Start ups- बुजुर्गों के लिए स्टार्टअप शुरू करने पर सरकार करेगी 1 करोड़ तक मदद,जानें नियम

स्टार्टअप शुरू करने के लिए 1 करोड़ रुपये तक मदद.

स्टार्टअप शुरू करने के लिए 1 करोड़ रुपये तक मदद.

केन्‍द्र सरकार बुजुर्गों के लिए स्‍टार्टअप शुरू करने में मदद करेगी. इसके लिए सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय (Ministry of Social Justice and Empowerment) योजना लांच की है, जिसके तहत 50 फीसदी तक मदद सरकार देगी.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. अगर आप कोई ऐसा स्‍टार्टअप शुरू करना चाह रहे हैं, जो केवल बुजुर्गों के लिए है तो आपके लिए खुशशबरी है. ऐसे स्‍टार्टअप को सरकार मदद करेगी. सरकार ने बुजुर्गों के लिए एसएजीई यानी सीनियर केयर एजिंग ग्रोथ इंजन (Senior Care Aging Growth Engine) योजना शुरू की है. यह पहल सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय (Ministry of Social Justice and Empowerment) द्वारा की गई है.

बुजुर्ग खुश, स्वस्थ व आर्थिक और शारीरिक रूप से सक्रिय रहें, इसके लिए सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने एसएजीई (सीनियरकेयर एजिंग ग्रोथ इंजन) योजना शुरू की है. मंत्रालय बुजुर्गों के लिए कोई भी काम करने के लिए 50 फ़ीसदी तक आर्थिक मदद करेगा. यह मदद लोन न होकर एक इक्विटी के रूप में दी जाएगी, जिससे लोन ब्याज जैसा बोझ ना पड़े और वे व्यापार में शेयरधारक होंगे. इसके लिए मंत्रालय ने पोर्टल लांच किया है, जिस पर आवेदन किए जा रहे हैं और आवेदनों के लिए एक कमेटी का गठन भी किया गया है. इसके लिए 100 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की गई है. इस योजना के तहत बुजुर्गों के लिए स्‍वास्‍थ्‍य, मेडिकल, फिटनेस, यात्रा, वित्‍त, कानूनी, बीमा, रहने के लिए आवास, भोजन, देखभाल केन्‍द्र से संबंधित स्‍टार्टअप शुरू कर सकते हैं. सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत के अनुसार समिति की सिफारिश पर, बुजुर्गों की देखभाल के लिए स्टार्टअप शुरू करने के लिए 1 करोड़ रुपए तक दिए जाएंगे. वित्त वर्ष 2021-22 में इस योजना के लिए 25 करोड़ रुपये का आवंटन किए गए हैं.

देश में बुजुर्गों की आबादी लगातार बढ़ रही है. मौजूदा समय देश में कुल आबादी में बुजुर्गों की हिस्सेदारी 2001 में 7.5 प्रतिशत से बढ़कर 2026 तक लगभग 12.5 प्रतिशत ​​और 2050 तक 19.9 प्रतिशत से अधिक होने की उम्मीद है. इसी को ध्‍यान में रखते हुए मंत्रालय ने फैसला लिया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज