लाइव टीवी

चिराग पासवान ने आरक्षण से जुड़े सभी विषयों को 9वीं अनुसूची में डालने की उठाई मांग
Patna News in Hindi

पीटीआई
Updated: February 10, 2020, 4:52 PM IST
चिराग पासवान ने आरक्षण से जुड़े सभी विषयों को 9वीं अनुसूची में डालने की उठाई मांग
उन्होंने इस विषय पर उच्चतम न्यायालय के फैसले पर असहमति व्यक्त किया. (फाइल फोटो)

चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने कहा कि विपक्ष का सरकार को दलित विरोधी बताना ठीक नहीं है और राजग सरकार ने एक नहीं बल्कि अनेक बार एससी, एसटी, ओबीसी वर्ग को मजबूत बनाने का काम किया है.

  • Share this:


नई दिल्ली. नियुक्तियों एवं पदोन्नति में आरक्षण (Reservation) के मुद्दे पर शीर्ष न्यायालय (Supreme court) के एक फैसले पर लोजपा के अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने कहा कि आरक्षण कोई खैरात नहीं है बल्कि यह संवैधानिक अधिकार है. उन्होंने इस विषय पर उच्चतम न्यायालय के फैसले पर असहमति व्यक्त किया.  उन्होंने कहा ‘‘इस मामले में सरकार को हस्तक्षेप करना चाहिए. आरक्षण से जुड़े सभी विषयों को संविधान की 9वीं अनुसूची में डाल दिया जाए ताकि इस विषय पर बहस समाप्त हो जाए. ’’

चिराग ने कहा कि विपक्ष का सरकार को दलित विरोधी बताना ठीक नहीं है और राजग सरकार ने एक नहीं बल्कि अनेक बार एससी, एसटी, ओबीसी वर्ग को मजबूत बनाने का काम किया है. वहीं, जदयू के राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने कहा कि आरक्षण के मुद्दे पर न्यायालय का जो फैसला आया है, उसको लेकर पूरा सदन एकमत है. जब पूरा सदन इस विषय पर एकमत है तब इसका राजनीतिकरण ठीक नहीं है.

आगे भी सरकार इसका निपटारा करेगी

उन्होंने कहा कि जब पहले एससी, एसटी अत्याचार का मुद्दा आया था तब भी राजग सरकार मजबूत कानून लाई थी और आगे भी सरकार इसका निपटारा करेगी. इसके अलावा बसपा के रितेश पांडे ने सरकार पर दलित विरोधी होने का आरोप लगाते हुए कहा कि संविधान में आरक्षण का अधिकार दिया गया है और न्यायालय के फैसले से वह असहमत हैं. अपना दल की अनुप्रिया पटेल ने कहा कि आरक्षण पर न्यायालय के फैसले से वह असहमत हैं. उन्होंने कहा, ‘‘ मैं कहना चाहती हूं कि एससी, एसटी और ओबीसी को संविधान प्रदत्त अधिकार के खिलाफ यह सबसे दुर्भाग्यपूर्ण फैसला है. यह वंचित वर्गो पर कुठाराघात है.’’ उन्होंने कहा कि बार-बार ऐसे फैसले इसलिये आते हैं क्योंकि न्यायपालिका में एससी, एसटी, ओबीसी का प्रतिनिधित्व नहीं है.


ये भी पढ़ें- 



News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 10, 2020, 4:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर