Home /News /delhi-ncr /

कुन्नूर हादसे का शिकार हुए बिग्रेडियर लखविंदर सिंह के पास थी ये अहम जिम्मेदारी, उनका जाना देश की बड़ी क्षति

कुन्नूर हादसे का शिकार हुए बिग्रेडियर लखविंदर सिंह के पास थी ये अहम जिम्मेदारी, उनका जाना देश की बड़ी क्षति

कुन्नूर हादसे का शिकार हुए पंचकूला के ब्रिगेडियर लखविंदर सिंह लिड्डर अपनी पत्नी के साथ. इस फोटो को ट्वीट करके हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने उन्हें सबसे बहादुर सेनाधिकारी बताया है.

कुन्नूर हादसे का शिकार हुए पंचकूला के ब्रिगेडियर लखविंदर सिंह लिड्डर अपनी पत्नी के साथ. इस फोटो को ट्वीट करके हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने उन्हें सबसे बहादुर सेनाधिकारी बताया है.

Coonoor helicopter crash: सेना पदक और विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित ब्रिगेडियर लखविंदर सिंह लिड्डर हरियाणा के पंचकूला के रहने वाले थे. रक्षा अताशे के तौर पर कजाकिस्तान में भी पदस्थ रहे थे. वह दिसंबर 1990 में 2 जम्मू-कश्मीर राइफल्स से जुड़े और बाद में इसका नेतृत्व भी किया. सेना में सेवा देने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़ ने ट्वीट करते हुए ब्रिगेडियर लिड्डर को ‘सबसे बहादुर अधिकारियों’ में से एक बताया. ब्रिगेडियर लिड्डर के परिवार में उनकी पत्नी और एक बेटी है.

अधिक पढ़ें ...

    नयी दिल्ली. कुन्नूर के नजदीक हेलीकॉप्टर दुर्घटना (coonoor helicopter crash) में मारे गए सैनिकों में ब्रिगेडियर लखविंदर सिंह लिड्डर (Brigadier Lakhwinder Singh Lidder) भी शामिल थे जिन्होंने सीडीएस जनरल बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) के रक्षा सहायक के तौर पर तीनों सेनाओं (Indian Army) में सुधार के लिए व्यापक कार्य किए थे.

    दूसरी पीढ़ी के सेना अधिकारी ब्रिगेडियर लिड्डर की जल्द ही मेजर जनरल के तौर पर पदोन्नति होने वाली थी. जनरल रावत की टीम में एक वर्ष से अधिक समय तक काम करने के बाद वह अपने अगले पदस्थापना के लिए तैयारियां कर रहे थे. ब्रिगेडियर लिड्डर ने जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद निरोधक अभियानों में काफी काम किया और चीन के साथ लगती भारतीय सीमा पर एक ब्रिगेड का नेतृत्व किया.

    जनरल रावत के सहायक के रूप में रक्षा सुधारों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई

    जनरल रावत के रक्षा सहायक के तौर पर ब्रिगेडियर लिड्डर ने भारत के रक्षा सुधारों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जिसके तहत तीनों सेनाओं के लिए थियेटर कमान बनाने की महत्वाकांक्षी योजना तैयार की गई है. ताकि सुनिश्चित किया जाए कि सेना, नौसेना और वायुसेना के बीच समन्वय बढ़ सके.

    भारतीय वायुसेना के एमआई-17वी5 हेलीकॉप्टर (MI-17V5 Helicopter) के बुधवार को तमिलनाडु के कुन्नूर में दुर्घटनाग्रस्त हो जाने से उसमें सवार जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका, ब्रिगेडियर लखविंदर सिंह लिड्डर और 10 अन्य सैन्यकर्मियों की मौत हो गई थी.

    सेना और विशिष्ट सेवा मेडल से सम्मानित थे ब्रिगेडियर लिड्डर

    सेना पदक और विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित ब्रिगेडियर लिड्डर हरियाणा के पंचकूला के रहने वाले थे. रक्षा अताशे के तौर पर कजाकिस्तान में भी पदस्थ रहे थे. वह दिसंबर 1990 में 2 जम्मू-कश्मीर राइफल्स से जुड़े और बाद में इसका नेतृत्व भी किया.

    सेना में सेवा देने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़ ने ट्वीट करते हुए ब्रिगेडियर लिड्डर को ‘‘सबसे बहादुर अधिकारियों’’ में से एक बताया. ब्रिगेडियर लिड्डर के परिवार में उनकी पत्नी और एक बेटी है.

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर