गुरुग्राम में CCTV के नाम पर लाखों का गबन, RTI के जरिए हुआ खुलासा

प्रतिकात्मक तस्वीर
प्रतिकात्मक तस्वीर

निगम की तरफ से शहर में सीसीटीवी लगाए जाने के बाद आरटीआई एक्टिविस्ट राहुल कुमार ने सभी कैमरों को चेक किया और मार्केट में जाकर कैमरों की कीमत का पता लगाया.

  • Share this:
साइबर सिटी गुरुग्राम में सीसीटीवी के नाम पर बड़े गड़बड़झाले का खुलासा हुआ है. आरटीआई के जरिए इस इस पूरे घोटाले का पर्दाफाश किया गया. गुरुग्राम को सुरक्षित करने के लिए निगम की तरफ से शहर भर में सीसीसीटीवी लगवाए गए ताकि अपराध और अपराधियों पर शिकंजा कसा जा सके. लेकिन सुरक्षा और सुविधा के नाम पर यहां लाखों का घोटाला भी जमकर हुआ.

निगम की तरफ से शहर में सीसीटीवी लगाए जाने के बाद आरटीआई एक्टिविस्ट राहुल कुमार ने सभी कैमरों को चेक किया और मार्केट में जाकर कैमरों की कीमत का पता लगाया. इस सीसीटीवी कैमरों की कीमत 20 हजार रु. बताई गई.

इसके बाद राहुल ने एक आरटीआई के जरिए निगम से कैमरों की कीमत की जानकारी मांगी तो निगम की ओर से कैमरों की कीमत करीब 65 हजार रु. लगाई गई थी. वहीं निगम कमिश्नर का कार्यभार संभाल रहे यशपाल यादव अपने अधिकारियों का ही बचाव किया. उन्होंने कहा कि सीसीटीवी लगवाने के टेंडर प्रोसेस से किए गए थे. हांलाकि ये भी साफ किया कि सबूत उपलब्ध होने पर संबंधित अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई जरूर की जाएगी.



ये भी पढ़ें:-
यमुनानगर में 4 आरोपियों की कोर्ट में पेशी, हत्या की वारदात कबूली

थाने में युवक ने फांसी लगाकर की सुसाइड, पूछताछ के लिए लाई थी पुलिस

भोंडसी जेल में एक कैदी पर 5 कैदियों ने किया नुकीले हथियार से हमला, अस्पताल में भर्ती
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज