अपनी बेची हुई कार फिर से चुरा लेता था कार मालिक, अब तक सात लोगों को लगा चुका है चूना

पुलिस ने बताया कि दो साल से अपनी कार बेचने और फिर चुराने का काम कर रहा था गिरफ्तार किया गया मनोत्तम. (सांकेतिक तस्वीर)
पुलिस ने बताया कि दो साल से अपनी कार बेचने और फिर चुराने का काम कर रहा था गिरफ्तार किया गया मनोत्तम. (सांकेतिक तस्वीर)

मनोत्तम ने अपनी गाड़ी में जीपीएस डिवाइस लगवा रखी थी. बेचने के बाद वह इसी डिवाइस की मदद से गाड़ी की लोकेशन पता कर लेता था और फिर डुप्लिकेट चाबी से उसे चुरा लेता था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2020, 7:42 PM IST
  • Share this:
नोएडा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के नोएडा (Noida) से पुलिस ने एक ऐसे चोर को गिरफ्तार (Arrest) किया है जिसने कई बार अपनी गाड़ी बेची और फिर उसे चुरा लाया. 28 बरस के इस शख्स के बारे में पुलिस ने बताया कि उसने अपनी गाड़ी ई-कॉमर्स साइट के जरिए बेची और फिर उसे चुरा लिया. इस शख्स की पहचान मूल रूप से अमरोहा के रहने वाले मनोत्तम त्यागी के रूप में हुई है. मनोत्तम ने अपनी गाड़ी में जीपीएस डिवाइस लगवा रखी थी. बेचने के बाद वह इसी डिवाइस की मदद से गाड़ी की लोकेशन पता कर लेता था और फिर डुप्लिकेट चाबी से उसे चुरा लेता था. पुलिस ने बताया कि पिछले दो बरस से वह यह काम कर रहा था. इस बीच उसने कम से कम 7 लोगों को इस तरह से चूना लगाया है.

वेबसाइट पर देता था विज्ञापन

नोएडा के सेक्टर 24 पुलिस स्टेशन के अधिकारी प्रभात दीक्षित ने बताया कि यह शख्स जीतू यादव की लिखाई एफआईआर के आधार पर गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने बताया कि जीतू यादव ने 3 मार्च को वाहन चोरी की शिकायत दर्ज करवाई थी. उसने बताया था कि 2 लाख 60 हजार रुपये में उसने सेकेंड हैंड मारुति स्विफ्ट खरीदी थी. गाड़ी बेचने वाले से जीतू ने वेबसाइट के जरिए संपर्क किया था. सौदा तय होने के बाद गाड़ी बेचने वाला सेक्टर 66 के ममूरा चौक पर आया और पैसे लेकर मारुति स्विफ्ट दे गया. हालांकि वह अपने साथ गाड़ी के पेपर और दूसरी चाबी लेकर नहीं आया था तो तय हुआ कि अभी वह 2 लाख रुपये ले जाए, बाकी पैसे दूसरी चाबी और कागजात सौंपे जाने के बाद दिए जाएंगे.



जीपीएस से पता लगाता था कार की लोकेशन
जीतू ने अपनी एफआईआर में बताया कि अगले दिन सेक्टर 12 में उसने अपने दफ्तर के बाहर गाड़ी खड़ी की, जहां से वह चोरी हो गई. एसएचओ ने कहा कि पुलिस को बाद में पता चला कि गाड़ी ग्रेटर नोएडा वेस्ट में कहीं है. इस सूचना के बाद पुलिस की एक टीम ग्रेटर नोएडा भेजी गई. इस टीम ने जब गाड़ी देखी तो उसने गाड़ी को रोककर उसकी जांच की. जांच में पता चला कि गाड़ी की नंबर प्लेट भी नकली है. तब उस गाड़ी के ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया गया. आरोपी ने पुलिस के सामने कबूल कर लिया है कि उसी ने गाड़ी चुराई है. पुलिस ने आरोपी के पास से चोरी की हुई गाड़ी, दो मोबाइल फोन, तीन फर्जी आधार कार्ड, तीन पैन कार्ड और 10,720 रुपये कैश बरामद किए हैं. उसे कोर्ट में पेश कर न्यायिक हिरासत में लिया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज