Lockdown in Delhi: बेकाबू कोरोना पर CAIT का बड़ा बयान, कहा- केजरीवाल सरकार जारी करे श्वेत पत्र

दिल्‍ली सरकार ने 6 दिन का लॉकडाउन लगाया है.  (फाइल फोटो)

दिल्‍ली सरकार ने 6 दिन का लॉकडाउन लगाया है. (फाइल फोटो)

Lockdown in Delhi: दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल से कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने कोरोना को लेकर श्वेत पत्र जारी करने की मांग की है. इसके साथ कहा, 'दिल्ली के लोगों को यह जानने का पूरा हक है कि लॉकडाउन के बाद सरकार कैसे कोरोना पर काबू पाएगी.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 20, 2021, 9:15 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने दिल्ली के मुख्‍यमंत्री अरविन्द केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) से आग्रह किया है कि कोरोना के मामलों में हो रही वृद्धि और चिकित्सा सुविधओं की बदहाल स्थिति की वर्तमान हालत पर शीघ्र एक श्वेत पत्र जारी करें जिससे दिल्ली के लोगों को मालूम हो सके की कोरोना के मामले में दिल्ली कहां खड़ी हैं. साथ ही कहा कि श्वेत पत्र में यह भी बताया जाए दिल्ली में कोरोना से निपटने के लिए सरकार की आगे की रणनीति क्या है और क्या सरकार स्वयं कोरोना से निपटने में सक्षम है या फिर सरकार को जनता, व्यापारियों और रिहायशी कॉलोनियों के संगठनों से किसी सहयोग की आवश्यकता है. अगर है तो सरकार ने उसकी क्या योजना बनाई है.

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने महत्वपूर्ण मुद्दे को उठाते हुए कहा कि बेशक दिल्ली में सरकार ने 6 दिन का लॉकडाउन लगा दिया, लेकिन यह कोरोना के मामले की गति को केवल कुछ हद तक ही कम कर सकता है. बड़ा सवाल यह है कि लॉकडाउन के बाद अब क्या? इसके साथ खंडेलवाल ने कहा,'दिल्ली के लोगों को यह जानने का पूरा हक है कि लॉकडाउन के बाद सरकार कैसे कोरोना पर काबू पाएगी. केवल दिल्ली सरकार के भरोसे यह विषय छोड़ा नहीं जा सकता है.'

दिल्ली में लोग त्राहि त्राहि कर रहे: खंडेलवाल

इसके साथ खंडेलवाल ने कहा,'जमीन पर स्थिति यह है कि अस्पतालों में बिस्तर नहीं है, ऑक्सीजन नहीं मिल रही है, वेंटीलेटर कम हैं, दवाइयां मिल नहीं रही हैं और कोविड टेस्टिंग आसानी से हो नहीं पा रही है. दिल्ली में लोग त्राहि त्राहि कर रहे हैं, कोई सुनने वाला नहीं है. रेमेडिसविर इंजेक्शन मिलने के लिए दिल्ली सरकार ने एक लिस्ट जारी की थी लेकिन यह उन स्थानों पर भी उपलब्ध नहीं है, लोग मारे-मारे फिर रहे हैं, चाह कर भी लोग मदद नहीं कर पा रहे हैं. इलाज और दवाई के मामले में अब पैसा भी फेल हो गया है. इसका कौन जिम्मेदार है ?'
कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि सीएम केजरीवाल को अब युद्ध स्तर पर दिल्ली को कोरोना से मुक्त कराने और फिलहाल तुरंत मेडिकल सुविधाएं किस तरह से चुस्त दुरुस्त हो सकती हैं, इस योजना का ठोस खाके का एक श्वेत पत्र के रूप में अविलम्ब जारी करना चाहिए. अब टीवी पर विज्ञापन देने का समय ख़त्म हो चुका है और जरूरत है सड़क पर उतर कर काम करने की. सरकार के हर प्रयास में दिल्‍ली के व्यापारी पूरी तरह सरकार का सहयोग करने के लिए तत्पर हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज