Home /News /delhi-ncr /

गुरुग्राम: मीट दुकानदारों से हिन्दू संगठनों की गुंडागर्दी, जबरन बंद करवाईं दुकानें

गुरुग्राम: मीट दुकानदारों से हिन्दू संगठनों की गुंडागर्दी, जबरन बंद करवाईं दुकानें

हिंदू संगठन के लोग दुकानें बंद करवाते हुए

हिंदू संगठन के लोग दुकानें बंद करवाते हुए

हिंदू संगठनों का कहना है कि उन्होनें पहले ही जिला प्रशासन को ज्ञापन के जरिए अनुरोध किया था कि वो आदेश पारित करे कि नवरात्रों के दौरान शहर में मीट की दुकानों को बंद रखा जाए.

दिल्ली से सटे साइबर सिटी गुरुग्राम में मीट की दुकानों को लेकर घमासान मचा हुआ है. हिंदू संगठनों के लोग टोली बनाकर सड़कों पर निकले और जो भी मीट की दुकानें खुली मिली, उनको जबरदस्ती बंद करवा दिया. यहां तक कि मीट दुकानदारों के साथ पुलिस की मौजूदगी में मारपीट भी की. हिंदू संगठनों का कहना है कि वो नवरात्र के दौरान शहर में कोई भी मीट की दुकान नहीं खुलने देंगे.

हिंदू संघर्ष समिति के अध्यक्ष महाबीर भारद्वाज का कहना है कि उन्होंने पहले ही जिला प्रशासन को ज्ञापन के जरिए अनुरोध किया था कि वो आदेश पारित करे कि नवरात्रों के दौरान शहर में मीट की दुकानों को बंद रखा जाए. लेकिन अगर प्रशासन कोई कदम नहीं उठाता है तो फिर हमें खुद सड़को पर उतरना पड़ेगा. हिंदू संगठनों का कहना है कि जब रमजान के दौरान केंद्र सरकार आदेश दे सकती है कि आंतकियों को नहीं मारा जाएगा तो फिर हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं का ख्याल क्यों नहीं रखा जाता है.

रेवाड़ी में महिला के अपहरण की कोशिश, विरोध किया तो चाकू मार फरार हुए आरोपी

पीड़ित मीट दुकानदार माधव करण ने बताया कि हम खुद हिंदू हैं और हमने तो लाइसेंस लिया हुआ है. फिर भी हम लोगों के साथ इस तरह का बर्ताव किया जा रहा है. जबकि हम लोग तो अपनी दुकानों की साफ सफाई करने के लिए आए थे.

हिंदू सगंठनों की इस मांग पर गुरुग्राम के डीसी विनय प्रताप सिंह का कहना है कि ये नगर निगम का काम है कि मीट मार्केट में जहां अवैध दुकानें हैं उनको बंद कराए. लेकिन जिनको लाइसेंस दिया हुआ है उनको कोई जबरदस्ती बंद नहीं करा सकता. अगर कोई इस तरह जबरदस्ती बंद करवाता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. हिंदू सेना की गुंडागर्दी पर अधिकारियों का कहना है कि पुलिस को हिदायत है कि जो इस प्रकार गुंडागर्दी करता है उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए.

Tags: Gurugram, Gurugram Police

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर