Delhi Corona News: छतरपुर में आज से शुरू होगा ITBP का कोविड केयर सेंटर, NCR के लिए बनेगा लाइफ लाइन

दिल्ली में छतरपुर में कोविड केयर सेंटर आज से शुरू हो रहा है.

दिल्ली में छतरपुर में कोविड केयर सेंटर आज से शुरू हो रहा है.

छतरपुर इलाके में स्थित राधा स्वामी सत्संग व्यास में बना ये कोविड केयर सेंटर 25 एकड़ में फैला हुआ है. इसमें कोरोना के मरीजों के लिए 10 हज़ार बेड लगाए जाने हैं, अभी फिलहाल मरीज़ों के लिए 500 बेड तैयार हैं.

  • Last Updated: April 26, 2021, 6:29 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राजधानी के छतरपुर इलाके में सोमवार 26 अप्रैल सुबह करीब 10 बजे सरदार पटेल सीसीसी एंड अस्पताल (Sardar Patel CCC & Hospital) एक बार फिर से कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए प्रारंभ होने जा रहा है. सोमवार से आईटीबीपी (ITBP) कोविड अस्पताल में मरीजों की भर्ती करने के लिए तमाम प्रक्रिया शुरू कर देगा. राजधानी दिल्ली में बढ़ते संक्रमण के आंकड़े दिल्ली समेत पूरे एनसीआर वासियों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है.

कोरोना के कहर के मद्देनजर दिल्ली वासियों को एक बड़ी राहत मिलने जा रही है. मरीजों की एंट्री इस अस्पताल में कैसे होगी ये महत्वपूर्ण सवाल बना हुआ है. इस मसले पर आईटीबीपी के अधिकारी ने बताया की मरीजों के प्रवेश के लिए मानक संचालन प्रक्रिया (SOP) और सभी निर्धारित कोविड (Covid-19) प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा. इसके लिए मरीजों को अस्पताल में वॉक इन भर्ती का कोई प्रावधान नहीं है, बल्कि दिल्ली में तमाम जिलों के जिला निगरानी अधिकारी द्वारा ही रेफर किया जाएगा, उसके बाद ही उस संबंधित मरीज को भर्ती किया जाएगा. रविवार दोपहर आईटीबीपी (ITBP) के डीजी एसएस देसवाल सहित कई अधिकारी इस अस्पताल में पहुंचे और वहां के तमाम एसओपी और सुविधाओं को देखा और उसके मुताबिक उचित निर्देश दिए.

अस्पताल में कैसे होगी मरीजों का प्रवेश 

दिल्ली के छतरपुर इलाके में राधा स्वामी सत्संग स्थल के लोकेशन में स्थित इस अस्पताल में आईटीबीपी के डॉक्टरों द्वारा तमाम व्यवस्था की जा रही है, काफी आधुनिक अस्पताल है, जहां तमाम जीवनरक्षक उपकरण समेत देश के बेहतर डॉक्टरों की टीम उपलब्ध रहेगी. लिहाजा एक अनुमान लगाया जा रहा है कि जिस तरह से दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या काफी ज्यादा है और अस्पतालों में ऑक्सीजन समेत जीवन रक्षक उपकरणों की सुविधा अन्य अस्पतालों की अपेक्षा ज्यादा बेहतर है, लिहाजा इस अस्पताल में ज्यादा मरीज आ सकते हैं.
इसके लिए एक विशेष प्रोटोकॉल बनाया गया है. मरीजों को अस्पताल में पहुंचने के बाद सबसे पहले रिसेप्शन पर लाया जाएगा. उसके बाद उसकी प्रारंभिक एंट्री और उसके तमाम मेडिकल दस्तावेजों को देखने के बाद उसकी प्रारंभिक शारीरिक और चिकित्सकीय जांच की जाएगी. इसके उपरांत उनके आवंटित बिस्तर पर अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा. इसके साथ ही प्रवेश के बाद उन्‍हें एक किट भी प्रदान किया जाएगा.

इस अस्पताल में तमाम चिकित्सा उपचार, भोजन, दवाइयां समेत तमाम अन्य सुविधाएं मुफ्त में मरीजों को प्रदान की जाएगी. ITBP के चिकित्सा स्टाफ के अलावा बल के तनाव परामर्शदाताओं की सेवाएं भी उपलब्ध होंगी. पिछले साल भी इस अस्पताल में करीब 10 हजार मरीजों को एक साथ इलाज की व्यवस्था की गई थी, लेकिन इस बार शुरुआती दौर में 500 मरीजों की उसके कुछ दिनों के बाद करीब पांच हजार मरीजों के इलाज की व्यवस्था कर ली जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज