सरकारी फण्ड का दुरुपयोग: कई अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज, गुरुग्राम समेत 9 ठिकानों पर CBI ने मारे छापे
Delhi-Ncr News in Hindi

सरकारी फण्ड का दुरुपयोग: कई अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज, गुरुग्राम समेत 9 ठिकानों पर CBI ने मारे छापे
सीबीआई ने गुरुग्राम समेत 9 ठिकानों पर छापेमारी

सीबीआई (CBI) ने इस मामले की तफ्तीश शुरू कर दी है. सीबीआई द्वारा दर्ज FIR के मुताबिक ये मामला मणिपुर डेवलपमेंट सोसायटी (Manipur Development Society) से जुड़ा हुआ है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
दिल्ली. केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई (CBI) की टीम सरकारी फण्ड के दुरुपयोग करने के आरोप में कई अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज करके 9 लोकेशन पर छापेमारी (Raid) कर रही है. सीबीआई की टीम हरियाणा (Haryana) में स्थित गुरुग्राम (Gurugram), नार्थ ईस्ट राज्यों में स्तिथ ऐजवल, इम्फाल सहित अन्य लोकेशन पर छापेमारी कर रही है. केंद्र सरकार को ये जानकारी मिली थी कि कई सरकारी अधिकारियों द्वारा 518 करोड़ के  सरकारी फण्ड में से 332 करोड़ के फंड के साथ फर्जीवाड़ा किया गया. जिसके बाद इस मामले की गंभीरता को देखते हुए मामले की तफ्तीश का जिम्मा सीबीआई को सौंपा गया.

मणिपुर की सरकार ने इस मामले की तफ्तीश के लिए सीबीआई जांच की मांग केंद्र सरकार से की थी. उसके बाद तमाम मामले की जानकारी प्राप्त करने के बाद केंद्र सरकार ने तमाम सीबीआई को जांच का जिम्मा सौंपा. सीबीआई द्वारा दर्ज इस मामले में प्रमुख आरोपियों का नाम इस प्रकार से है:-

  1. वाई. निंगथेम सिंह - पूर्व प्रोजेक्ट डायरेक्टर ,मणिपुर विकास सोसायटी (MDS )




  2. डी.एस. पूनिया - पूर्व चैयरमेन , MDS  (सेवानिवृत्त IAS )

  3. पी. सी. लौमुकंगा - पूर्व चैयरमेन (सेवानिवृत्त IAS)



  4. ओ. नाबाकिशोर सिंह - सेवानिवृत्त IAS

  5. एस. रंजीत सिंह - प्रशासनिक अधिकारी (MDS )

  6. कई अज्ञात अधिकारी /प्राइवेट पर्सन

  7. क्या था ये सरकारी फंड के दुरुपयोग का मामला ?


सीबीआई ने शुरू की तफ्तीश

सीबीआई ने इस मामले की तफ्तीश शुरू कर दी है. सीबीआई द्वारा दर्ज FIR के मुताबिक ये मामला मणिपुर डेवलपमेंट सोसायटी से जुड़ा हुआ है. जो 30 जून 2009 से लेकर 6 जुलाई 2017 के वक्त हुए इस फर्जीवाड़े को अंजाम दिया गया था. जिसमें इन अधिकारियों की भूमिका संदिग्ध लगी और उसके खिलाफ जुटाए गए सबूतों के आधार पर इस FIR को दर्ज किया गया.

नोटिस भेजकर सबको बुलाया जाएगा

सीबीआई के मुताबिक विकास कार्यों के लिए केंद्र सरकार से मिले  इस 518 करोड़ के फण्ड में जिस तरह से 332 करोड़ के फंड के साथ खिलवाड़ किया गया है. अब उस मामले में इन आरोपी अधिकारियों से जल्द ही पूछताछ की जाएग. इसके लिए पूछताछ के लिए जल्द से जल्द नोटिस भेजकर इन सब को अलग-अलग बुलाया जाएगा. इसके साथ ही सीबीआई की टीम सभी आरोपियों से जुड़े दस्तावेज को उससे मांग की जाएगी.


यह भी पढ़ें- RTA कार्यालय के कर्मचारियों की कार्यशैली से जनता परेशान, समय पर नहीं पहुंचते दफ्तर


यह भी पढ़ें- शादी का कार्ड लेकर पीएम मोदी से मिलने संसद पहुंचीं 'दंगल गर्ल' बबीता फोगाट
First published: November 22, 2019, 2:25 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading