सुशील की कॉलर क्या पकड़ी, बेइज्जती का बदला लेने के लिए पहलवान ने खड़ी कर दी थी गैंगस्टरों की फौज

पहलवान सुशील कुमार को लेकर पुलिस नए खुलासे कर रही है.

पहलवान सुशील कुमार को लेकर पुलिस नए खुलासे कर रही है.

Sagar murder case: 4 मई को जिस दिन छत्रसाल स्टेडियम में पहलवान सागर की मौत हुई थी, उस दिन आखिर क्या हुआ था. कहते हैं कि पहलवान सुशील ने बेइज्जती का बदला लेने के लिए गैंगस्टर्स की पूरी फौज खड़ी कर दी थी.

  • Share this:

नई दिल्ली. आखिर 4 मई को जिस दिन छत्रसाल स्टेडियम में पहलवान सागर की मौत हुई थी, उस दिन आखिर क्या हुआ था. कहते हैं कि पहलवान सुशील ने बेइज्जती का बदला लेने के लिए गैंगस्टर्स की पूरी फौज खड़ी कर दी थी. अब दो बार के ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार और उसके तीन अन्य साथी पुलिस की गिरफ्त में रिमांड पर हैं.

न्यूज18 आपको बता रहा है कि क्राइम ब्रांच की तफ्तीश में कौन से पहलू सामने आ रहे हैं...

दरअसल बीते चार मई को वारदात वाले दिन कुख्यात गैंगस्टर काला जखेड़ी के ममेरे भाई सोनू, रविन्द्र व अन्य का मॉडल टाउन वाले फ्लैट को लेकर सुशील पहलवान से झगड़ा हो गया था. उन लोगों ने सुशील पर हावी होकर उसकी शर्ट का कालर पकड़ लिया था. इतना ही नहीं, उसे देख लेने की धमकी देते हुए दौड़ा भी दिया था.

Youtube Video

पहलवान सुशील को अपनी ये बेइज्जती नागवार गुजरी थी और खुन्नस व तनाव में आकर उसने उसी दिन  इसका बदला लेने की ठान ली. इसके लिए सुशील ने कुख्यात नीरज बवाना व असौदा गिरोह के बदमाशों का सहारा लिया. और देखते ही देखते कुछ घंटे के अंदर ही उसने हरियाणा से बदमाशों को बुला उसी रात सोनू समेत अन्य की बुरी तरह से पिटाई कर दी. घटना में सागर के सिर पर गंभीर चोट लग जाने के कारण उसकी मौत हो गई थी.

सोनू, सागर व अन्य की जानवरों की तरह पिटाई करने की पृष्टभूमि चार मई को दिन में ही अचानक तैयार हो गई थी. पुलिस का कहना है कि दिन में सुशील जब छत्रसाल स्टेडियम आया था तब उसके साथ अधिक पहलवान नहीं थे. स्टेडियम में अचानक उसकी सोनू, सागर, अमित, भक्तु, रविन्द्र व विकास आदि से कहा-सुनी हो गई. सुशील को जबरदस्त तरीके से अपमानित भी किया गया.

उस समय तो सुशील स्टेडियम से चला गया था, लेकिन अपमान का बदला लेने के लिए उसने तुरंत उन लोगों को सबक सिखाने की ठान ली. अजय व अन्य साथियों के साथ मिलकर उसने बदमाशों को फोनकर तुरन्त हरियाणा से दिल्ली बुला लिया. पहले किसी अन्य जगह पर सभी जमा हुए. वहां कई ने शराब पी और खाना खाया.



उसके बाद 5-6 कारों में सवार होकर वे लोग देर रात 12 बजे शालीमारबाग में रविन्द्र के घर पर पहुंचे. रविन्द्र उस समय अपने घर के नीचे एक दुकान के सामने खड़ा होकर आइसक्रीम खा रहा था. रविन्द्र व उसके साथी विकास को उन लोगों ने अपनी कारों में बैठाकर अगवा कर लिया. इसके बाद सभी माडल टाउन स्थित सोनू के फ्लैट के पास पहुंचे.

वहां से सोनू, सागर, अमित व भक्तु को कारों में बैठाकर सभी को रात करीब एक बजे छत्रसाल स्टेडियम ले आए. यहां पार्किंग एरिया में सभी छह पहलवानों को घेरकर सुशील व उसके साथ आए बदमाशों में लाठी डंडे, हाकी स्टिक आदि से बुरी तरह जानवरों की तरह पिटाई शुरू कर दी. कोर्ट को पुलिस ने बताया है कि इन लोगों ने सागर, सोनू व अन्य की जानवरों की तरह पिटाई की थी. सोनू को पेशाब पिलाने की भी कोशिश की गई.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज