सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा-वह हनुमान जी के भक्त हैं, दिल्ली के बुजुर्गों को कराएंगे अयोध्या में श्रीराम मंदिर के दर्शन!

राम मंदिर. (file pic)

राम मंदिर. (file pic)

दिल्ली सरकार राम राज्य की अवधारणा पर तैयार 10 बिंदुओं पर काम कर रही है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अयोध्या में बनने वाले भव्य राम मंदिर के निर्माण पूरा होने के बाद दिल्ली के बुजुर्गों को दिल्ली सरकार प्रभु श्री राम के भव्य मंदिर का दर्शन करवाएगी. मुख्यमंत्री केजरीवाल ने स्वयं को प्रभु श्री राम के अनन्य भक्त हनुमान जी का भक्त बताया. उन्होंने कहा कि वह हनुमान जी के भक्त हैं और हनुमान जी प्रभु श्री राम के अनन्य भक्त हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 10, 2021, 2:56 PM IST
  • Share this:
नई दि‍ल्‍ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज विधानसभा के बजट सत्र (Budget Session) के दौरान उप- राज्यपाल (LG) के अभिभाषण पर वक्तव्य देते हुए कहा कि दिल्ली सरकार (Delhi Government) राम राज्य की अवधारणा पर तैयार 10 बिंदुओं पर काम कर रही है.




मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अयोध्या (Ayodhya) में बनने वाले भव्य राम मंदिर के निर्माण पूरा होने के बाद दिल्ली के बुजुर्गों को दिल्ली सरकार प्रभु श्री राम (Lord Shri Ram) के भव्य मंदिर का दर्शन करवाएगी. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने स्वयं को प्रभु श्री राम के अनन्य भक्त हनुमान जी का परम भक्त बताया. उन्होंने कहा कि वह हनुमान जी के भक्त हैं और हनुमान जी प्रभु श्री राम के अनन्य भक्त हैं.



विधानसभा में वक्तव्य देते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि भगवान श्री राम सभी के आराध्य हैं. मैं हनुमान जी का भक्त हूं. हनुमान जी श्री रामचंद्र जी के भक्त हैं. सनातन में मैं दोनों का भक्त हूं. प्रभु श्री राम अयोध्या के राजा थे. उनके शासनकाल में सब कुछ बहुत अच्छा था. सब खुशी थे. किसी प्रकार का कोई दुःख नहीं था. हर प्रकार की सुविधा थी. इसलिए उसे रामराज्य (Ram Rajya) कहा गया.




राम राज्य से एक अवधारणा है रामचंद्र जी भगवान थे. हम उनके सामने एक विचित्र प्राणी है. हम इतना भी नहीं कर सकते. लेकिन उनसे प्रेरणा लेकर हम अगर उनके राम राज्य की अवधारणा के रास्ते पर चलकर अगर एक सार्थक कोशिश भी कर सकें तो हमारा जीवन धन्य हो जाएगा.






इस सदन के अंदर बैठे हुए सभी सदस्यों का होना भी सार्थक हो जाएगा. प्रभु श्रीराम से प्रेरणा लेकर दिल्ली के अंदर पूरी साफ-सुथरे नियत से कार्य करने के लिए पिछले 6 साल से हम प्रयास कर रहे हैं. 10 मुख्य बिंदु व सिद्धांत बनाए हैं. राम राज्य की अवधारणा से प्रेरणा लेंगे.




उन्होंने बताया कि दिल्ली के अंदर कोई भी भूखा ना सोए. इसके लिए अलग-अलग किस्म के प्रयास किए जा रहे हैं. शांति हो रही हो या महामारी आ जाए, तब भी कोई भूखा ना सोए. ऐसी तमाम योजना बनाई जाती है. दो समय का खाना हमने कोरोना महामारी के दौरान दिया. डोर टू डोर राशन लोगों को पहुंचाया.




दूसरी, बात हर बच्चे को कितने ही गरीब का बच्चा भिखारी का बच्चा क्यों ना हो सभी को अच्छी शिक्षा मिलनी चाहिए. उन्होंने कहा कि अभी तक व्यवस्था थी कि गरीबों के बच्चे सरकारी में जाएंगे. अमीरों के बच्चे प्राइवेट में जाएंगे. हमारा मकसद हर बच्चे को अच्छी शिक्षा और हर एक को एक तरह के अवसर पढ़ने के मिल रहे हैं.




तीसरी, अवधारणा यह है कि कोई बीमार हो जाए सभी को अच्छी स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराई जाए. दिल्ली सरकार रहने वाले हर अमीर-गरीब के लिए अच्छी से अच्छी, बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने का काम किया जा रहा है.




चौथा, सिद्धांत यह है कि कोई भी कितना गरीब क्यों ना हो? कई राज्यों में ₹10 और 7 रुपयों की बिजली मिलती है. गरीब व्यक्ति एक बल्ब नहीं जला सकता है. बिजली आज जरूरत और मूलभूत जरूरत हो गई है. इसलिए 200 यूनिट बिजली आम आदमी के लिए बहुत जरूरी है. इसलिए हमने फ्री कर दिया. दिल्ली दुनिया का अकेला ऐसा राज्य है, शहर है जहां पर लोगों को 24 घंटे बिजली फ्री मिलती है. यह गरीब अमीर सभी को मिलती है.




पांचवा, सिद्धांत पानी का है. पानी पिलाने का पुण्य होता है. ऐसा कहा जाता है. लेकिन सरकार पानी पिलाने के लिए पैसा लेती हैं. इसलिए दिल्ली सरकार ने सिद्धांत बनाया की पानी सभी को मिलना चाहिए. 20000 लीटर पानी मुफ्त में दिया जा रहा है.




छठा, रोजगार का सिद्धांत बनाया. इसके लिये, स्टार्टअप पॉलिसी जॉब पोर्टल तमाम तरह के प्रयास कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमने सब कुछ कर लिया ऐसा नहीं है, हम राम राज्य की अवधारणा को अपनाने का काम कर रहे हैं.




सातवां, सभी के लिए मकान उपलब्ध कराने के लिए खासकर गरीबों की झोपड़ी में रह रहे हैं. बहुत कठिन परिस्थितियों में रह रहे हैं. उनको मकान उपलब्ध कराने का काम कर रहे हैं. मुख्यमंत्री ने यह कहा कि काफी जगह मकान बन गए हैं, कई जगह बन रहे हैं.




आठवां, सिद्धांत महिलाओं की सुरक्षा को लेकर है. उन्होंने कहा कि जिस राज्य में महिला सुरक्षित नहीं है वह समाज प्रगति नहीं कर सकता. उन्होंने कहा कि हम प्रयास कर रहे हैं. हमने सीसीटीवी कैमरे लगाए, डार्क स्पॉट पर लाइट लगाना, बसों के अंदर सीसीटीवी और मार्शल लगाना बसों में यात्रा फ्री यात्रा, महिलाओं को सम्मान देने और सुरक्षा देने के लिए सरकार ने पूरी कोशिश की है.




मुख्यमंत्री ने कहा कि नौवां सिद्धांत बुजुर्गों का सम्मान करना है जो समाज अपने बुजुर्गों का सम्मान नहीं देता, उस समाज का अंत निश्चित है. वह समाज आगे नहीं बढ़ सकता. उन्होंने कहा कि बुजुर्गों के समय देने के लिए तरह-तरह के कदम उठाएं यह उनकी आखिरी का फेज है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सभी बुजुर्गों से कहना चाहता हूं कि मंदिर बनने के बाद आप सभी को अयोध्या के दर्शन करवाउंगा.




उन्होंने आखिरी सिद्धांत और दसवां सिद्धांत बताते हुए कहा कि आम आदमी पार्टी के दिल्ली सरकार में सब बराबर हैं. सभी जाति, धर्म, समुदाय, चाहे वो हिंदू, मुसलमान, सिख, इसाई हो. किसी भी जात ब्राह्मण,  ठाकुर, जातक, बाल्मीकि सभी जाति धर्म समान हैं.




रामराज्य की परिकल्पना श्री रामचंद्र जी ने शबरी के झूठे बेर खाए थे. उनके जीवन से प्रेरणा लेनी है. उनके राज्य के अंदर किसी तरह का भेदभाव नहीं होता था सभी भाई चेहरे और शांति पूर्वक अपना निर्वाह करें. ऐसी हमारी कोशिश है. मुख्यमंत्री ने उपराज्यपाल के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव का समर्थन किया.




उपराज्‍यपाल के अभि‍भाषण को सदन में ध्‍वनि‍मत से क‍िया पारि‍त   




दिल्ली के उपराज्यपाल की ओर से दिए गए अभिभाषण को सदन के समक्ष गोपाल राय ने प्रस्तुत किया. और सदन में ध्वनिमत के साथ इस प्रस्ताव को पारित कर दिया गया. इसमें नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कोरोना महामारी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और गृहमंत्री अमि‍त शाह (Home Minister Amit Shah) के प्रयासों को भी अभिभाषण में शामिल करने के लिए आग्रह किया. सत्ता और विपक्ष के दोनों सदस्यों ने उपराज्यपाल के अभिभाषण पर अपने वक्तव्य भी सदन के समक्ष पेश किये. चर्चा में विशेष रवि, राजेश ऋषि, राज कुमारी ढिल्लो, अनिल बाजपेई, अब्दुल रहमान, अजय दत्त, रोहित मेहरोलिया, सौरभ भारद्वाज, मोहन सिंह बिष्ट, रामवीर सिंह बिधूड़ी आदि ने प्रमुख रूप से भाग लिया.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज