Home /News /delhi-ncr /

कोरोनाकाल में नॉन मेडिकल स्टाफ के कामों को दर्शाती पुस्‍तक का विमोचन

कोरोनाकाल में नॉन मेडिकल स्टाफ के कामों को दर्शाती पुस्‍तक का विमोचन

इलाज में नॉन मेडिकल स्‍टाफ की भूमिका भी महत्‍वपूर्ण होती है ( प्रतीकात्‍मक फोटो)

इलाज में नॉन मेडिकल स्‍टाफ की भूमिका भी महत्‍वपूर्ण होती है ( प्रतीकात्‍मक फोटो)

मरीजों की जान बचाने में अस्‍पताल के नॉन मेडिकल स्‍टॉफ की भूमिका भी महत्‍वपूर्ण होती है. कोरोना काल में नॉन मेडिकल स्‍टॉफ ने जान जोखिम में डालकर मरीजों की जान बचाई है. इसी तरह की एक पुस्‍तक हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन फ्रॉम द पर्सपेक्टिव ऑफ नॉन मेडिकल एक्जीक्यूटिव्स नामक पुस्तक का विमोचन गौतम बुद्ध नगर के सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. महेश शर्मा ने किया.

अधिक पढ़ें ...

    गाजियाबाद. मरीजों की जान बचाने में अस्‍पताल के नॉन मेडिकल स्‍टॉफ की भूमिका भी महत्‍वपूर्ण होती है. कोरोना काल में नॉन मेडिकल स्‍टॉफ ने जान जोखिम में डालकर मरीजों की जान बचाई है. इसी तरह की एक पुस्‍तक हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन फ्रॉम द पर्सपेक्टिव ऑफ नॉन मेडिकल एक्जीक्यूटिव्स नामक पुस्तक का विमोचन गौतम बुद्ध नगर के सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. महेश शर्मा ने किया. इस दौरान उन्‍होंने पुस्तक के लेखक विश्वबंधु जोशी को बधाई भी दी.

    पुस्‍तक का विमोचन करते हुए डॉ. महेश शर्मा ने कहा कि नॉन मेडिकोज (गैर चिकित्सक) द्वारा किए जाने वाले सभी कार्यों की इस पुस्तक में विस्तार से जानकारी दी गयी है. इस पुस्तक के माध्यम से स्वास्थ्य कर्मचारी प्रेरणा लेते हुए अपनी उत्तम सेवाएं देंगे, जिससे समाज और मरीजों को काफी लाभ होगा. उन्‍होंने कहा कि पूरा देश जब कोरोना वायरस महामारी से लगातार जूझ रहा था. उस समय चिकित्सकों के साथ गैर चिकित्सक यानी नॉन मेडिकल स्टाफ द्वारा भी लगातार मरीजों की जान बचायी जा रही थी.अस्पताल में सर्वोत्‍तम चिकित्सा उपचार के लिए औसतन 30 से 35 प्रतिशत चिकित्सक काम करते हैं, तो 65 से 70 प्रतिशत नॉन की मेडिकल स्टाफ ही काम करता है, जिसमें प्रशासक, प्रबंधक, फार्मासिस्ट के पैरामेडिकल स्टाफ समेत कई लोग शामिल होते हैं.

    चिकित्सकों को उनके स्वास्थ्य सेवा में योगदान देने के लिए पुरस्कार और सम्मान दिया जाता है, जबकि गैर चिकित्सकों का योगदान किसी चिकित्सक से कम नहीं होता है. पुस्‍तक में इलाज के दौरान अस्पताल के विभिन्न विभागों और उनके सामने आने वाली सभी समस्याओं को विस्तार के साथ रखा गया है.  लेखक विश्वबंध जोशी ने बताया कि स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में नॉन मेडिकल स्टाफ के इस अमूल्य योगदान के लिए उन्हें मान्यता दी जानी चाहिए. इस विषय पर एक सेमिनार का भी आयोजन किया जाना चाहिए.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर