Delhi News: सीएम अरविंद केजरीवाल ने PM मोदी को लिखा खत, ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर रखी ये मांग

सीएम अरविंद केजरीवाल ने पीएम नरेंद्र मोदी को लिखा खत.  (फाइल फोटो)

सीएम अरविंद केजरीवाल ने पीएम नरेंद्र मोदी को लिखा खत. (फाइल फोटो)

Oxygen Crisis in Delhi: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind kejriwal) ने पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के एक खत लिखा है. इसमें सीएम केजरीवाल ने दिल्ली में ऑक्सीजन (oxygen crisis) की निरंतर सप्लाई करने की मांग की है.

  • Share this:

दिल्ली. कोरोना (COVID-9) के बढ़ते मामलों के बीच राजधानी दिल्ली ऑक्सीजन की कमी (Oxygen Shortage in Delhi) से जूझ रही है. दिल्ली को मंगलवार को 730 मिट्रिक टन ऑक्सीजन मिली है. केंद्र से मिली मदद के बाद अब मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक खत के जरिए केंद्र और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार व्यक्त किया है. साथ ही दिल्ली को निरंतर ऑक्सीजन सप्लाई करते रहने की मांग भी रखी है. सीएम अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी मोदी को लिखे खत में कहा, ''मैं कल दिल्ली के लोगों की ओर से 730 मिट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए आभार व्यक्त करता हूं. मेरा आपसे अनुरोध है कि आप दिल्ली को रोजाना उतनी ही मात्रा में ऑक्सीजन की आपूर्ति करें.'’

दिल्ली सरकार ने दावा किया है कि मंगलवार को वार रूम में  48 एसओएस कॉल कई अस्पतालों से आई. इनमें कहीं पर ऑक्सीजन खत्म हो रही थी, कहीं पर सिलेंडर नहीं पहुंचे थे और कहीं पर 1 घंटे की ऑक्सीजन बची थी. सरकार के मुताबिक, हेल्पलाइन पर आई 48 एसओएस कॉल से जुड़ी सभी दिक्कतों को दूर किया. हमने कल लगभग 36.40 मीट्रिक टन ऑक्सीजन एसओएस कॉल से जुड़ी दिक्कतों को दूर करने के लिए इस्तेमाल की है. जिन अस्पतालों में ऑक्सीजन खत्म हो रही थी वहां पर 4036 मरीज ऑक्सीजन के सहारे अपना इलाज करा रहे थे. पर्याप्त ऑक्सीजन पहुंचाकर लगभग 4036 लोगों की जान बचाने का काम किया गया है.

दिल्ली हाईकोर्ट की हिदायत

दिल्ली हाईकोर्ट ने बुधवार को कहा कि अस्पताल प्रबंधन द्वारा ऑक्सीजन की कमी  के बारे में झूठे चेतावनी संदेश नहीं दिए जाने चाहिए, क्योंकि इससे पहले से ही दबाव झेल रहे सरकारी तंत्र पर अनावश्क रूप से बोझ और बढ़ जाता है. इसके साथ ही दिल्‍ली हाईकोर्ट ने दिशा-निर्देश तय किए कि कब इस तरह के एसओएस (त्राहिमाम संदेश) जारी किए जाएंगे.
ये भी पढ़ें: Bihar News: कोविड-19 के नए स्ट्रेन ने बढ़ाई आफत, 24 घंटे में मिले 3469 पॉजिटिव मरीज 

दिल्‍ली हाईकोर्ट ने कहा कि जब अस्पताल के पास छह घंटे या उससे कम समय की ऑक्सीजन बाकी हो, तो उसे पहले अपने आपूर्तिकर्ता से संपर्क करना चाहिए. उन्होंने कहा कि अगर कोई कार्रवाई नहीं होती है तो अस्पताल को नोडल अधिकारी को सूचना देनी चाहिए. इसके बाद भी आपूर्ति प्राप्त नहीं होने और केवल तीन घंटे की ऑक्सीजन बची होने की सूरत में वे न्याय मित्र एवं वरिष्ठ वकील राजशेखर राव या वरिष्ठ वकील राहुल मेहरा या दिल्ली सरकार के अतिरिक्त स्थायी वकील सत्यकाम से संपर्क कर सकते हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज