• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • मनीष सिसोदिया का केंद्र पर बड़ा आरोप, बोले- सरकार ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों की जांच नहीं करना चाहती

मनीष सिसोदिया का केंद्र पर बड़ा आरोप, बोले- सरकार ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों की जांच नहीं करना चाहती

मनीष सिसोदिया ने ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों की जांच नहीं कराने पर केंद्र पर निशाना साधा है.

मनीष सिसोदिया ने ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों की जांच नहीं कराने पर केंद्र पर निशाना साधा है.

Manish Sisodia Vs Mansukh Mandaviya: दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने ऑक्सीजन की कमी (Oxygen Shortage) से होने वाली मौतों की जांच के लिए एक पैनल बनाने की आवश्यकता को खारिज कर दिया है. इसके साथ उन्‍होंने कहा कि अगर ऑक्‍सीजन की कमी से हुई मौतों की जांच हुई तो केंद्र सरकार की पोल खुल जाएगी. यह जनता के साथ धोखाधड़ी है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने दावा किया है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया (Mansukh Mandaviya) ने राष्ट्रीय राजधानी में ऑक्सीजन की कमी (Oxygen Shortage) से संबंधित मौतों की जांच के लिए एक पैनल बनाने की आवश्यकता को खारिज कर दिया है, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त टास्क फोर्स इस मामले को देख रहा है. उन्होंने बुधवार को यह भी कहा, ‘केंद्र जांच से भाग रहा है, क्योंकि यदि मौतों की जांच की जाती है तो जनता को उनकी लापरवाही और धोखाधड़ी का पता चल जायेगा.’

    मनीष सिसोदिया ने मंडाविया को पत्र लिखकर एक बार फिर कहा था कि ऑक्सीजन की कमी से होने वाली मौतों की संख्या को सही ढंग से पेश करने के लिए एक जांच समिति की आवश्यकता है. सिसोदिया ने एक ऑनलाइन ब्रीफिंग में कहा, ‘केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने अपने पत्र में कहा है कि
    नेशनल टास्क फोर्स के पास 12 प्रासंगिक शर्तें हैं, जिनमें से पांच ऑक्सीजन से संबंधित हैं और इस कारण दिल्ली सरकार द्वारा एक जांच समिति गठित करने की आवश्यकता नहीं है.’

    सिसोदिया ने केंद्र पर लगाया ये आरोप
    दिल्‍ली के उपमुख्‍यमंत्री ने कहा, ‘ केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री का दावा है कि राष्ट्रीय टास्क फोर्स के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिया गया जनादेश ऑक्सीजन की कमी के कारण होने वाली मौतों से संबंधित है, लेकिन टास्क फोर्स के लिए शीर्ष अदालत द्वारा निर्देशित 12 सूत्री एजेंडा अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति और भविष्य के लिए सिफारिशें और प्रबंधन से जुड़ा है.’ इसके साथ उन्होंने कहा कि जब ऑक्सीजन की कमी के कारण हुई मौतों की जांच के लिए टास्क फोर्स के जनादेश में कहीं भी इसका उल्लेख नहीं किया गया है, तब भी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री दावा कर रहे हैं कि ऑक्सीजन की कमी के कारण मौतों का आकलन करने के लिए एक जांच समिति गठित करने की कोई आवश्यकता नहीं है.

    इसके अलावा मंडाविया द्वारा दिया गया दूसरा कारण यह है कि सुप्रीम कोर्ट ने टास्क फोर्स के तहत दिल्ली के लिए एक उप-समूह बनाने का निर्देश दिया है और एक अंतरिम रिपोर्ट पहले ही जारी की जा चुकी है, इसलिए जांच समिति का गठन महत्वपूर्ण नहीं है. वहीं, मनीष सिसोदिया ने आरोप लगाया कि इतनी सारी मौतों के पीछे केंद्र द्वारा ऑक्सीजन का ‘घोर कुप्रबंधन’ है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज