post Covid Effect) के रूप में सामने आई और महामारी घोषित की जा चुकी ब्‍लैक फंगस (Black Fungus) यानि म्‍यूकरमाइकोसिस (Mucormycosis) जैसी खतरनाक बीमारी के मामलों में कमी आने से लोगों को राहत की उम्‍मीद थी लेकिन अब फंगस के डबल अटैक (Fungus Double Attack) ने स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञों को चिंता में डाल दिया है.

गाजियाबाद के वैशाली स्थित मैक्‍स अस्‍पताल (Max Healthcare) में एक ही मरीज में फंगस के डबल अटैक का मामला सामने आया है. पिछले हफ्ते की यूपी से यहां आए एक मरीज में ब्‍लैक फंगस और व्‍हाइट फंगस दोनों मिली हैं. मरीज की सर्जरी करने वाले डॉक्‍टरों का कहना है कि कोरोना की दूसरी लहर  (Covid Second Wave) के बाद अप्रैल में मरीजों में ब्‍लैक या व्‍हाइट फंगस (White Fungus) में से कोई एक ही बीमारी मिल रही थी लेकिन अब दोनों बीमारियां एक ही मरीज में निकलना चिंता की बात है.

black fungus, white fungus, both fungus attack,

फंगस के सभी प्रकारों में ब्‍लैक फंगस सबसे खतरनाक और जानलेवा है. यह नाक से होते हुए आंख और ब्रेन को प्रभावित करती है. जिसमें आंख खत्‍म हो जाती है.

मरीज का इलाज कर रहे मैक्‍स हेल्‍थकेयर के इंटरनल मेडिसिन विभाग में सीनियर कंसल्‍टेंट डॉ. निशेष जैन ने न्‍यूज18 हिंदी से बातचीत में बताया कि यह मरीज नाक में कुछ भरा हुआ होने और नाक की एक तरफ से लगातार बदबू आने की शिकायत लेकर अस्‍पताल में पिछले हफ्ते आया था. मरीज ने बताया कि उसे अप्रैल के महीने में कोविड भी हुआ था. इसके बाद मरीज की नाक की जांच की गई. उसकी इनडायरेक्‍ट लैरिंजोस्‍कोपी के दौरान पाया गया कि उसकी नाक में ब्‍लैक फंगस थी. वहीं जब ब्‍लैक फंगस को हटाकर देखा तो उसके नीचे व्‍हाइट फंगस भी थी.

डॉ. जैन कहते हैं कि उस मरीज में म्‍यूकरमाइकोसिस सिर्फ नाक तक नहीं नहीं बल्कि ब्रेन तक पहुंच चुकी थी. डॉक्‍टरों ने मरीज की सर्जरी करने के बाद उसे एंटी फंगल दवाएं (Anti-Fungal Medicine) दीं. फिलहाल वह खतरे से बाहर है. जैन कहते हैं कि इससे पहले एक महिला का ब्रेन कल्‍चर टेस्‍ट कराया था तो उसमें भी दोनों फंगस मौजूद मिली थीं. उसकी भी सर्जरी की गई और फंगस को बाहर निकाला गया था. हालांकि चिंता की बात यह है कि अब दोनों बीमारियों के एक साथ मिलने के मामले सामने आने लगे हैं.

ये हैं लक्षण, मरीज रखें ध्‍यान

डॉ. निशेष जैन कहते हैं कि मरीज में दोनों फंगस एक साथ होने का पता जांच से ही लगाया जा सकता है लेकिन अगर मरीज में ब्‍लैक फंगस या व्‍हाइट फंगस के नीचे दिए गए ये लक्षण हैं तो उसे चिकित्‍सक की सलाह लेनी चाहिए.

. नाक लगातार बंद हो,  नाक में से अगर बदबू आ रही है और लग रहा है कि कुछ जमा हुआ है और पूरी तरह नहीं निकल रहा है. या फिर काला-काला पदार्थ निकल रहा है तो उसकी जांच जरूरी है.

. ब्‍लैक या व्‍हाइट फंगस होने पर नाक में जमाव के साथ ही हल्‍का बुखार भी रह सकता है.

. भूख भी लगना कम हो जाती है.

. इसके साथ ही सिर में दर्द और आंखों में लालिमा के साथ सूजन भी हो सकती है.

. शरीर के जोड़ों में दर्द होने लगता है. तेज उल्टियां भी हो सकती हैं.

. अगर फंगस का असर ब्रेन तक पहुंचा तो सोचने विचारने की क्षमता पर असर दिखता है. मरीज जल्दी फैसला नहीं ले पाता और बोलने में भी दिक्कत होने लगती है.

.  मरीज की त्‍वचा पर छोटे-छोटे फोड़े निकल रहे हों और नाक में पपड़ी जैसा जमावा हो तो तुरंत डॉक्‍टर को दिखाएं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज