लाइव टीवी

शाहीन बाग में बच्चे की मौत का मामला: SC को चिट्ठी लिखने वाली बहादुर बच्ची ने कही ये बात
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: February 10, 2020, 2:21 PM IST
शाहीन बाग में बच्चे की मौत का मामला: SC को चिट्ठी लिखने वाली बहादुर बच्ची ने कही ये बात
शाहीन बाग मामले पर SC को चिट्ठी लिखने वाली बहादुर बच्ची ज़ेन गुणारत्न सदावर्ते (फाइल फोटो)

ज़ेन गुणारत्न सदावर्ते ने शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में धरना-प्रदर्शन के दौरान चार महीने के जहान की मौत (Death) का मामला सुप्रीम कोर्ट में उठाया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 10, 2020, 2:21 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय बहादुरी अवॉर्ड (National Bravery Award) से सम्मानित मुंबई की 12 वर्षीय छात्रा ज़ेन गुणारत्न सदावर्ते ने शाहीन बाग मामले (Shaheen Bagh Matter) में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) द्वारा उनकी याचिका को स्वीकार कर लेने पर खुशी जताई. उन्होंने कहा मैं खुश हूं कि सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी किया है. सरकार को कदम उठाने चाहिए कि बच्चों को प्रोटेस्ट में शामिल नहीं किया जाए. दरअसल, सदावर्ते ने शाहीन बाग में धरना-प्रदर्शन के दौरान चार महीने के जहान की मौत (Death) का मामला सुप्रीम कोर्ट में उठाया था.

ज़ेन गुणारत्न सदावर्ते ने कहा, 'पीएम मोदी, अमित शाह और अरविंद केजरीवाल जी को राजनीति नहीं करनी चाहिए. कोई भी मां ये नहीं कह सकती कि मैं अपने बच्चे को कुर्बान करने को तैयार हूं. कोई भी कानून इसकी इजाजत नहीं देता है.'

बता दें, राजधानी दिल्ली के शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में सीएए (CAA) और एनआरसी (NRC) के खिलाफ पिछले साल दिसंबर से प्रदर्शन जारी है. विरोध प्रदर्शन में शामिल होने वाले इस चार महीने के मासूम को उसकी मां गोद में लेकर आती थी. प्रदर्शनकारी मासूम के चेहरे पर तिरंगा बनाते थे. मोहम्मद की मां नाजिया उसे रोज शाहीन बाग के प्रदर्शन (Shaheen Bagh Protest) में ले जाती थी लेकिन उसे क्या पता था कि उसका लाल एक दिन अचानक उसे अकेला छोड़ जाएगा. दरअसल, इस नवजात बच्चे को शाहीन बाग में खुले में प्रदर्शन के दौरान ठंड लग गई थी, जिससे उसकी मौत हो गई.

प्रदर्शन के दौरान लग गई थी ठंड

उसकी मां अब भी प्रदर्शन में हिस्सा लेने को तैयार हैं. मोहम्मद की मां का कहना है, 'यह मेरे बच्चों के भविष्य के लिए है.' मोहम्मद के मां-बाप बटला हाउस इलाके में प्लास्टिक और पुराने कपड़े से बनी छोटी सी झुग्गी में रहते हैं. उनके दो और बच्चे हैं- 5 साल की बेटी और एक साल का बेटा.

मुश्किल से पूरी हो पाती है रोजमर्रा की जरूरतें
उत्तर प्रदेश के बरेली के रहने वाले दंपति मुश्किल से अपना रोज़मर्रा का खर्च पूरा कर पाते हैं. मोहम्मद के पिता आरिफ कढ़ाई का काम करते हैं और ई-रिक्शा भी चलाते हैं. मोहम्‍मद की मां भी कढ़ाई के काम में मदद करती हैं.'हमने सब कुछ खो दिया'
आरिफ बताते हैं कि कढ़ाई के काम के अलावा वह ई-रिक्शा भी चलाते हैं. इसके बावजूद वह परिवार के लिए इतने पैसे नहीं जुटा पाते जिससे सामान्‍य तरीके से गुजर-बसर हो सके. उन्‍होंने बताया कि अब उनके बच्चे की मौत हो गई, उन्‍होंने सब कुछ खो दिया.

'आई लव माई इंडिया'
आरिफ ने अपने बेटे मोहम्मद की एक तस्वीर दिखाई. इसमें मोहम्‍मद को एक ऊनी कैप पहनाई गई है और उस पर लिखा है- आई लव माई इंडिया. मोहम्‍मद की मां नाजिया ने कहा कि उनके बेटे की 30 जनवरी की रात को प्रदर्शन से लौटने के बाद नींद में ही मौत हो गई.

ये भी पढ़ें: शाहीन बाग प्रदर्शन: मां के साथ रोज आता था यह मासूम, लोग उसके चेहरे पर बनाते थे तिरंगा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 10, 2020, 2:21 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर