Delhi: श्मसान और कब्रिस्तान के स्टाफ को अभी तक नहीं लगी है कोरोना वैक्सीन


चाहे श्मसान का स्टाफ हो या क़ब्रिस्तान का, जान जोखिम में डालकर कोरोना में महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी निभा रहे हैं.

चाहे श्मसान का स्टाफ हो या क़ब्रिस्तान का, जान जोखिम में डालकर कोरोना में महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी निभा रहे हैं.

दिल्ली में कोरोना शवों का अंतिम संस्कार करने वाले स्टाफ को अभी तक कोरोना की वैक्सीन नहीं लगी है. चाहे श्मसान का स्टाफ हो या क़ब्रिस्तान का, इनकी मांग है कि जान जोखिम में डालकर कोरोना में महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी निभा रहे हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. दिल्ली में कोरोना शवों का अंतिम संस्कार करने वाले स्टाफ को अभी तक कोरोना की वैक्सीन नहीं लगी है. चाहे श्मसान का स्टाफ हो या क़ब्रिस्तान का, इनकी मांग है कि जान जोखिम में डालकर कोरोना में महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी निभा रहे हैं, लिहाजा प्राथमिकता के आधार पर स्टाफ को टीके लगाए जाएं. दिल्ली के ITO पर जदीद कब्रिस्तान स्थित है. यहां चार लोगों का स्टाफ कोरोना में दिन रात शवों को दफनाता है. उन्हीं में से एक हैं इल्यास. इल्यास कोरोना की पिछली लहर के बाद से अपने घर नहीं गए हैं. परिवार दिल्ली के नरेला में ही रहता है. आज भी वो एक कोरोना शव को दफनाने की तैयारी कर रहे हैं. इन्होंने दूसरी लहर में भी सैंकड़ो कोरोना शवों को दफनाया है. इल्यास का कहना है कि अब उन्हें घर जाना है लेकिन डर लगता है घर जाने में. अभी तक टीका नहीं लगा है. हमारी मांग है हमें फ्रंटलाइन वर्कर मानकर कोरोना वैक्सीन लगाई जाए ताकि हम भी सुरक्षित रह सके.

कुछ यही हाल है ग़ाज़ीपुर में बने श्मसान घाट के स्टाफ का. इस शमसान में 22 लोगों का स्टाफ काम करता है. स्टाफ में दो लोगों को छोड़कर सभी 45 साल से कम उम्र के हैं. इस शमसान के आचार्य सुनील शर्मा ने बताया कि हमें MCD की तरफ से कहा गया था कि टीके लगवाने के लिए लेकिन हम गए तो हमें टीका नहीं लगाया गया. हमारी मांग है कि प्राथमिकता के आधार पर यहां मौजूद सभी स्टाफ को कोरोना वैक्सीन लगवाई जाए. सुनील बताते हैं कि कोरोना की दूसरी लहर में दिन रात सैंकड़ो कोरोना शवों का अंतिम संस्कार किया. एक दिन में हमने 143 कोरोना शवों का अंतिम संस्कार किया. स्टाफ बुरी तरह थक जाता था और बुखार तक हो जाता था. गनीमत रही कि कोई भी कोरोना पॉजिटिव नहीं हुआ.

दिल्ली नगर निगम के मेयर निर्मल जैन ने कहा कि इसमें कोई शक नहीं है कि श्मसान का स्टाफ बहुत महत्वपूर्ण काम कर रहा है. 45 के लोगों का वैक्सीनेशन तो हम कल ही करवा देंगे लेकिन 18-44 साल के लोगों के लिए स्लॉट में अभी दिक़्क़त है. 1 जून से जैसे ही वैक्सीन आएगी, DM से बात करके हम इन्हें कोरोना वॉरियर के रूप अलग से वैक्सीनेशन करवा देंगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज