Assembly Banner 2021

दिल्ली की सड़कों पर दौड़ रही बसों की 24 घंटे निगरानी करेंगे CCTV, कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में नजर आएगी हर गतिविधि!

परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कश्मीरी गेट स्थित कमांड एंड कंट्रोल सेंटर का निरीक्षण किया.

परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कश्मीरी गेट स्थित कमांड एंड कंट्रोल सेंटर का निरीक्षण किया.

दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कश्मीरी गेट स्थित नवनिर्मित कमांड एंड कंट्रोल सेंटर का निरीक्षण किया. इस परियोजना का उद्देश्य डीटीसी और क्लस्टर बसों में आईपी आधारित सीसीटीवी निगरानी कैमरों, पैनिक बटन और जीपीएस के माध्यम से यात्री सुरक्षा विशेष रूप से महिला यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करना है. कमांड और कंट्रोल सेंटर के अलावा, एक डिजास्टर रिकवरी सेंटर, एक डेटा सेंटर और सभी डिपो में अलग-अलग व्यूइंग सेंटर भी हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2021, 11:13 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत (Kailash Gehlot) ने कश्मीरी गेट स्थित नवनिर्मित कमांड एंड कंट्रोल सेंटर (Command & Control Center) का निरीक्षण किया. इसका उद्देश्य डीटीसी (DTC) और क्लस्टर बसों (Cluster Buses) में आईपी आधारित सीसीटीवी निगरानी कैमरों, पैनिक बटन और जीपीएस के माध्यम से यात्री सुरक्षा विशेष रूप से महिला यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करना है.


निरीक्षण के दौरान परिवहन विभाग, दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी), दूरसंचार कंसल्टेंट्स इंडिया लिमिटेड (टीसीआईएल), दिल्ली इंटीग्रेटेड मल्टी-मोडल ट्रांजिट सिस्टम (डीआईएमटीएस) और अर्न्स्ट एंड यंग (ईएंडवाई) के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे.


निरीक्षण के बाद परिवहन मंत्री ने अधिकारियों के साथ बैठक कर कमांड और नियंत्रण केंद्र के कामकाज से संबंधित सभी मुद्दों पर चर्चा बैठक भी की. उन्होंने अधिकारियों को डाटा निगरानी और संचालन के बारे में प्रतिदिन रिपोर्ट प्रस्तुत करने का भी निर्देश दिया.


कश्मीरी गेट पर कमांड और कंट्रोल सेंटर के अलावा, एक डिजास्टर रिकवरी सेंटर, एक डेटा सेंटर और सभी डिपो में अलग-अलग व्यूइंग सेंटर भी हैं. सभी डिपो प्रबंधकों द्वारा लाइव फुटेज की निगरानी भी की जा सकती है.




बसों में सभी गतिविधियों की वास्तविक समय की निगरानी के लिए कमांड सेंटर 24 घंटे कार्य करेगा. डिपो प्रबंधक, ड्राइवर, कंडक्टर और मार्शल बसों में लगाए गए सिस्टम के संचालन से संबंधित अपनी ट्रेनिंग पूरी कर चुके हैं.


सभी डीटीसी और क्लस्टर बसों को अब 3-आईपी कैमरा, एमएनवीआर जीपीएस डिवाइस, 10 पैनिक बटन, ड्राइवर के लिए एक डिस्प्ले, हूटर, स्ट्रोब और 2 नंबर टू-वे ऑडियो कम्यूनिकेशन डिवाइस के लिए एक-एक ड्राइवर और कंडक्टर के साथ फिट किया गया है.


सभी नई शामिल बसों और आने वाली बसों में पहले से ही ये सभी सिस्टम स्थापित हैं, जो कश्मीरी गेट पर कमांड एंड कंट्रोल सेंटर के साथ एकीकृत होंगे. यात्री, ड्राइवर या कंडक्टर किसी भी आपात स्थिति या घबराहट की स्थिति में पैनिक बटन दबा सकते हैं. अलर्ट स्वचालित रूप से वास्तविक समय में कश्मीरी गेट पर कमांड एंड कंट्रोल सेंटर को भेजा जाएगा.


कमांड सेंटर में ऑपरेटर अलर्ट को फिल्टर करेगा और विभिन्न अलर्ट परिदृश्यों में परिभाषित स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर्स (एसओपीे) के माध्यम से बस के जीपीएस निर्देशांक के साथ त्वरित प्रतिक्रिया के लिए पुलिस, फायर और एम्बुलेंस जैसे संबंधित हितधारक को अलर्ट भेजेगा. इन पैनिक अलर्ट के साथ सिंक्रोनाइजेशन में आपातकाल के समय संबंधित अधिकारियों को एसएमएस और एक ईमेल अलर्ट भी भेजा जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज