Home /News /delhi-ncr /

केंद्र ने HC में दिया हलफनामा, पाकिस्तान से आए 800 हिंदू शरणार्थियों को बिजली देने का किया विरोध

केंद्र ने HC में दिया हलफनामा, पाकिस्तान से आए 800 हिंदू शरणार्थियों को बिजली देने का किया विरोध

केंद्र सरकार ने दिल्ली हाई कोर्ट में हलफनामा देकर कहा है कि पाकिस्तान से आए हिंदू शरणार्थियों ने रक्षा मंत्रालय की जमीन पर अवैध कब्जा कर लिया है. (फाइल फोटो)

केंद्र सरकार ने दिल्ली हाई कोर्ट में हलफनामा देकर कहा है कि पाकिस्तान से आए हिंदू शरणार्थियों ने रक्षा मंत्रालय की जमीन पर अवैध कब्जा कर लिया है. (फाइल फोटो)

Delhi News Update: केंद्र सरकार ने दिल्ली हाई कोर्ट में हलफनामा देकर पाकिस्तान से आए 800 हिंदू शरणार्थियों को बिजली कनेक्शन देने का विरोध किया है. केंद्र सरकार ने कहा कि रक्षा मंत्रालय ने दिल्ली जल बोर्ड और नॉर्थ दिल्ली पावर लिमिटेड के सामने भी इस मामले को उठाया है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. उत्तरी दिल्ली के आदर्श नगर इलाके में पाकिस्तान (Pakistan) से आए करीब 800 हिंदू प्रवासियों (800 Hindu migrants) के लिए बिजली कनेक्शन (Electricity Connection) की मांग के मामले में केंद्र सरकार ने दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) में हलफनामा दाखिल कर हिंदू शरणार्थियों को बिजली कनेक्शन देने की याचिका का विरोध किया है.

केंद्र सरकार (Central Government) ने कहा है कि दिल्ली जल बोर्ड मैदान में कैंप बनाकर हिंदू शरणार्थियों ने रक्षा विभाग की जमीन पर अवैध अतिक्रमण किया हुआ है. केंद्र सरकार ने अदालत में कहा है कि अगस्त 2018 में 70.253 एकड़ DRDO को दी गई थी. उस जमीन पर अवैध अतिक्रमण कर बनाए गए आवास को खाली कराने के प्रयास जारी हैं, इसके लिए जिला प्रशासन और पुलिस की मदद ली जा रही है.

केंद्र सरकार ने कहा कि रक्षा मंत्रालय ने दिल्ली जल बोर्ड और नॉर्थ दिल्ली पावर लिमिटेड के सामने भी इस मामले को उठाया है. जिसमें उन्होंने कहा है कि अवैध रूप से आवास बनाकर रह रहे इन शरणार्थियों को बिजली और पानी की सुविधा न दी जाए. इस मामले में दिल्ली हाई कोर्ट कंल फिर से सुनवाई करेगा.

Tags: DELHI HIGH COURT, Delhi News Alert, Delhi news update, Hindu-Muslim, Indo-Pak border, Pakistan connection

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर