सीएम केजरीवाल बोले- रोजाना किए जा रहे 18 हजार टेस्‍ट, एक फोन कॉल पर मिलेगी ऑक्‍सीजन की सुविधा
Delhi-Ncr News in Hindi

सीएम केजरीवाल बोले- रोजाना किए जा रहे 18 हजार टेस्‍ट, एक फोन कॉल पर मिलेगी ऑक्‍सीजन की सुविधा
पहले 5 हजार टेस्‍ट रोजाना होते थे और अब 18 हजार टेस्‍ट रोजना किए जा रहे हैं.

अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) ने सोमवार को बताया कि कोरोना टेस्‍ट की दर में तीन गुना वृद्धि की गई है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश की राजधानी में कोरोना वायरस (Corona virus) के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जांच में तेजी लाई गई है. मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) ने सोमवार को बताया कि कोरोना टेस्‍ट की दर में तीन गुना वृद्धि की गई है. पहले 5 हजार टेस्‍ट रोजाना होते थे और अब 18 हजार टेस्‍ट रोजना किए जा रहे हैं. साथ ही सीएम ने बताया कि दिल्‍ली में अभी भी 7 हजार COVID-19 बेडे खाली हैं. साथ ही कहा कि 6 हजार कोरोना संक्रमित अस्‍पतालों में भर्ती हैं, जबकि 12 हजार का घर के अंदर ही इलाज चल रहा है. साथ ही सीएम ने भरोसा दिलाया कि जरूरतमंद मरीजों को सिर्फ एक फोन कॉल पर ऑक्‍सीजन की सुविधा मुहैया कराई जाएगी.

सीएम केजरीवाल ने कहा कि यह समय लड़ने-झगड़ने का नहीं है. हमलोग कोरोना को जीतने नहीं दे सकते. उन्‍होंने कहा कि हमलोग चीन से दो युद्ध लड़ रहे हैं. बता दें कि सीमा पर चीन के साथ हिंसक झड़प हुआ है. साथ ही कोरोना वायरस के फैलाव के लिए भी चीन को जिम्‍मेदार माना जा रहा है.


दिल्ली में अभी 25 हजार लोग कोरोना संक्रमित हैं
सीएम केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में अभी 25 हजार लोग कोरोना संक्रमित हैं. एक हफ्ते में एक हजार एक्टिव केस बढ़े हैं. उन्होंने कहा कि कुछ लैब्स टेस्टिंग में गड़बड़ियां कर रही थीं. उन पर कार्रवाई की गई है. साथ ही एन्टीजन टेस्ट भी केंद्र की मदद से शुरू किए गए हैं. उन्होंने कहा कि माइल्ड या बिना लक्षण वाले कोरोना मरीजों का इलाज घर पर किया जाता है. रोज हमारी टीम ऐसे लोगों का हेल्थ अपडेट लेती है. साथ ही उन्हें सलाह भी देती है. वहीं, ऑक्सीजन की बात पर केजरीवाल ने कहा कि जो कोरोना मरीज घर में आइसोलेट हैं, उन्हें सरकार ऑक्सी पल्स मीटर देगी. 10 दिन उसे अपने घर पर रखिये, लेकिन ठीक होने के बाद उसे वापस कर दीजिए.



12 जून तक 5300 बेड भरे हुए थे
केजरीवाल ने कहा कि हर जिले में ऑक्सीजन के कॉन्संट्रेटर रख रहे हैं. 12 जून तक 5300 बेड भरे हुए थे. आज 6200 बेड भरे हुए हैं. उन्होंने कहा कि दस दिनों में 23 हजार नए मरीज सामने आए हैं. इनमें से 900 मरीजों को बेड की ज़रूरत पड़ी है. इसका मतलब है सीरियस केस बहुत कम हैं. उन्होंने बताया कि वर्तमान में दिल्ली में 7000 बेड खाली हैं. युद्धस्तर के ऊपर सरकारी और निजी अस्पतालों में बेड का इंतजाम किया गया है. केंद्र का बहुत सहयोग मिल रहा है. दोनों सरकारें मिलकर कोरोना को हराने का काम कर रही हैं.

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज